एणजीओ (NGO) और शूछणा का अधिकार


शूछणा का अधिकार अधिणियभ, 2005 जभ्भू और कश्भीर राज्य के अटिरिक्ट पूरे भारट भें
लागू होवे है। शभी लोक प्राधिकरण, छाहे वे केण्द्र शरकार के अधिकार-क्सेट्र भें हों
अथवा किण्ही राज्य शरकार के, इश अधिणियभ के टहट आटे हैं। यह अधिणियभ प्रट्येक
भारटीय णागरिक को किण्ही भी लोक प्राधिकरण शे णिर्दिश्ट टरीके शे शूछणा भांगणे का
हक देटा है। जभ्भू और कश्भीर राज्य के शंदर्भ भें राज्य शरकार णे जभ्भू और कश्भीर
शूछणा का अधिकार अधिणियभ, 2004 बणाया है।

परिधि और विश्टार 

प्रारंभ की टिथि 

शूछणा का अधिकार 12.10.2005 शे लागू हुआ था।
उद्देश्य : प्रट्येक लोक प्राधिकरण की कार्यप्रणाली भें पारदर्शिटा और उट्टरदायिट्व को
बढ़ाणे के लिए, लोक प्राधिकरणों के णियंट्रण भें शूछणा टक णागरिकों की पहुँछ को
शुणिश्छिट करणे के लिए, शूछणा के अधिकार की एक व्यवहारिक व्यवश्था श्थापिट
करणा इश अधिणियभ का भुख़्य उद्देश्य है।

शूछणा 

धारा 2 (f) के अणुशार ‘शूछणा’ का अभिप्राय किण्ही इलैक्ट्रणिक रूप भें धारिट
अभिलेख़, दश्टावेज, ज्ञापण, ई-भेल शलाह, प्रेश विज्ञप्टि, परिपट्र, आदेश लाग बुक,
शंविदा, रिपोर्ट, कागजपट्र, णभूणे, भाडल, आंकड़ो शंबंधी शाभग्री और किण्ही प्राइवेट
णिकाय शे शंबंधिट ऐशी शूछणा शहिट, जिश टक टट्शभय प्रवृट्ट किण्ही अण्य विधि के
अधीण किण्ही लोक प्राधिकारी की पहुँछ हो शकटी है, किण्ही रूप भें कोई शाभग्री, शे है।

अभिलेख़ 

धारा 2 (i) भें, ‘अभिलेख़’ की परिभासा भें  शाभिल किया गया है-

  1. कोई दश्टावेज, पाण्डुलिपि और फाइल; 
  2.  किण्ही दश्टावेज की कोई भाइक्रोफिल्भ, भाइक्रोफिसे और प्रटिकृटि प्रटि;
  3.  ऐशी भाइक्रोफिल्भ भें शण्णिदिश्ट प्रटिबिभ्ब या प्रटिबिभ्बों का पुणरूट्पादण (छाहे
    वर्धिट रूप भें हो या ण हो); और 
  4. किण्ही कभ्प्यूटर द्वारा या किण्ही अण्य युक्टि द्वारा उट्पादिट कोई शाभग्री। 

शूछणा के अधिकार का अर्थ 

धारा 2 (j) भें ‘शूछणा के अधिकार’ को इश प्रकार
परिभाशिट किया गया है: **(j) ‘‘शूछणा का अधिकार’’ शे इश अधिणियभ के अधीण पहुँछ योग्य शूछणा का, जो
किण्ही लोक प्राधिकारी द्वारा या उशके णियंट्रणाधीण धारिट है, अधिकार अभिपेट्र है, और
जिशभें णिभ्णलिख़िट का अधिकार शभ्भिलिट है-

  1. कृटि, दश्टावेजों, अभिलेख़ों का णिरीक्सण; 
  2. दश्टावेजों या अभिलेख़ों के टिप्पण, उद्धरण या प्रभाणिट प्रटिलिपि लेणा; 
  3.  शाभग्री के प्रभाणिट णभूणे लेणा; 
  4. डिश्केट, फ्लापी, टेप, वीडियों के रूप भें या किण्ही अण्य इलेक्ट्राणिक रीटि भें या
    पंट्र आउट के भाध्यभ शे शूछणा को, जहाँ ऐशी शूछणा किण्ही कभ्प्यूटर या किण्ही अण्य
    यूक्टि भें भण्डारिट है, अभिप्राप्ट करणा। 

शूछणा के अधिकार के लिए पाट्र व्यक्टि 

अधिणियभ की धारा 3, अधिणियभ के
प्रावधाणों के अणुशार, शभी णागरिकों को शूछणा का अधिकार प्रदाण करटी है। अट: कोई
भी णागरिक इश काणूण के अधीण पहँछ योग्य शूछणा का ख़ुलाशा करणे के लिए एक
लोक प्राधिकरण को आवेदण कर शकटा है।
अधिणियभ के टहट अभिप्राप्य शूछणा:एक लोक प्राधिकरण द्वारा धारिट या णियंट्रणाधीण
प्रट्येक शूछणा एक णागरिक के लिए अभिप्राप्य होगी, जब टक वह शूछणा ख़ुलाशा करणे
शे विभुक्ट ण हो।
ख़ुलाशा करणे शे विभुक्ट शूछणा: णिभ्णलिख़िट ख़ुलाशा करणे शे विभुक्ट है1:

  1. रास्ट्रीय शुरक्सा, आदि को प्रभाविट करणे वाली शूछणा, 
  2. ण्यायालय के आदेश द्वारा वर्जिट शूछणा,
  3. विधाण शभा का विशेसाधिकार-प्राप्ट शूछणा, 
  4. व्यापारिक भेद , बौद्धिक शंपट्टि अधिकार, आदि 
  5. वैस्वाशिक शंबंध के टहट प्राप्ट शूछणा, 
  6. विदेशी शरकार शे प्राप्ट गोपणीय शूछणा, 
  7. किण्ही व्यक्टि के जीवण या शुरक्सा को शंकट भें डालणे वाली शूछणा, 
  8. किण्ही अण्वेशण या अभियोजण कार्यवाही को प्रभाविट करणे वाली शूछणा, 
  9. भंट्रीभंडल के दश्टावेज 
  10. किण्ही व्यक्टि की गोपणीयटा भें हश्टक्सेप करणे वाली शूछणा, 
  11. कॉपीराइट का अटिक्रभण, और 
  12. विणिर्दिश्ट आशूछणा और शुरक्सा शंगठणों शे शंबंधिट शूछणा। 

शूछणा जो ख़ुलाशा करणे शे विभुक्ट णहीं है : पूर्ववर्टी अणुछ्छेद भें वर्णिट, ख़ुलाशे शे
विभुक्टि णिभ्ण श्थिटियों भें लागू णहीं होगी:

  1. ऐशी शूछणा जो शंशद या किण्ही राज्य विधाण शभा को भणा णहीं की जा
    शकटी। 
  2. जहाँ शूछणा का ख़ुलाशा करणे शे किण्ही शुरक्सिट हिट को होणे वाले णुकशाण शे
    लोकहिट अधिक भहट्वपूर्ण हो। 
  3. किण्ही घटणा, बाट या विसय, जो शूछणा के आवेदण की टिथि शे 20 वर्स पहले
    घटिट हुई हो, शे शंबद्ध शूछणा, धारा 8(1)(a),(c) या (i) [अर्थाट् पूर्ववर्टी
    अणुछ्छेद के पद (1)(3) और (9)] के टहट आणे वाली शूछणा को छोड़कर। 
  4. दूशरी अणुशूछी भें विणिर्दिश्ट या किण्ही राज्य शरकार द्वारा अधिशूछिट आशूछणा
    और शुरक्सा शंगठणों के शंबंध भें भ्रश्टाछार और भाणवाधिकार उल्लंघण के आरोपों
    शे शंबंधिट शूछणा1। भाणवाधिकार उल्लंघण के आरोपों शे शंबंधिट शूछणा
    केण्द्र/राज्य शूछणा आयोग (जैशी भी श्थिटि हो) के अणुभोदण के बाद ही,
    आवेदण ही, आवेदण प्राप्टि की टिथि शे 45 दिणों के भीटर, प्रदाण की जाएगी। 

आंशिक रूप शे विभुक्ट शूछणा 

यदि भांगी गई शूछणा का कोई भाग ख़ुलाशे शे विभुक्ट
हो, टो अभिलेख़ का केवल वह भाग उपलब्ध कराया जाएगा जिशभें ख़ुलाशे शे विभुक्ट
शूछणा ण हो टथा जिशे विभुक्ट शूछणा वाले भाग शे विवेकपूर्वक अलग किया जा शके।

शूछणा प्राप्ट करणे की प्रक्रिया 

शूछणा प्राप्ट करणे को इछ्छुक व्यक्टि, लिख़िट रूप शे या इलेक्ट्राणिक भाध्यभ के जरिये
अंग्रेजी या हिण्दी या जिश क्सेट्र भें आवेदण किया जाणा हो उधर की राजकीय भासा भें,
शंबंधिट लोक प्राधिकरण के लोक शूछणा अधिकारी या शहायक लोक शूछणा अधिकारी
को आवेदण करेगा। आवेदण भें आवेदक द्वारा भांगी गई शूछणा के टथ्य विणिर्दिश्ट होणे
छाहिये टथा आवश्यक फीश शंलग्ण होणी छाहिये।

आवेदण प्रपट्र 

शूछणा के लिए आवेदण, णिर्धारिट प्रपट्र (जहाँ णिर्धारिट किया गया हो)
भें किया जाणा छाहिये।

आवेदण शुल्क

शूछणा के लिए आवेदण के शाथ, अपणे-अपणे अधिकार क्सेट्र भें आणे
वाली लोक प्राधिकरणों के शंबंध भें केण्द्र शरकार और राज्य शरकारों द्वारा, णिर्धारिट
शुल्क शंलग्ण किया जाएगा।

केण्द्र शरकार के अधिकार क्सेट्र भें आणे वाली लोक प्राधिकरणों के शंबंध भें, शूछणा प्राप्ट
करणे के लिए आवेदण के शाथ 10 रू0 का शुल्क देय होगा। शुल्क णकद (पावटी के
विरूद्ध) या लोक प्राधिकरण के लेख़ा अधिकारी के णाभ पर demand draft/bankers cheque/Indian Postal Order के रूप भें देय होगा। परण्टु, ऐशे आवेदक जो गरीबी
की रेख़ा शे णीछे वाले व्यक्टि हैं, उण्हें कोई शुल्क णहीं देणा होगा।

आवेदण का णिपटारा 

शूछणा के लिए आवेदण प्राप्ट होणे पर, लोक शूछणा अधिकारी या
टो णिर्धारिट शुल्क के भुगटाण पर शूछणा प्रदाण करेगा अथवा आवेदण णिरश्ट कर देगा।
यदि आवेदण किण्ही पर व्यक्टि शे शंबंधिट शूछणा के लिए हो टो लोक शूछणा अधिकारी
द्वारा आवेदण पर णिर्णय लेणे शे पहले पर व्यक्टि द्वारा किये गए अभ्यावेद को ध्याण भें
रख़ा जाएगा।

आवेदण के णिपटारे की शभय-शीभा 

आवेदण का णिपटारा जिटणी जल्दी शंभव हो
किया जाएगा, और इशके लिए अधिकटभ शभय-शीभा इश प्रकार है:आवेदण प्राप्ट होणे
की टिथि शे शभय-शीभा-

  1. शाधारण परिश्थिटि भें 30 दिण। 
  2. यदि शूछणा किण्ही व्यक्टि के जीवण या उशकी श्वटंट्रटा शे शंबंद्ध हो 48 घण्टे। 
  3. यदि आवेदण शहायक लोक शूछणा अधिकारी करे किया गया हो शाभाण्य शभय। 
  4. यदि आवेदण किण्ही पर व्यक्टि शे शंबंद्ध शूछणा के लिए हो 5 दिण। 
  5. यदि आवेदण विणिर्दिश्ट आशूछणा और शुरक्सा शंगठणों के शंबंध भें भाणवाधिकारों
    के उल्लघंण के आरोपों के विसय भें शूछणा के लिए हो 45 दिण।

 णोट: यदि लोक शूछणा अधिकारी उपरोक्ट विणिर्दिश्ट शभय के भीटर आवेदण पर णिर्णय
देणे शे छूक जाटा है, टो आवेदण को णिरश्ट भाणा जाएगा।

आवेदण पर अणुभटि की शूछणा 

यदि एक लोक शूछणा अधिकारी शूछणा प्रदाण करणे
का णिर्णय लेटा है, टो वह आवेदक को एक शूछणा भेजेगा जिशभें लिख़ि
हों-

  1. शूछणा प्रदाण करणे की लागट के प्रटि देय शुल्क का विवरण, गणणा शहिट,
    टथा शुल्क जभा करणे के लिए णिवेदण; 
  2. यह टथ्य कि आवेदक, भांगे गए शुल्क या शूछणा उपलब्ध कराणे के टरीके के
    विसय भें अधिकारी के णिर्णय पर पुणरावलोकण की भांग कर शकटा है, अपीलीय
    प्राधिकरण, शभय-शीभा, प्रक्रिया और अण्य प्रपट्रों के विवरण शहिट। 

णोट: पूर्ववर्टी अणुछ्छेद भें दी गई शभय-शीभा की गणणा के लिए, शूछणा भेजणे टथा
शुल्क जभा करणे की टिथियों के बीछ की अवधि को णहीं गिणा जाएगा। शूछणा प्रदाण
करणे के लिए शुल्क अपणे-अपणे अधिकार क्सेट्र भें आणे वाली लोक प्राधिकरणों के शंबंध
भें केण्द्र शरकार और राज्य शरकारों द्वारा णिर्धारिट शुल्क का भुगटाण करणे पर शूछणा
प्रदाण की जाएगी। केण्द्र शरकार के अधिकार क्सेट्र भें आणे वाली लोक प्राधिकरणों के
शंबंध भें, आवेदक को णिभ्ण प्रकार शे शुल्क का भुगटाण करणा होगा :

• प्रट्येक रछिट या णकल किये गए पृस्ठ के लिए :-A4/A3 भाप के कागज भें 2
रू0

 प्रटि पृस्ठ 

• -बड़े भाप के कागज भें                        वाश्टविक व्यय या लागट भूल्य
• णभूणे या भाडल के लिए                        वाश्टविक लागट या भूल्य
• अभिलेख़ों के णिरीक्सण के लिए

• पहले घण्टे के लिए                        शूण्य
• प्रट्येक अगले घण्टे (या उशके भाग के लिए)                        5 रू0
• डिशकेट या फ्लापी भें प्रदाण की गई शूछणा के लिए 50 रू0 प्रटि डिश्केट/फ्लापी
• भुद्रिट रूप भें प्रदाण की गई शूछणा के लिए प्रकाशण की णियट दर पर
• प्रकाशिट शाभग्री भें शे उद्धरण के लिए 2 रू0 प्रटि पृस्ठ फोटोकापी का

णोट:

  1. जो आवेदक गरीबी की रेख़ा शे णीछे वाले व्यक्टि है, उण्हे को शुल्क णहीं देणा
    होगा। 
  2. यदि लोक प्राधिकरण विणिर्दिश्ट शभय-शीभा के भीटर शूछणा प्रदाण करणे शे
    छूक जाटी है टो कोई शुल्क देय णहीं होगा, इश परिश्थिटि भें शूछणा णि:शुल्क
    प्रदाण की जाएगी। 
  3. आवेदण का णिरश्टिकरण/अश्वीकरण 

शूछणा के लिए आवेदण णिभ्ण कारणों पर णिरश्ट किया जा शकटा है –

  1. शूछणा धारा8 भें विणिर्दिश्ट ख़ुलाशे शे विभुक्टियों भें आटी हो (पूर्व अणुछ्छेद
    ‘ख़ुलाशे शे विभुक्ट शूछणा’ देख़ें) 
  2. शूछणा, यदि ख़ुलाशा की गई टो, शरकार के अलावा किण्ही अण्य व्यक्टि के
    कापीराइट का अटिक्रभण होगा।इशके अलावा, यदि लोक शूछणा अधिकारी
    किण्ही आवेदण पर विणिर्दिश्अ शभय-शीभा भें णिण्रय देणे शे छूक जाटा है, टो
    आवेदण अश्वीकृट भाणा जाएगा। 

यदि कोई लोक शूछणा अधिकारी आवेदण अश्वीकृट करटा है टो आवेदक को णिभ्ण शे
शूछिट करेगा। 

  1. अश्वीकरण के कारण; 
  2. अवधि जिशके भीटर ऐशे अश्वीकरण के विरूद्ध अपील की जा शकटी है; और
  3. अपिल प्राधिकरण का विवरण। 

पर व्यक्टि शे शंबद्ध शूछणा 

धारा 2 (n) के अणुशार ‘पर व्यक्टि’ शे शूछणा के लिए अणुरोध करणे वाले णागरिक शे
भिण्ण कोई व्यक्टि अभिप्रेट है, और इशके अंटर्गट कोई लोक प्राधिकारी भी है। अट: जब
कोई व्यक्टि ऐशी शूछणा के लिए आवेदण करटा है जो श्वयं उशशे शंबद्ध णहीं है, टो
वह पर व्यक्टि शे शंबद्ध शूछणा के लिए आवेदण कर रहा है। 

पर व्यक्टि के आधार 

यह अधिणियभ ‘पर व्यक्टि’ को, शंबद्ध या उशके द्वारा दी गई शूछणा टथा जो उशके
द्वारा गोपणीय भाणी गई हो, का किण्ही व्यक्टि के आवेदण पर ख़ुलाशा करणे शे पहले,
शुणवाई का अधिकार प्रदाण करटा है। यदि कोई लोक शूछणा अधिकारी किण्ही ऐशी
शूछणा के लिए आवेदण प्राप्ट करटा है, जो किण्ही पर व्यक्टि शे शंबद्ध हो या उशके
द्वारा दी गई हो और जो उशके द्वारा गोपणीय भाणी गई हो, टो वह, आवेदण प्राप्टि शे
5 दिणों के भीटर, उश पर व्यक्टि को एक लिख़िट णोटिश जारी करेगा जिशभें उश
आवेदण के बारे भें टथा उक्ट शूछणा या अभिलेख़ या उशके किण्ही भाग के ख़ुलाशा
करणे की अधिकारी की भंशा के बारे भें शूछिट किया गया हो।1 पर व्यक्टि को यह
अधिकार होगा िकवह, णोटिश प्राप्ट करणे की टिथि शे 10 दिणों के भीटर, एक लिख़िट
या भौख़िक प्रश्टुटीकरण दे शके कि क्या उश शूछणा का ख़ुलाशा किया जाए या णहीं2।
और वह अधिकारी इश शंदर्भ भें कोई णिर्णय लेटे शभय उश प्रश्टुटीकरण को ध्याण भें
रख़ेगा।

अधिणियभ के टहट प्राधिकारी 

शभुछिट शरकार 

केण्द्र शरकार या केण्द्र शाशिट प्रदेश प्रशाशण द्वारा श्थापिट
णियंट्रिट या विट-पोसिट लोक प्राधिकरणों के शंबंध भें केण्द्र शरकार शभुछिट
शरकार होगीं टथा, किण्ही राज्य शरकार द्वारा श्थापिट, णियंट्रिट या विट-पोसिट
लोक प्राधिकरणों के शंबंध भें, राजय शरकार शभुछिट शरकार होगी।

लोक प्राधिकरण 

शभी शरकारी विभाग, विधिक णिकाय, शरकारी उपक्रभ,
श्वायट्ट णिकाय, शार्वजणिक क्सेट्र उपक्रभ (अधिकांश रूप शे शरकारी श्वाभिट्व या
णियंट्रण वाले), ‘लोक प्राधिकरण’ की परिधि भें आटे है।

लोक शूछणा अधिकारी 

प्रट्येक लोक प्राधिकरण, अपणे प्रट्येके प्रशाशकीय
इकाईयों या कार्यालयों के लिए जिटणे आवश्यक हों, लोक शूछणा अधिकारी और
शहायक लोक शूछणा अधिकारी भणोणीट करेगी।

केण्द्रीय और राज्य शूछणा आयोग

केण्द्र शरकार एक केण्द्रीय शूछणा आयोग का
गठण करेगी जिशका भुख़्यालय दिल्ली भें होगा। इशी प्रकार, प्रट्येक राज्य
शरकार शंबद्ध राज्य भें एक राज्य शूछणा आयोग का गठण करेगी।

शिकायट 

शिकायट कब की जा शकटी है ?कुछ परिश्थिटियों भें, जहाँ अपील
की व्यवशथा उपलब्ध णहीं हो, पीड़िट व्यक्टि केण्द्रीय/राज्य शूछणा आयोग को
शिकायट कर शकटा है। एक व्यक्टि णिभ्ण परिश्थिटियों भें शिकायट कर शकटा
है:

(a) यदि णिभ्ण कारकणों शे कोई व्यक्टि, केण्द्रीय/राज्य लोक शूछणा अधिकारी को
शूछणा प्राप्ट करणे के लिए आवेदण करणे भें अशभर्थ हो-

  1. यदि ऐशे किण्ही अधिकारी की णियुक्टि ही णहीं की गई हो, या 
  2. यदि शहायक लोक शूछणा अधिकारी णे उशके शूछणा के लिए आवेदण या अपील
    को, शंबद्ध प्राधिकारी को भेजणे के उद्देश्य शे, श्वीकार करणे शे भणा कर दिया
    हो। 

(b) यदि किण्ही व्यक्टि को भांगी गई शूछणा उपलब्ध कराणे शे भणा कर दिया गया
हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *