क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम का शासन व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका

क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम  भारत की स्वतंत्रता के बाद पुलिस जो क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम का सबसे दृश्यमान अंग है उसकी उन्नति के बजाय नैतिक एवं पेशागत अवनति के प्रति लोग ज्यादा चिंतित हुए । कई विद्वानों ने यह मत दिया कि राज्य की शक्ति चुनाव जैसे वैधानिक प्रावधान और राज्य के दंडात्मक तंत्र से सशक्त होती… Read More »

महिलाओं के उत्थान के लिए सामाजिक व आर्थिक सशक्तीकरण

महिलाओं के उत्थान के लिए सामाजिक व आर्थिक सशक्तीकरण  महिलाओं के उत्थान के लिए सामाजिक व आर्थिक सशक्तीकरण पर्याप्त नहीं है बल्कि राजनीतिक सशक्तीकरण सबसे महत्वपूर्ण है। स्वयं सहायता समूहों को महिलाओं के राजनैतिक सशक्तीकरण के रूप में भी देखा जा सकता है हालांकि पंचायतों में महिलाओं को एक तिहाई आरक्षण के फलस्वरूप गांव की… Read More »

महिला सशक्तिकरण

 आज के माहौल में महिला सशक्तिकरण की बात करने से पहले हमें सवाल का जवाब ढूंढना जरूरी है कि क्या वास्तव में महिलायें अशक्त हैं? यदि अशक्त है तो इतने सारे संवैधानिक उपायों के बाद भी महिलाएं विकास की मुख्य धारा से क्यों नहीं जुड सकी? इतिहास गवाह है कि मानव सभ्यता के विकास के… Read More »

महिला सषक्तिकरण एवं दलित महिलाओं की स्थितिः चुनौतियाँ एवं समाधान

 महिला सषक्तिकरण एवं दलित महिलाओं की स्थितिः चुनौतियाँ एवं समाधान भारत में स्वतन्त्रता मिलने के पहले, मध्यकाल में महिलाओं की स्थिति संतोषजनक नहीं थी। स्वतन्त्रता के बाद संविधान में किये गये अनेक प्राविधानों के जरिये महिलाओं की स्थिति में क्रमशः गुणात्मक सुधार अवश्य हुआ है परन्तु ग्रामीण क्षेत्र में अब भी वंचित समुदाय की महिलाओं… Read More »

विचार एवं विचारधरा

 विचार एवं विचारधरा यह मानना ही पड़ेगा कि बिना विचार के न तो किसी साहित्य की रचना हो सकती है एवं न ही किसी संस्था का निर्माण हो सकता है। समस्त ज्ञान-विज्ञान विचार की ही देन है। जब विचार व्यक्तिगत स्तर से ऊपर उठकर सामाजिक रूप लेने लगते है तो यही विचारधारा बन जाती है।… Read More »

7 उपाय ठंड से बच्चों और बुजुर्गों को बचाने के

 7 उपाय ठंड से बच्चों और बुजुर्गों को बचाने के ठंड (Cold) से बचाव, 07 Tips to Stay Healthy During the Winter Season के उपाय लगभग सभी जानते है परन्तु कितने लोग इसपर अमल करते हैं यही बात फतेह की होती है। गर्मी का मौसम समाप्त और कब मानसून आया और कब निकल गया इसका… Read More »

बिहार में सरकारी दषा दयनीय

   बिहार में विगत तीन दषकों से उर्दू राज्य की दूसरी सरकारी जुबान है। लेकिन इस के बावजूद राज्य में उर्दू की दषा दयनीय है और इस के लिए किसी एक राजनैतिक पार्टी या सरकार को दोषी करार नहीं दिया जा सकता। क्योंकि इस तवील अरसे में कई सियासी पार्टियाॅ सत्ता में रही हैं। ज्ञातव्य… Read More »

उर्दू साहित्य जगत में दरभंगा का स्थान

 डाॅ0 अब्दुल वहाब के नेतृत्व में 1972ई0 में जो स्कूल स्थापित हुआ था वह आज सोगरा गर्ल हाई स्कूल के नाम से मश्हूर है और मुस्लिम समाज की लड़कियांे को शिक्षित करने में अहम भुमिका अदा कर रहा है। दरभंगा शहर में स्थापित यतीम खाना मदरसा, इमामबाड़ी, लहेरियासराय भी मुस्लिम अनाथ बच्चों को तालीम देकर… Read More »

समाजिक, सांस्कृतिक, बौद्धिक, एवं धार्मिक दृष्टि से दरभंगा की जिन्दगी

  दरभंगा अतीत काल से ही समाजिक, सांस्कृतिक, बौद्धिक, एवं धार्मिक  दृष्टि से मिथिलांचल का दिल रहा है। यहाॅ की जीवन्ता से ही मिथिलांचल की जिन्दगी का पता चलता रहा है। राजा जनक एवं सीता की यह धरती मानवता को नई राह दिखाने का जो चराग रौशन किया था वह आज भी दुनिया में फैल रही… Read More »

पूर्व में भारत के मित्र

 पूर्व में भारत के मित्र भारत ‘एक्ट ईस्ट’ नीति के अंतर्गत एषिया-प्रषांत क्षेत्र के पड़ोसी देषों से मित्रता बढ़ाने पर बल दिया जा रहा है। इस नीति का आरंभ यद्यपि आर्थिक सुधार के लिए किया गया था, किंतु समय के साथ-साथ इसके तहत राजनीतिक, सामयिक एवं सांस्कृतिक आयामों में भी सुधार देखने को मिला। पूर्व… Read More »