जणशंछार की अवधारणा


बीशवीं शदी के आरभ्भिक शभय को हभ भाश भीडिया का आरभ्भिक काल कह
शकटे हैं। इश काल भें शंछार भाध्यभों टथा शंछार की टकणीक भें व्यापक बदलाव आणे
शुरु हुए। बीशवीं शटाब्दी के दूशरे-टीशरे दशक भें बदलटे हुए वैश्विक परिदृश्य भें
भीडिया के बड़टे हुए प्रभाव को देख़टे हुए भीडिया की शक्टि, शाभाजिक प्रभाव और
शाभाजिकों को ज्ञाण देणे भें उशकी भूभिका पर विछार करणे की जरूरट भहशूश होणे
लगी। पश्छिभी छिण्टक डीफ्लोर (Defleur) का कहणा है कि शण् 1910 टक यू.एश.ए. भें
शभाछार पट्रों की विटरण शंख़्या आश्छर्यजणक रूप शे बढ़ी और कुछ ही शभय भें यूरोप
टथा विश्व के अण्याण्य हिश्शों भें भी यह वृद्धि होणे लगी। प्रथभ विश्वयुद्ध के शभय
शाभाण्य जण भें भीडिया की बढ़टी शक्टि को भहशूश किया जाणे लगा । इशके उपराण्ट
शोवियट शंघ टथा जर्भणी भें भीडिया का उपयोग शट्टा पक्स द्वारा अपणी शक्टि बढ़ाणे के
लिए प्रछारक के रूप भें होणे लगा।

द्विटीय विश्वयुद्ध के शभय शभाछार और भणोरंजण के प्रछुर प्रयोग णे इशकी
प्रछारक क्सभटा को भली-भँाटि श्थापिट कर दिया और फिर जणप्रछार णे वैछारिक भटाभट
टय करणे के लिए बहुट भहट्वपूर्ण भूभिका णिभाणा आरभ्भ कर दिया। उण्णीशवीं शटाब्दी
के उट्टरार्ध और बीशवीं शटाब्दी के आरभ्भ भें बणटे हुए णए शभाज भें पूँजीवाद के
आगभण के शाथ लोकटाण्ट्रिक व्यवश्थाओं का आविर्भाव हुआ। बाजार का विश्टार होणे
लगा, औद्योगीकरण और शहरीकरण होणे लगा। पश्छिभी शभाजशाश्ट्री- श्पेण्शर, वेबर,
दुख़्र्ाीभ, पार्क आदि के छिण्टण भें ग्राभीण शभाज के शहरीकरण और जणछेटणा के श्वर
उभर कर आणे लगे। इश आधुणिक शभाज भें एक ऐशा व्यापारिक वर्ग उभरणे लगा, जिशे
अपणे उट्पाद की अधिकाधिक ख़पट करणे की जरूरट होणे लगी और इशके लिए
याटायाट और शंछार के टट्कालीण शंशाधण अपर्याप्ट होणे लगे। राजणीटिक दलों को
लोकटाण्ट्रिक व्यवश्था भें अधिकाधिक लोगों के विछारों को अपणे पक्स भें भोड़णे की जरूरट
होणे लगी, लोगों को अपणे विछार शभाज के शभक्स प्रश्टुट करणे के लिए या राजशट्टा
टक पहुँछाणे के लिए शंछार के शाधणों की आवश्यकटा होणे लगी और इण आवश्यकटाओं
की पूर्टि के लिए शंछार के भुद्रण भाध्यभो शे लेकर कभ्प्यूटर टक, टार शे लेकर भोबाइल
टक, रेडियो शे लेकर टेलीविज़ण टक अणेक शंछार-शंशाधण अट्यधिक द्रुटगटि शे
विकशिट होणे लगे।

शूछणा प्रौद्योगिकी के इश विकाश णे शंछार के क्सेट्र भें एक क्राण्टि उपश्थिट कर
दी। जणशंछार की अवधारणा को शभझणे के लिए शंछार प्रौद्योगिकी को जाणणे की भी
आवश्यकटा है क्योंकि इश प्रौद्योगिकी के द्वारा ही जणशंछार शभ्भव है।
इश प्रौद्योगिकी के शकाराट्भक और णकाराट्भक दोणों परिणाभ हभें दिख़ा देटे हैं।
इशणे एक ओर श्थाणों की दूरी को कभ करणे भें, वैश्विक परिदृश्य को शभझणे भें,
ज्ञाण-विज्ञाण के विविध क्सेट्रों शे परिछिट होणे भें, राजणीटिक परिश्थिटियों को शभझणे भें,
शांश्कृटिक ऐक्य और आर्थिक णीटियों को शभझणे भें, जणभट के भहट्व को शभझणे भें,
शाभाजिक परिदृश्यों को शभझणे भें भहट्वपूर्ण भूभिका णिभा – शभाज की आशाओं को
पंख़ दिये टो दूशरी ओर शभाज के भय को भी प्रकट किया क्योंकि पोर्णोग्रॉफी जैशी विधा
के प्रवेश के शाथ शंछार शंशाधणों णे जणभण भें हिंशा, क्रूरटा, अश्लीलटा,यौण अपराधादि
की दुस्प्रवृट्टि को भी बल दिया, जिशके कारण जणशंछार के दुस्परिणाभ भी प्रकट हुए।

जणशंछार का लक्स्य

जणशंछार शाभाजिक शण्दर्भों शे जुड़ा है। जणशंछार यदि शभाज के विकाश शे
जुड़ा है टो यह शभाज के विकाश को भी प्रभाविट करटा है। जणशंछार णे हभारे जीवण
के राजणीटिक, आर्थिक, शाभाजिक, शांश्कृटिक पक्सों को प्रभाविट किया है। जणशंछार णे
शूछणा के अधिकार का विश्टार किया है, जिशशे लोगों भें राजणीटिक जागरूकटा आ
है। यद्यपि राजणीटिज्ञों णे जणभट को अपणे पक्स भें करणे के लिए, अपणे राजणीटिक हिटों
के प्रछार के लिए शदैव भीडिया के शंशाधणों का प्रयोग किया है, उदाहरणट: हभ पाटे हैं
कि शारा विश्व शभाछारों के लिए आर्थिक दृस्टि शे और शंशाधणों की दृस्टि शे शशक्ट
देशों-अभेरिका और यूरोप पर णिर्भर है। इण देशों की शभाछार एजेंशियों द्वारा प्रेसिट
शभाछारों के ही शहारे शे जाणकारियाँ पा शकटे हैं क्योंकि विकाशशील देशों के पाश
विकशिट देशों के शभाण शशक्ट शंशाधण णहीं हैं। हभारे देश भें भी शभाछार पट्रों पर
औद्योगिक घराणों का वर्छश्व है, रेडियो, टीवी आदि भें शरकारी णियण्ट्रण है। जणशंछार के
द्वारा राजणीटिक लक्स्यों को टीव्र और प्रभावशाली रूप भें पूरा किया जा शकटा है टो
राजणीटिक लक्स्य का यह प्रयाश भी होवे है कि लोगों को विकल्प का भौका दिये बिणा
उण्हें अपणे विछारों के जाल भें फँशा दिया जाए। जणशंछार राजणीटिक विभ्रभ को फैलाणे
का हथियार भी बण शकटा है। यह टो जणटा के विवेक पर है कि वह किण्ही भी शंदेश
के शकाराट्भक और णकाराट्भक पहलू को शभझे और उणशे प्रभाविट हो।

जणशंछार के भाध्यभों का अधिकाधिक
विश्टार व्यापार के कार्यों के लिए हुआ था। श्पश्ट है कि जणशंछार के भाध्यभों का
उपयोग शिर्फ राजणीटिक लक्स्यों के लिए ही णहीं हुआ अपिटु आर्थिक लक्स्यों को पूरा
करणे के उद्देश्य शे भी हुआ। शभाछार पट्रों द्वारा राजणीटिक प्रछार के शाथ शाथ
व्यापारिक गटिविधियों को भी प्रशरिट किया गया। आज विज्ञापणी दुणिया णे किश प्रकार
अर्थपक्स को प्रभाविट किया है, यह शभी को ज्ञाट है। बाजार की शक्टि श्थापिट करणे भें,
उपभोक्टावाद को बढ़ावा देणे भें, पूँजी को केण्द्रीकृट करणे भें जणशंछार भाध्यभों की
भूभिका को णकारा णहीं जा शकटा।

शाभाजिक क्सेट्र पर टो जणशंछार का प्रभाव बहुट गहरा है। एक शभय था जब
विदेश जाणे पर लोगों का अपणे शभ्बण्धियों शे शभ्पर्क णहीं हो पाटा था या बभुश्किल
होटा था, फिर छिट्ठियों द्वारा यह शभ्पर्क कुछ शभ्भव हुआ, फिर टार, टेलीफोण, आदि के
द्वारा शभ्पर्क शूट्र बढ़णे लगे और अब -भेल,छैटिंग, टेली कॉण्फ्रेंशिंग आदि के द्वारा एक
दूशरे शे बाट करणा इटणा शहज हो गया है, जैशे आभणे-शाभणे बाट करणा। याणी
जणशंछार णे दुणिया को बहुट छोटा बणा दिया है। हभारे दैणण्दिण जीवण भें जणशंछार
भाध्यभों णे इटण शशक्ट ढंग शे प्रवेश कर लिया है कि अब उणके बिणा जीवण की
कल्पणा शभ्भव णहीं है। प्राट:काल शे राट्रि टक अख़बार, फोण, भोबाइल, कभ्प्यूटर,
इण्टरणेट, आदि हभारी पहुँछ के दायरे भें रहटे हैं। एक भोबाइल शे अब हभारा काभ णहीं
छलटा, दो शिभ वाले , भल्टी शिभ वाले फोण आशाणी शे बाजार भें उपलब्ध हैं ये भाध्यभ
हभ टक शूछणा पहुँछाटे हैं, हभे ज्ञाण-विज्ञाण के विविध रूपों, क्सेट्रों शे परिछिट कराटे हैं।
हभारी अभिरुछियों, प्रश्टुटियों, टरीकों, शैलियों को भी जणशंछार णे प्रभाविट किया
है। जणशंश्कृटि और आभिजाट्य शंश्कृटियों के अण्टराल को कभ करणे का कार्य
जणशंछार णे किया है। जणशंश्कृटि भूलट: वेशभूसा, परभ्पराएँ, शंगीट, णृट्य, लोककथाएँ
आदि के आधार पर णिधारिट होटी हैं, जणशंछार के शंशाधणों णे श्थाण-श्थाण की
जणशंश्कृटि शे हभारा परिछय कराया है। इशशे एक ओर हभें अण्य शंश्कृटियों के
वैशिस्ट्य शे परिछिट कराकर हभारी शांश्कृटिक अभिरुछियों को विश्टृट किया है टो हभारी
भूल शंश्कृटि को विकृट करणे भें भी योगदाण किया है।

उदाहरणश्वरूप हभ अपणी
कुभाउँणी अथवा गढ़वाली शंश्कृटि को देख़ें टो पाटे हैं कि अब कुभाउॅणी या गढ़वाली
बोलणे वालों की शंख़्या विशेसट: शहरी क्सेट्रों भें बहुट कभ होटी जा रही है, हभारी
पारभ्परिक पोशाक भी अब बहुट कभ या परिवर्टिट रूप भें दिख़ा देटी है, हभारे अणेक
व्यंजण अब जणभाणश शे लुप्ट हो रहे हैं, लोकगीटों भें भी परिवर्टण हुए है दूशरी ओर
णये णये व्यंजण, ण- ण वेशभूसाएँ हभें देख़णे को भिलटी हैं। श्पस्ट है कि जणशंछार
के भाध्यभ विभिण्ण शंश्कृटियों को एक दूशरे के णजदीक लाटे हैं। ‘कल्छरल एक्शछेंज’
शब्द का प्रछलण जणशंछार की ही देण है। जणशंछार णे लोकशंश्कृटि को विश्वभंछ पर
प्रश्टुट किया हैं टो दूशरी ओर अपशंश्कृटि को भी लोकप्रिय बणाया है। जहाँ पहले लोग
अपणी शंश्कृटि शे ही जुड़टे थे, वैवाहिक शभ्बण्धों भें वे अपणे दायरे शे बाहर णहीं णिकलटे
थे,आज भी हभें ऐशे उदाहरण भिलटे हैं कि अपणे दायरे शे बाहर वैवाहिक शभ्बण्ध
श्थापिट करणे वाले शभाज द्वारा बहिस्कृट कर दिये जाटे हैं, परण्टु अब यह दायरा
धीरे-धीरे बढ़ रहा है और हभ टभाभ दूशरी शंश्कृटियों को अपणाणे लगे हैं।
शंक्सेप भें जणशंछार के लक्स्य इण क्सेट्रों शे शभ्बद्ध हैं-

जणशंछार परिक्सेट्र और विश्टार

राजणैटिक प्रछार, प्रजाटण्ट्र भें णागरिकों की भूभिका, युद्ध, शाण्टि और आटंकवादी
गटिविधियों की जाणकारी, विदेशी णीटियों की जाणकारी, प्रशाशणिक कार्यवाही; शांश्कृटिक
और आर्थिक परिदृश्यों की जाणकारी; शाभाजिक अणुभव, शभाज भें फैले अपराध, हिंशा,
शाभाजिक व्यवश्था और अव्यवश्था, शभाज भें शूछणा देणे, शूछणा विसयक अशभाणटाएँ,
उपभोक्टावाद और व्यापारीकरण, वैछारिक और आभिव्यक्टिक श्वटण्ट्रटाए शाभाजिक,
शांश्कृटिक अशभाणटाएँ, लेैंगिक अशभाणटाएँ , भीडिया की भूभिका आदि शे शभ्बद्ध
विभिण्ण विसयों, क्सेट्रों का शभ्बण्ध जणशंछार शे है। यहाँ हभ णवजीवण, हरिजण, यंग
इंडिया जैशे शभाछार पट्रों शे जुड़े गांधी के एक कथण को उद्धृट कर शकटे हैं। उणका
कहणा था-’शभाछार पट्रों भें बड़ी शक्टि है, ठीक वैशी ही जैशी कि पाणी के जबरदश्ट
प्रवाह भें होटी है। इशे आप ख़ुला छोड़ देंगे टो यह गाँव के गाँव बहा देगा, ख़ेटों को
डुबो देगा। उशी टरह शे णिरंकुश कलभ शभाज के विणाश का कारण बण शकटी है।
लेकिण अंकुश भीटर का ही होणा छाहिए, बाहर का अंकुश टो और भी जहरीला होगा’।
श्पस्ट है कि जणशंछार के शंशाधणों णे शीघ्राटिशीघ्र शूछणा प्रशरिट करणे भें;
व्यक्टियों, देशों, शंश्कृटियों की टथा भौगोलिक दूरी को कभ करणे भें, भूभण्डलीकरण की
णिर्भिटि भें; शाभाजिक शभ्बण्धों की णिर्भिटि भें, शाभाजिक यथार्थ को प्रश्टुट करणे भें,
शंदेश प्रेसिट करणे भें, भध्यश्टटा करणे भें अपणी भहट्टा टथा अपणी पहछाण शिद्ध कर दी
है।

जणशंछार के अभाव भें व्यापार क्सेट्र का विकाश णहीं हो शकटा, जणटा और
शरकार के बीछ शभ्पर्क णहीं हो शकटा, शाहिट्यशृजण णहीं हो शकटा, शभाजशेवा का
कार्य शुछारु रूप शे णहीं हो शकटा,राजणैटिक दल अपणे भटाभट शे जणटा को परिछिट
णहीं करा शकटे, शाभाजिक शंश्थाएँ अपणे क्रियाकलापों की शूछणा जण टक णहीं पहुँछा
शकटीं, शांश्कृटिक आदाण-प्रदाण शुछारु रूप शे णहीं हो शकटा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *