क्रिभिणल जश्टिश शिश्टभ का शाशण व्यवश्था भें भहट्वपूर्ण भूभिका

क्रिभिणल जश्टिश शिश्टभ

 भारट की श्वटंट्रटा के बाद पुलिश जो क्रिभिणल जश्टिश शिश्टभ का शबशे दृश्यभाण अंग है उशकी उण्णटि के बजाय णैटिक एवं पेशागट अवणटि के प्रटि लोग ज्यादा छिंटिट हुए । कई विद्वाणों णे यह भट दिया कि राज्य की शक्टि छुणाव जैशे वैधाणिक प्रावधाण और राज्य के दंडाट्भक टंट्र शे शशक्ट होटी है। पुलिश राज्य शक्टि का शर्वाधिक दृस्टिगोछर होणे वाला दंडाट्भक टंट्र का अंग है। पुलिश को विधि-व्यवश्था शंछारिट करणे और शुरक्सा बणाये रख़णे का जो काभ दिया गया है, वह राज्य की शक्टि का प्रटीक है। इश काभ को शभ्पण्ण करणे भें पुलिश शे अपेक्सा है कि वह शभी णागरिकों के लिए शुरक्सा और विधि का शाशण शुणिश्छिट करेगी। शाशण व्यवश्था भें पुलिश की एक भहट्वपूर्ण भूभिका है जो शुरक्सा व्यवश्था के भाध्यभ शे शाभाजिक, आर्थिक एव राजणैटिक श्थिटि को भी प्रभाविट करटी है। भारट एक विविधटा पूर्ण राज्य है जिशभें कई धर्भ, जाटि, भासा, शंश्कृटि, रंग-रूप के लोग रहटे है। अटः भारट भें विधि के शाशण को शंछारिट करणे वाली लोकटांट्रिक पुलिश की प्राशंगिकटा अधिक है। यद्यपि लोकटंट्र भें पुलिश को एक बल के बजाय शेवा होणा छाहिए जो शभी व्यक्टियों की शुरक्सा, श्वटंट्रटा एवं अधिकार शुणिश्छिट करें लेकिण विडभ्बणा यह है कि पुलिश के देख़णे भाट्र शे लोगों भें भय की भावणा व्याप्ट हो जाटी है। 

पुलिश का काभ णियंट्रण, दभण और विणियभण

इशका कारण यह प्रटीट होवे है, कि पुलिश का अधिकांश प्रयोग लोगों को णियंट्रिट करणे के उद्देश्य शे भय पैदा करणे के लिए किया जाटा है। कठोर भासा का प्रयोग करणा या अभियुक्ट आदि के शाथ भारपीट करणा पुलिश के श्वभाव का अंग भाणा जाटा है। हभ 1947 भें उपणिवेशवाद शे भुक्टि पा छुके हैं परंटु हभारी पुलिश अभी भी औपणिवेशिक भाणी जाटी है और यह शभझा जाटा है कि पुलिश का काभ णियंट्रण, दभण और विणियभण है ण कि शेवा। 1902 के णेशणल पुलिश कभीशण के बाद 1978 भें पुलिश कभीशण का गठण हुआ, कई राज्यों णे पुलिश कभीशण बणायें उणके प्रटिवेदण शभर्पिट हुए किंटु शभेकिट रूप शे उणपर विछार णहीं हो शका। पुलिश की भूभिका पर कभी कुछ पीड़िटों णे आवाज उठायी टो कभी श्वयं पुलिश णे शंगठणाट्भक श्वटंट्रटा के लिए भाँग के रूप भें पुलिश शुधार की बाट कही। किण्टु इश प्रक्रिया भें भी पुलिश को लोकटांट्रिक बणाणे के लिए पुलिश की णागरिकों द्वारा भोणीटरिंग के विसय पर कभी कोई बहश णहीं हुई। जणशाभाण्य पुलिश के आलोछक होणे के बावजूद पुलिश भें शुधार शे बहुट शरोकार णहीं रख़टे हैं। भाट्र कुछ शिविल शंगठणों यथा काॅभणवेल्थ ह्यूभण राइट्श इणीशिएटिव ;ब्भ्ट्प्द्धस्ए द पीपलश यूणियण फाॅर शिविल लिवर्टीज आदि द्वारा टथा कुछ अण्य भाणव अधिकार शंगठणों णे पुलिश शुधार की बाट कही है।

प्रशाशण एवं पुलिश व्यवश्था

भारट भें वर्टभाण श्वरूप भें श्थिट प्रशाशण एवं पुलिश व्यवश्था की श्थापणा ईश्ट इंडिया कभ्पणी के द्वारा की गयी थी जिशे बाद भें ब्रिटिश शरकार द्वारा और भजबूटी शे अंगीकार किया गया। अटः णिस्कर्स रूप भें इशका छरिट्र दभणाट्भक ही रहा। केवल पुलिश ही णहीं भारट के पूरे क्रिभिणल जश्टिश शिश्टभ का श्वरूप औपणिवेशक है क्योंकि इश विसय शे शंबंधिट शभी भूल काणूण 1857 के भारट के प्रथभ श्वटंट्रटा शंग्राभ के बाद अवटरिट हुए। पुलिश एक्ट 1861 भें बणाया गया। भारट की दंड विधाण शंहिटा 1860 भें, दंड प्रक्रिया शंहिटा 1862 भें, भारटीय शाक्स्य अधिणियभ 1872 भें और क्रिभिणल ट्राईब्श एक्ट 1868 भें णिर्भिट हुआ टथा ये ही अधिणियभ भारट के क्रिभिणल जश्टिश शिश्टभ की णींव है। यद्यपि बाद भें क्रिभिणल ट्राईब्श एक्ट और भरटीय दंड प्रक्रिया शंहिटा भें परिर्वटण हुआ किंटु इणभें पुलिश की भूभिका शे शंबंधिट जो प्रावधाण थे उणभें कोई बदलाव णहीं आया अटः पुलिश की भूभिका यथावट रही। 1902-1903 भें अंग्रेजों द्वारा बणाये गये पुलिश कभीशण की छर्छा ऊपर की जा छुकी है और यह श्पस्ट किया जा छुका है कि इशके बावजूद पुलिश भें काई उल्लेख़णीय शुधार णहीं हुआ। यह दुख़द है कि 1904 भें पुलिश कभीशण णे अपणे प्रटिवेदण भें भारटीय पुलिश को अक्सभ, ट्रृटिपूर्ण प्रशाशण और शंगठण वाला बटाटे हुए भ्रस्ट एवं दभणकारी कहा था

और आज 100 वर्स शे अधिक बीट जाणे के बाद भी इश धारणा भें कोई परिवर्टण णहीं देख़ा जा रहा है। अब जब हभ पुलिश के बदलाव की बाट करटे है टो हभारी अपेक्सा एक लोकटांट्रिक पुलिश की है। लोकटांट्रिक पुलिश का क्या श्वरूप होगा यह जाणणा आवश्यक है। लोकटंट्र भें पुलिश केवल एक काणूण प्रवर्टण अभिकरण णहीं रह शकटी बल्कि इशे शेवाभूलक शंगठण बणाणे की आवश्यकटा है। शेवाभूलक शंगठण बणाणे के लिए पुलिश को विधि के शाशण के शाथ-शाथ जणटा के प्रटि उट्टरदायी होणा अणिवार्य है। पुलिश ही णहीं भारटीय लोकटंट्र के लिए भी यह एक छुणौटी है। भारटीय पुलिश जणटा के प्रटि उट्टरदायी णहीं बणायी जा शकी है। पुलिश भें भणभाणी करणे का श्वभाव भी विद्यभाण है, जो लोकटंट्र और विधि के शाशण दोणों ही शिद्धाटों के प्रटिकूल है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *