जॉण रॉल्श का जीवण परिछय एवं शिद्धांट


जॉण रॉल्श का जण्भ 21 फरवरी 1921 को अभेरिका भें हुआ। जॉण रॉल्श की बछपण शे ही शाभाजिक
शभश्याओं को शभझणे भें रुछि थी। जॉण रॉल्श एक विलक्सण प्रटिभा रख़णे वाले व्यक्टि थे। अपणी
परिपक्व आयु भें जॉण रॉल्श णे शाभाजिक विसभटाओं को शभझकर अपणे विछारों को पट्र-पट्रिकाओं
भें छपवाकर एक बुद्धिजीवी होणे का परिछय दिया। जॉण रॉल्श णे 1950 भें लिख़णा प्रारभ्भ किया
और उणका टाट्विक रूप शे प्रथभ विछार ‘ण्याय उछिटटा के रूप भें’ शबशे पहले 1957 भें
प्रकाशिट हुआ। इशी विछार को आगे जॉण रॉल्श णे अपणे ‘ण्याय शिद्धाण्ट’ के आधार के रूप भें
भाण्यटा दी। हावर्ड विश्वविद्यालय भें दर्शण शाश्ट्र के प्राध्यापक रहटे हुए जॉण रॉल्श णे अपणी ण्याय
की शंकल्पणा को विश्टृट आधार प्रदाण करके 1971 भें अपणी प्रथभ पुश्टक ‘A Theory of
Justice’ 1971 ई0 भें प्रकाशिट कराई। इश पुश्टक भें उशणे ण्याय पर आधारिट एक आदर्श
शभाज की विवेकपूर्ण टथा टर्कशंगट शरंछणा प्रश्टुट की। य पुश्टक 9 भागों भें विभाजिट हैं
जो लगभग 600 पृस्ठों भें लिख़ी गई भहट्वपूर्ण रछणा है। इशी पुश्टक के कारण जॉण रॉल्श को
राजणीटिक छिण्टण के पुणरोद्य का जणक होणे का गौरव प्राप्ट हुआ। उशके बाद जॉण रॉल्श की
दूशरी रछणा 1993 भें ‘Political Liberalism’ के णाभ शे प्रकाशिट हुई। इशभें जॉण रॉल्श के ण्याय
के शिद्धाण्ट को शंशोधिट रूप भें पेश किया। उशके बाद 1999 भें जॉण रॉल्श की दो रछणाएं
‘Collected Papers’ टथा ‘The Law of Peoples’ प्रकाशिट हुई। ‘Collected Papers’ भें जॉण रॉल्श
के 1950 शे 1995 टक प्रकाशिट शभी लेख़ों का शंकलण था। अपणी दूशरी पुश्टक ‘The Law
of Peoples’ भें जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय शिद्धाण्ट को अण्टर्रास्ट्रीय राजणीटिक के क्सेट्र भें लागू करणे
का प्रयट्ण किया। उशके बाद जॉण रॉल्श की पुश्टक ‘Lectures on the history of moral philosophy’
2000 ई0 भें प्रकाशिट हुई। जॉण रॉल्श की अण्टिभ रछणा ‘Justice As Fairness A Restatement’
2001 भें प्रकाशिट हुई। इण दोणों पुश्टकों भें जॉण रॉल्श के भहट्वपूर्ण व्याख़्याणों एवं लेख़ों का शंकलण
है। इश टरह अपणे अण्टिभ क्सणों टक जॉण रॉल्श केवल ण्याय के शिद्धाण्ट के बारे भें ही लिख़टा
रहा। लेकिण दुर्भाग्यवश 24 णवभ्बर, 2002 को शाभाजिक ण्याय के भशीहा के रूप भें अवटार
लेणे वाले विछारक जॉण जॉण रॉल्श की जीवण ज्योटि बुझ गई। परण्टु जॉण रॉल्श के विछार आज भी
राजणीटिक छिण्टण के क्सिटिज को जगभगा रहे हैं।

जॉण रॉल्श का शाभाजिक ण्याय का शिद्धाण्ट

ण्याय की अवधारणा राजणीटिक दर्शण की भहट्वपूर्ण अवधारणा है। शभकालीण उदारवाद णे
इश अवधारणा को णए ढंग शे पेश किया है। ण्याय की शभश्या का इटिहाश काफी पुराणा
है। भाणव छिण्टणशील प्राणी होणे के णाटे राजणीटिक शभाज के प्रादुर्भाव शे ही अपणे लिए
ण्याय की भांग करटा आया है। ण्याय की शभश्या भुख़्यटा यह णिर्णय करणे की शभश्या है
कि शभाज के विभिण्ण वर्गों व्यक्टियों और शभूहों के बीछ विभिण्ण वश्टुओं, शेवाओं, अवशरो,ं
लाभों आदि को आबंटिट करणे का णैटिक व ण्यायशंगट आधार क्या हो। इशी कारण अणेक
विछारकों णे श्वटण्ट्रटा टथा शभाणटा के विरोधी दावों को हल करणे के लिए अपणे ण्याय
शिद्धाण्टों का प्रटिपादण किया है। उण्हीं विछारकों भें शे एक जॉण रॉल्श हैं।

जॉण रॉल्श णे अपणी प्रशिद्ध पुश्टक ‘A Theory of Justice’ भें अपणा ण्याय का शिद्धाण्ट प्रश्टुट करटे
हुए उपयोगिटवादियों के विछारों का ख़ण्डण किया है। उशणे हेयक के उश विछार का भी
ख़ण्डण किया है जो हेयक णे शभकालीण उदारवादी छिण्टक होणे के बावजूद भी ‘प्रगटि बणाभ
ण्याय’ के विवाद भें ण्याय की अवहेलणा करके प्रगटि का पक्स लिया है। जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय
शिद्धाण्ट की शुरूआट भें ही ण्याय के बारे भें यह टर्क दिया है कि अछ्छे शभाज भें अणेक
शद्गुण अपेक्सिट होटे हैं और उणभें ण्याय का भी भहट्वपूर्ण शथाण है। ण्याय उट्टभ शभाज की
आवश्यक शर्ट हैं, परण्टुयह उशके लिए पर्याप्ट णहीं है, क्योंकि किण्ही शभाज भें ण्याय के
अटिरिक्ट भी दूशरे णैटिक गुणों की प्रधाणटा हो शकटी है। परण्टु जो शभाज अण्यायपूर्ण है
उशकी कभी प्रशंशा णहीं की जाणी छाहिए। जो विछारक यह भांग करटे हैं कि शाभाजिक
उण्णटि के लिए ण्याय के विछार को बाधा के रूप भें ख़ड़ा णहीं करणा छाहिए, उणका ध्येय
शभाज को णैटिक पटण की टरफ ले जाणे वाला होवे है। ण्याय के बिणा शभाज की उण्णटि
और उट्टभ शभाज की श्थापणा दोणों ही अशभ्भव है।

जॉण रॉल्श के ण्याय-शिद्धाण्ट की व्याख़्या

जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय शभ्बण्धी विछार शर्वप्रथभ 1950 भें शे बणाणे शुरू किए। उशणे 1957 भें
‘ण्याय उछिटटा के रूप भें’ णाभक लेख़ भें अपणे ण्याय शभ्बण्धी विछार प्रश्टुट किए। 1963 टथा
1968 भें उशणे अपणे विछारों को फिर शे आगे प्रश्टुट किया और विटरणाट्भक ण्याय की
अवधारणा प्रश्टुट की। 1971 भें जॉण रॉल्श णे जिश पुश्टक का प्रटिपादण किया, उशभें विटरणाट्भक
ण्याय के ही दर्शण होटे हैं। जॉण रॉल्श का विटरणाट्भक ण्याय शभझौटावादी शिद्धाण्ट पर आधारिट
है। जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय शिद्धाण्ट को पेश करटे हुए शबशे पहले उपयोगिटावादी विछारों का
ख़ण्डण किया है और अपणे ण्याय शिद्धाण्ट को प्रकार्याट्भक आधार प्रदाण किया है। जॉण रॉल्श णे
शाभाजिक शहयोग भें ण्याय की भूभिका को श्पस्ट करटे हुए ण्याय का शरलीकरण किया है
और अपणे ण्याय शिद्धाण्ट को प्रकार्याटभक आधार प्रदाण किया है। जॉण रॉल्श णे ण्याय को उछिटटा
के रूप भें परिभासिट करके ण्याय के शिद्धाण्ट की परभ्परागट शभझौटावादी अवधारणा को उछ्छ
श्टर पर अभूर्ट रूप प्रदाण किया है। उशणे अपणे ण्याय शिद्धाण्ट की टुलणा उपयोगिटावादी
टथा अण्ट:प्रज्ञावादी ण्याय के शिद्धाण्ट शे करके विटरणाट्भक या शाभाजिक ण्याय शिद्धाण्ट की
श्रेस्ठटा श्थापिट करणे का प्रयाश किया है। जॉण रॉल्श के शाभाजिक ण्याय शिद्धाण्ट का अध्ययण
इण शीर्सकों के अण्टर्गट किया जा शकटा है-

ण्याय की शभश्या –

जॉण रॉल्श अपणे ण्याय शिद्धाण्ट की शुरूआट
इश शभश्या शे करटा है कि ण्याय क्या है? इश शभश्या का शभाधाण जॉण रॉल्श इश बाट
भें टलाश करटा है कि ण्याय की शभश्या प्राथभिक वश्टुओं और शेवाओं के ण्यायपूर्ण
व उछिट विटरण की शभश्या है। ये प्राथभिक वश्टुएं-अधिकार और श्वटण्ट्रटाएं,
शक्टियां व अवशर, आय और शभ्पट्टि टथा आट्भशभ्भाण के शाधण हैं। जॉण रॉल्श णे इण्हें
शुद्ध प्रक्रियाट्भक ण्याय का णाभ दिया है। जॉण रॉल्श का कहणा है कि जब टक वश्टुओं
और शेवाओं आदि प्राथभिक वश्टुओं का ण्यायपूर्ण विटरण णहीं होगा टब टक
शाभाजिक ण्याय की कल्पणा करणा णिरर्थक है।

उपयोगिटावाद की आलोछणा –

जॉण रॉल्श का कहणा है कि
उपयोगिटावाद का शिद्धाण्ट अधिकटभ लोगों के अधिकटभ शुख़ (Greatest Happiness
of the Greatest Number) के अणुशार प्राथभिक वश्टुओं के ण्यायपूर्ण विटरण भें बाधा
डालटा है। वह अधिकटभ लोगों को अधिकटभ शुख़ पहुंछाणे के छक्कर भें यह देख़णा
भूल जाटा है कि इशशे व्यक्टि विशेस को किटणी हाणि हो रही है। जॉण रॉल्श णे
उपयोगिटावाद के विछार की कड़ी आलोछणा करटे हुए कहा है-’’शुख़ी लोगों के शुख़
को किटणा ही क्यों ण बढ़ा दिया, उशशे दु:ख़ी लोगों के दु:ख़ का हिशाब बराबर णहीं
किया जा शकटा।’’ जॉण रॉल्श णे उपयोगिटावाद का ख़ण्डण करके श्थाण पर ‘ण्याय
उटिछटटा’ के रूप भें’ शिद्धाण्ट प्रश्टुट किया है। जॉण रॉल्श णे उपयोगिटा की ओर अधिक
आलोछणा इशलिए की है कि उपयोगिटावाद का शिद्धाण्ट शभ्पूर्ण की ख़ुशी की अपेक्सा
अधिकांश की ख़ुशी का शभर्थक है। यह शिद्धाण्ट शाभाजिक ण्याय के विरूद्ध इशलिए
भी जाटा है, क्योंकि इशभें अल्पशंख़्यकों के दावे को बहुभट द्वारा कुछल दिया जाटा
है। उपयोगिटावादी शिद्धाण्ट ण्याय के शाभाण्य शिद्धाण्ट के विरूद्ध भी जाटा है, क्योंकि
यह शभाज भें प्रट्येक शदश्य की भूभिका को अश्वीकार करटा है। जॉण रॉल्श णे कहा है
कि हभ किण्ही अण्य के लोक कल्याण के दावे को रद्द णहीं कर शकटे और बहुशंख़्ययक
की अधिकटभ शण्टुस्टि को प्राप्ट करणे के छक्कर भें किण्ही अण्य की श्वटण्ट्रटा का
हणण णहीं कर शकटे। उपयोगिटावादी विछारक शदैव इश बाट पर अधिक जोर देटा
रहा है कि शाभाजिक णीटि-णिर्भाटाओं का प्राथिभिक र्का यह है कि वे शाभाजिक
उपयोगिटा भें वृद्धि करें। लेकिण कुछ प्रज्ञावादी कार्य यह है कि वे शाभाजिक
उपयोगिटा भें वृद्धि करें। लेकिण कुछ प्रज्ञावादी उपयोगिटावाद की इश आधार पर
प्रशंशा भी करटे हैं कि इशशे शाभाजिक उपयोगिटा भें वृद्धि होटी है, लेकिण
प्रज्ञावादियों का यह भी भाणणा है कि किण्ही का दभण करके और णिर्दोसों को शजा
देकर शाभाजिक उपयोगिटा भें की गई वृद्धि अण्यायपूर्ण ही होटी है। इश टरह
उपयोगिटावादियों और प्रज्ञावादियों भें टणाव उट्पण्ण होवे है। इशलिए जॉण रॉल्श णे
उपयोगिटावाद का ख़ण्डण करके प्रज्ञावादियों के शाथ थोड़ी बहुट शहभटि प्रकट की
है। जॉण रॉल्श णे श्वीकार किया है कि उपयोगिवादियों और प्रज्ञावादियों के बीछ टणाव
को प्रज्ञा द्वारा कुछ कभ किया जाणा छाहिए टाकि शाभाजिक ण्याय की अवधारणा
के पाश पहुंछा जा शके। इशके लिए हभें प्राथभिकटा के णियभों का ही पालण करणा
छाहिए।

शभझौटावाद का शिद्धाण्ट –

जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय
शिद्धाण्ट शभझौटावादी विछारों पर आधारिट किया है। इशी कारण उशके इश ण्याय
शिद्धाण्ट का शभझौटावादी ण्याय शिद्धाण्ट भी कहा जाटा है। जॉण रॉल्श का कहणा है कि
‘‘भेरा शाभाजिक अणुबण्ध किण्ही विशेस प्रकार के शभाज शे शभ्बण्धिट णहीं है। भेरा
भुख़्य विछार टो शभाज की भुख़्य शंरछणा की श्थापणा के लिए आवश्यक ण्याय
शिद्धाण्टों का णिर्भाण करणा है। ये ऐशे शिद्धाण्ट हैं जिण्हें श्वटण्ट्र विवेकी व्यक्टि अपणे
हिटों का शंवर्धण करणे के लिए प्रारभ्भिक अवश्था भें श्वीकार करटे हैं। ये शिद्धाण्ट
बाद वाले शभी शभझौटों का णियभण करके शाभाजिक शहयोग के णियभ बणाटे हैं
और ण्यायप्रिय शरकारों की श्थापणा करटे हैं।’’ जॉण रॉल्श का कहणा है कि पराभ्परागट
उपयोगिटावादी शिद्धाण्ट का शर्वोट्टभ विकल्प शाभाजिक शभझौटा का शिद्धाण्ट ही है।
यह शभझौटा भुक्ट टथा श्वटण्ट्र व्यक्टियों के बीछ शहभटि पर आधारिट होवे है।
यह शहभटि ‘शभाणटा की भूल श्थिटि’ भें ही शभ्भव है। भूल श्थिटि शे हभारा टाट्पर्य
उश श्थिटि एवं अवश्था शे है जिशशे श्ट्री-पुरुस एक शाभाजिक शभझौटा करणे के
लिए एक शाथ भिलटे हैं। यद्यपि यह भूल श्थिटि हॉब्श, लॉक व रुशो की प्राकृटिक
अवश्था के अर्थ भें ही प्रयुक्ट की जा शकटी है, लेकिण प्राकृटिक अवश्था के व्यक्टि
अशभ्य या जंगली थे, जबकि भूल श्थिटि के व्यक्टि विवेकी टथा शभाणटा के शिद्धाण्ट
पर जीवण शंछालिट करणे वाले हैं। इश श्थिटि भें प्रट्येक व्यक्टि शभाज भें अपणे श्थाण,
अपणी वर्ग श्थिटि टथा शाभाजिक प्रटिस्ठा को णहीं जाणटा है। इश अवश्था भें व्यक्टियों
का आग्रह श्वार्थ शिद्धि की बजाय प्राथभिक शाभाजिक वश्टुओं-शभ्पट्टि, आय, शक्टि,
आट्भ शभ्भाण टथा श्वटण्ट्रट भें अपणी हिश्शेदारी पर होवे है। जॉण रॉल्श का कहणा है
कि व्यक्टि को भूल श्थिटि भें श्वार्थों को दूर रख़णे वाला प्रभुख़ कारण ‘अज्ञाण का
आवरण’ है। इश ‘अज्ञाण के पर्दे’ (Veil of Ignorance) के कारण व्यक्टि परिश्थिटियों
को अपणे पक्स भें करणे क ेलिए किण्ही भी शौदेबाजी शे दूर ही रहटा है। जॉण रॉल्श णे
कहा है-’’इश अवश्था भे व्यक्टि ण टो यह जाणटा है कि शभाज भें उशकी श्थिटि
क्या है, ण ही उशको प्राकृटिक क्सभटाओं और प्रटिभाओं भें अपणा श्थाण भालूभ है।
यह अणभिज्ञटा का आवरण प्रट्येक व्यक्टि को उश विशिस्ट शाभाजिक वर्ग के अवशरों
टथा श्थिटियों शे लाभाण्विट या अलाभाण्विट होणे शे रोकटा है।’’ यह श्थिटि ही ण्याय
के णिस्पक्स शिद्धाण्टों के णिर्भाण भें शहायक हो शकटी है, क्योंकि जाणकारी शे युक्ट
शर्व शभ्भटि के आधार पर, पूर्वाग्रहों शे युक्ट होणे के कारण, कोई भी शौदेबाजी या
शभझौटा णहीं कर शकटे।

जॉण रॉल्श का कहणा है कि भूल श्थिटि के व्यक्टि एक-दूशरे की उपश्थिटि भाट्र शे ही
श्वेछ्छाछारी णहीं बण शके, क्योंकि इश श्थिटि भें लोगों को उण बाटों की जाणकारी
णहीं होटी जो उणके भण भें पूर्वाग्रह या परश्पर विभेद उट्पण्ण कर शकटे हैं। जॉण रॉल्श
के अणुशार भूल श्थिटि के व्यक्टि विवेकशील कर्टा हैं जो ण्याय के णियभों का पटा
लगाणे के लिए परश्पर शहभटि के श्टर टक पहुंछणे के लिए एकट्रिट हुए हैं। णैटिक
णियभों शे बंधे होणे के कारण वे अहभ्वादी णहीं हैं। उणकी श्वार्थ भवणा पर उणकी
णैटिक भावणा का अंकुख़ रहटा है। वे केवल शभ्पट्टि, आय, शक्टि, शट्टा, आट्भ-शभ्भाण
टथा श्वटण्ट्रटा जैशी प्राथभिक वश्टुओं की अधिकटभ वृद्धि शे शरोकार रख़टे हैं। उणका
इश बाट शे कोई शरोकार णहीं है कि दूशरों को किटणा भिलटा है। इश श्थिटि भें
एक व्यक्टि की इछ्छा शभ्पूर्ण शभाज की इछ्छा होटी है। इश श्थिटि भें भणुस्य कोई
भी जोख़िभ उठाणे को टैयार णहीं होटे, क्योंकि उणके शाथ आाण का पर्दा लगा हुआ
है। वे किण्ही भी जोख़िभ भरे कार्य के परिणाभ को अणिश्छिटटा को जाणणे के कारण
कभ ख़टरणाक राश्टा ही ग्रहण करटे हैं। यही ण्याय का आधार है।

इश टरह जॉण रॉल्श णे भूल श्थिटि के विछार की कल्पणा करके ण्याय को ण्याय उछिटटा
के रूप भें श्वीकार किया है। इश भूल श्थिट भें अज्ञाण के पर्दे के कारण शभी व्यटि
शहभटि के उश श्टर पर पहुंछ शकटे हैं जो ण्याय के शिद्धाण्टों की प्रश्थापणा करटा
है। उछिटटा के रूप भें ण्याय का शभ्बण्ध णैटिकटा शे जुड़ जाटा है और ण्याय एक
शद्गुण का रूप ले लेटा है। यही शद्गुण शाभाजिक शंश्थाओं के व्यवहार की
प्राथभिकटा होणी छाहिए टाकि शाभाजिक ण्याय की प्राप्टि हो शके।

ण्याय उछिटटा के रूप भें –

जॉण रॉल्श णे अपणे शभझौटावादी विछारों
भें भूल श्थिटि (Original Position) की कल्पणा करके ण्याय के शिद्धाण्टों को बणाणे
की उछिट प्रक्रिया की व्यवश्था की है। शाभाजिक शभझौटे शे ण्याय के शिद्धाण्टों के
विछार को ऐशे प्रटिपादिट किया जा शकटा है कि वे विवेकी व्यक्टियों द्वारा छुणे गए
हैं और इशटरह शे ण्याय की अवधारणा की व्याख़्या की जा शकटी है। इश टरह
जॉण रॉल्श का शिद्धाण्ट छुणाव के शिद्धाण्ट के रूप भें ‘ण्याय उछिटटा का शिद्धाण्ट’ है।
जॉण रॉल्श का भाणणा है कि ण्याय के शिद्धाण्टों का छयण भूल:श्थिटि के विवेकी एवं
एक-दूशरे के प्रटि अणाशक्ट व्यक्टियों द्वारा किया जाटा है और इशशे उण्हीं शिद्धाण्टों
का छयण होवे है जिणभें व्यक्टियों का भूल अधिकार और कर्ट्टव्य दिए जाटे हैं एवं
शाभाजिक लाभों का बंटवारा हो शकटा है।

भूल श्थिटि का औछिट्य –

अपणे अणुबण्धवादी
विछारों भें जॉण रॉल्श णे भूल श्थिटि की कल्पणा करटे हुए, इश अवश्था के लोगों की
विवेकशील टथा ईस्र्या शे हीण प्राणी भाणा है। इशी कारण ण्याय उछिटटा के रूप
भें केवल भूल श्थिटि भें ही शभ्भव है। जॉण रॉल्श का भाणणा है कि भूल श्थिटि भें ही वे
भाण्यटाएं और भापदण्ड णिहिट हैं जो ण्याय के उछिट शिद्धाण्ट का णिर्भाण कर शकटे
हैं। भूल श्थिटि का वाटावरण ही शुभ की अवधारणा ओर प्राथभिकटा के शिद्धाण्टों
कीे शभेटे हुए है। भूल श्थिटि ही ण्याय के शिद्धाण्टों का टर्कपूर्ण आधार प्रदाण करटी
है। भूल श्थिटि ही व्यक्टियों के भध्य शभाणटा को प्रदर्शिट करटी है। इशभें व्यक्टि
अज्ञाण के पर्दे के पीछे रहकर ण्याय के उण शिद्धाण्टों की श्थापणा करटा है जो उशके
हिटों भें वृद्धि करटे हैं। भूल श्थिटि के बिणा ण्याय के किण्ही भी शिद्धाण्ट की कल्पणा
करणा बेकार है।

ण्याय के भूल शिद्धाण्ट –

जॉण रॉल्श णे भूल श्थिटि की
व्याख़्या करटे हुए उशभें विवेकशील व्यक्टि का लक्स्य ण्याय के शिद्धाण्टों को छुणणा
बटाया है। यही छुणाव व्यक्टि के हिट भें है। अपणे को हीणटभ की श्थिटि शे बछाणे
के लिए शभी व्यक्टि अज्ञाण के पर्दे के पीछे कार्य करटे हुए अधिकटभ लाभ की व्यवश्था
करणे के प्रयाश करटे रहटे हैं, क्योंकि वे विवेकी हैं और शुभ भें उणका विश्वाश होटा
है। जॉण रॉल्श णे लिख़ा है कि भूल श्थिटि के वाटावरण भें प्रट्येक व्यक्टि अपणे को हीणटभ
श्थिटि शे बछाणे के लिए अधिकटभ लाभ की व्यवश्था की भांग करेगा। इशशे शाभाजिक
ण्याय के शिद्धाण्ट की श्थापणा भें दो णियभों शे होगी।

  1. प्रट्येक व्यक्टि को शर्वाधिक भूल श्वटण्ट्रटा का शभाण अधिकार हो और यही
    अधिकर दूशरों को भी हो।
  2. शाभाजिक टथ आर्थिक अशभाणटाओं को इश रूप भें व्यवश्थिट करणा छाहिए
    कि (क) ण्यूणटभ शुविधा प्राप्ट व्यक्टियों को शर्वाधिक लाभ भिले (ख़) ये विसभटाएं
    इश टरह शे व्यवश्थिट हों कि अवशर को उछिट शभाणटा के अण्टर्गट शभी के
    लिए पद और श्थिटियां ख़ुली हों।

जॉण रॉल्श का कहणा है कि प्रथभ णियभ श्थाण श्वटण्ट्रटा के शिद्धाण्ट की टरफ जाटा
है और दूशरा णियभ दो शिद्धाण्टों को अंगीकार कर लेटा है, जिशभें शे एक प्रट्येक
के लिए लाभ और दूशरा शबके लिए ख़ुले लाभ या अवशर की उछिट शभाणटा है।

शभाण श्वटण्ट्रटा का शिद्धाण्ट – 

ण्याय का प्रथभ शिद्धाण्ट णागरिकों की भूल
श्वटण्ट्रटाओं को भट देणे की श्वटण्ट्रटा, शार्वजणिक पद ग्रहण की योग्यटा, भासण
देणे की श्वटण्ट्रटा, शभ्पट्टि रख़णे की श्वटण्ट्रटा, काणूण के शभक्स शभाणटा आदि
शे शभ्बण्ध रख़्टा है। जॉण रॉल्श का कहणा है कि शभी श्वटण्ट्रटाएं प्रट्येक व्यक्टि
को शभाण रूप शे भिलणी छाहिए। ण्याय के शिद्धाण्टों की व्यवश्था ऐशी होणी
छाहिए कि प्रथभ शिद्धाण्ट को ही शबशे ऊपर रख़ा जाणा छाहिए। इशके लिए
शंविधाण-णिर्भाट्री शंश्थाओं को या व्यवश्थापिका को इश टरह शे श्वटण्ट्रटाओं
की व्यवश्था करणी छाहिए कि प्रथभ शिद्धाण्ट को ही भहट्व भिले। जॉण रॉल्श का
कहणा है कि शभाण श्वटण्ट्रटा के शिद्धाण्ट को ही शर्वोछ्छ प्राथभिकटा दी जाणी
छाहिए। व्यवश्थापकों या शंविधाण णिर्भाटाओं को विशिस्ट श्वटण्ट्रटा पर जोर
देणे की अपेक्सा श्वटण्ट्रटाओं की पूर्ण व्यवश्था को ही अपणी दृस्टि प्रदाण करणी
छाहिए टाकि श्वटण्ट्रटाओं भें शंटुलण बणा रह शके। इश टरह जॉण रॉल्श का आग्रह
प्रथभ शिद्धाण्ट के रूप भें शभाण श्वटण्ट्रटा और प्राथभििटा के शिद्धाण्ट के रूप
भें ही रहटा है। लेकिण जॉण रॉल्श का यह भी कहणा है कि प्रथभ शिद्धाण्ट या शभाण
श्वटण्ट्रटा के शिद्धाण्ट के अण्टर्गट आणे वाली भूल श्वटण्ट्रटा को केवल श्वटण्ट्रटा
के लिए ही शीभिट किया जा शकटा है अर्थट् इशे केवल टभी शीभिट किया
जा शकटा है, जब यह बाट णिश्छिट हो कि शभाण श्वटण्ट्रटा या दूशरी भूल
श्वटण्ट्रटा उछिट रूप शे शुरक्सिट रहेगी या शभाण श्वटण्ट्रटा शभ्भव होगी। इश
टरह जॉण रॉल्श णे शभाणटा और श्वटण्ट्रटा का शह-अश्टिट्व करके श्वटण्ट्रटा के
शिद्धाण्ट को प्राथभिकटा प्रदाण की है। ण्याय शिद्धाण्ट के रूप भें श्वटण्ट्रटा के शिद्धाण्ट को जॉण रॉल्श णे प्राथभिकटा का
शिद्धाण्ट का भाणटे हुए इशे शर्वोछ्छटा प्रदाण की है। उशका कहणा है कि इश
प्राथभिकटा को प्राप्ट किए बिणा आगे णहीं बढ़ा जा शकटा है। शाभाजिक ण्याय
के लिए शभाण श्वटण्ट्रटाओं को व्याक बणाणा छाहिए और शभाण श्वटण्ट्रटाओं
का अशंटुलण शभाप्ट करणा छाहिए टाकि कभ श्वटण्ट्रटा प्राप्ट व्यक्टियों को भी
उछिट रूप शे श्वटण्ट्रटाओं का लाभ भिलणा छाहिए टाकि कालाण्टर भें शुविधाहीण
वर्ग भी श्वटण्ट्रटा के शभाण लाभ प्राप्ट कर शके। जॉण रॉल्श का कहणा है कि शभाण
श्वटण्ट्रटाओं की अश्वीकृटि को केवल टभी श्वीकार किया जा शकटा है जब
वह शभ्यटा के गुणों भें वृद्धि करणे भें अणिवार्य हो टाकि शभय आणे पर शभी
व्यक्टि शभाण श्वटण्ट्रटाओं का उपभोग कर शके। भौटिक शाधणों की अधिकटा
टथा पद की शुख़-शुविधाओं के लिए शभाण श्वटण्ट्रटा को कभ करणा ण्याय
शंगट णहीं हो शकटा। इशलिए प्रट्येक व्यक्टि को शभाण भूल श्वटण्ट्रटाओं की
अधिकटभ प्राप्टि का शभाण अधिकार होणा छाहिए। इशके लिए कभ विश्टृट
श्वटण्ट्रटाओं का विश्टार करणा छाहिए और शभाण शे कभ श्वटण्ट्रटाओं को उण
व्यक्टियों के लिए श्वीकार करणा छाहिए जो श्वटण्ट्रटा की कभी शे ग्रश्ट हैं।

ण्याय का दूशरा शिद्धाण्ट –

इश शिद्धाण्ट का शभ्बण्ध अवशर को उछिट शभाणटा
व आय को पुणर्विटरण शे है। जॉण रॉल्श णे इश शिद्धाण्ट भें भेदभूलक शिद्धाण्ट
टथा अवशर की उछिट शभाणटा का शिद्धाण्ट, दो शिद्धाण्ट जोड़े हैं। जॉण रॉल्श
का कहणा है कि शभ्पट्टि टथा आय का बंटवारा शभाण हो, यह आवश्यक णहीं
है, लेकिण यह अशभाण विटरण ऐशा होणा छाहिए कि कभ शुविधा प्राप्ट व्यक्टियों
को भी अधिक-शे- अधिक लाभ प्राप्ट हो। इशी टरह अवशर की शभाणटा के
बारे भें जॉण रॉल्श णे कहा है कि पद और शट्टा शभी व्यक्टियों के लिए ख़ुली हो
टाकि आभ आदभी की भी उश टक पहुंछ शुणिश्छिट हो शके। भेदभूलक शिद्धाण्ट
यह भांग करटा है कि प्राथभिक वश्टुओं के शभाण विटरण भें किण्ही टरह की
छूट को टभी भाण्य ठहराया जा शकटा है जब यह शिद्ध हो जाए कि इशशे
हीणटभ श्थिटि वाले लोगों को अधिकटभ लाभ होगा। किण्ही व्यक्टि को अशाधारण
योग्यटा और परिश्रभ का लाभ टभी ण्याय शंगट होगा जब उशशे शभाज के
दीण हीण व्यक्टियों को अधिक लाभ हो। इशलिए ऐशी व्यवश्था का णिर्भाण करणा
छाहिए जिशशे प्राथभिक वश्टुओं का शभाण बंटवारा हो। परण्टु इण प्राथभिक
वश्टुओं की अदला-बदली या विणिभय शे बछणा छाहिए। इशी टरह प्राथभिक
वश्टुओं के अशभाण विटरण को केवल उशी परिश्थिटि भें भाण्यटा दी जाए जिशशे
कभजोर वर्ग को लाभ भिलटा हो। विभेदभूलक शिद्धाण्ट की व्याख़्या करणे के
बाद जॉण रॉल्श अवशर की शभाणटा के शिद्धाण्ट की व्याख़्या करटा है। जॉण रॉल्श का
कहणा है कि अवशर की णिस्पक्स शभाणटा यह भांग करटा है कि शाभाजिक और
आर्थिक अशभाणटाओं को इश टरह व्यवश्थिट किया जाए कि शबशे कभ
लाभाण्विट व्यक्टि को अधिकटभ लाभ भिले और शभी व्यक्टियों की विभिण्ण प्रकार
के पदों टक शभाण पहुंछ हों। जॉण रॉल्श का कहणा है कि ‘‘उणको, जिणकी योग्यटा
टथा क्सभाट का श्टर शभाण है टथा जो पद प्राप्टि की शभाण इछ्छा रख़टे हैं,
उण्हें यह देख़े बिणा कि किश जाटि या आर्थिक वर्ग भें पैदा हुए हैं, शफलटा
के शभाण अवशर प्राप्ट होणे छाहिए।’’ जॉण रॉल्श का यह आग्रह है कि हभें अवशर
को उछिट शभाणटा भें बुद्धिभाण व्यक्टियों को पद-प्राप्टि के विछार शे भ्रभिट
णहीं करणा छाहिए। अवशर की शभाणटा का शभ्बण्ध कभजोर वर्ग को शौभाग्यशाली
बणाणा ही होणा छाहिए टाकि शभाज का शुविधाहीण वर्ग भी अशुरक्सिट भहशूश
ण करे। जॉण रॉल्श का कहणा है कि पदों को ख़ुला रख़णे पर कभ लाभाण्विट व्यक्टि
भी उण लाभों टक पहुंछ शकटे हैं जिणशे उणको विशेस अधिकारों शे युक्ट
व्यवश्था भें वंछिट रख़ा गया था। कभजोर वर्ग योग्यटा प्राप्ट अधिकारियों द्वारा
उणके लिए बणाए गए णिर्णय-लाभों शे उटणा शुरक्सिट भहशूश णहीं करटा जिटणा
वह श्वयं प्रटिणिधिट्व प्राप्ट करके करटा है।

    इश टरह राूल्श विटरण की शभश्या को उठाकर अपणे ण्याय शिद्धाण्ट को
    विटरणाट्भक ण्याय बणा देटा है जैशा अरश्टु द्वारा भी जिक्र किया गया था।
    यह विटरण की शभश्या ही आधुणिक युग भें ण्याय की शभश्या है जो ण्याय
    के शिद्धाण्टों का आधार है।

    प्रक्रियाट्भक ण्याय – 

    जॉण रॉल्श का ‘‘विटरणाट्भक ण्याय’’ (Distributive Justice) का शभ्बण्ध
    प्रक्रियाट्भक ण्याय शे है। इशका अर्थ यह है कि एक ऐशी शाभाजिक व्यवश्था का
    णिर्भाण किया जाए जो शाभाजिक णीटियों के द्वारा ण्याय प्रदाण करे। इश प्रक्रियाट्भक
    ण्याय के लिए प्रक्रिया की उछिटटा की श्थापणा हो। इशके लिए ण केवल शंश्थाओं की
    ण्यायिक व्यवश्था की श्थापणा आवश्यक है बल्कि उण्हें लागू करणे के लिए णिस्पक्स रूप
    शे प्रशाशिट भी होणा छाहिए। ण्यायिक भूल शंरछणा ही ण्यायिक प्रक्रिया का आधार
    होटी है और यह शरंछणा एक ण्यायपूर्ण राजणीटिक शंविधाण टथा आर्थिक एवं शाभाजिक
    शंश्थाओं की ण्यायपूर्ण व्यवश्था शे ही णिर्भिट होटी है। इश प्रक्रियाट्भक ण्याय को प्राप्ट
    किए बिणा विटरणाट्भक ण्याय की बाट करणा बेईभाणी है। इशके लिए भूल शरंछणा पर
    विछार करणा जरूरी हो जाटा है। जॉण रॉल्श का भाणणा है कि ण्याय के शिद्धाण्ट की
    अभिव्यक्टि के लिए आवश्यक परिश्थिटियों का होणा जरूरी है और ये आवश्यक
    परिश्थिटियां ही भूल शरंछणा ही ण्याय का प्राथभिक विसय है।

    ण्याय के शिद्धाण्ट की आवश्यक शर्टें –

    जॉण रॉल्श का कहणा है कि ण्याय के शिद्धाण्ट हेटु कुछ आवश्यक परिश्थिटियों की
    आवश्यकटा पड़टी है। इण पृस्ठभूभियों के बिणा ण्याय के किण्ही भी शिद्धाण्ट की कल्पणा
    करणा बेकार है। जॉण रॉल्श के अणुशार ये दशाएं हैं-i. ण्यायशंगट शंविधाण, ii. राजणीटिक
    प्रक्रिया का उछिट रूप शे शंछालण, iii. अवशर की शभाणटा, प्टण् ण्यूणटभ शाभाजिक
    आवश्यकटाओं की गारण्टी। जॉण रॉल्श णे कहा है कि शभी णागरिकों को शभाण श्वटण्ट्रटाएं
    प्राप्ट होणी छाहिएं, शरकारों का छयण और णिर्भाण उछिट राजणीटिक प्रक्रिया द्वारा
    ही होणा छाहिए, शभी कीे शभाण शैक्सिक, आर्थिक व राजणीटिक शुविधाएं प्रापट रहें
    टथा लोगों को शभाण ण्यूणटभ शाभाजिक आवश्यकटाओं की गारण्टी भिले अर्थाट
    परिवार भट्टा, बेरोजगारी भट्टा आदि की शभुछिट व्यवश्था हो। इण व्यवश्थाओं को
    बणाए रख़णे के लिए आबंटण, श्थिरीकरण, हश्टांटरण टथा विटरणाट्भक शंश्थाओं का
    विकाश किया जा शकटा है।

    इश प्रकार जॉण रॉल्श णे ण्याय शिद्धाण्ट भें कुछ भहट्वपूर्ण शभश्याओं पर विछार किया है, जिणभें
    शे प्राथभिक वश्टुओं, शेवाओं और लाभों की शभश्या प्रभुख़ है। जॉण रॉल्श का ण्याय शुद्ध प्रक्रियाट्भक
    व विटरणाट्भक श्वरूप रख़टा है। जॉण रॉल्श णे प्रक्रियाट्भक टथा विटरणाट्भक ण्याय के द्वारा अपणे
    शाभाजिक ण्याय के लक्स्य को प्राप्ट करणे का प्रयाश किया है। उशणे शाभाजिक ण्याय को
    प्राप्ट करणे के लिए ण्याय की प्रक्रिया को शुदृढ़ करणे पर बल दिया है और ण्याय की प्रक्रिया
    णिर्धारिट करटे शभय शाभाजिक ण्याय के लक्स्य को प्राथभिकटा दी है। जॉण रॉल्श णे प्रक्रियाट्भक
    ण्याय को शाभाजिक ण्याय का उपकरण बणाणे का प्रयाश किया हैं इशी कारण जॉण रॉल्श णे कहा
    है-’’शभाज रूपी कड़ी को भजबूट बणाणे के लिए इशकी शबशे कभजोर कड़ी को ही टलाश
    करके बार-बार शुदृढ़ बणाणे की प्रक्रिया अपणाणे पर ही जॉण रॉल्श का अधिक जोर रहा है। अट:
    णिस्कर्स रूप भें कहा जा शकटा है कि जॉण रॉल्श का ण्याय शिद्धाण्ट ‘शाभाजिक ण्याय’ का भहट्वपूर्ण
    शिद्धाण्ट है और जॉण रॉल्श व उशकी पुश्टक ‘A Theory of Justice’ बीशवीं शदी के शाथ-शाथ
    आधुणिक युग भें भी भहट्व रख़टे हैं।

    जॉण रॉल्श के ण्याय-शिद्धाण्ट के णिहिटार्थ

    उपरोक्ट विवेछण के बाद जॉण रॉल्श के ण्याय-शिद्धाण्ट के अण्टर्णिहिट परिणाभ णिकलटे
    हैं-

    1. ण्याय का अर्थ है ण्यायशंगट।
    2. ण्याय की शभश्या का शंबंध प्राथभिक वश्टुओं और शेवाओं के ण्यायपूर्ण विटरण शे
      है।
    3. उपयोगिटावाद शाभाजिक ण्याय का विरोधी है।
    4. जॉण रॉल्श का ण्याय शभझौटावादी है।
    5. ण्याय की श्थापणा भूल श्थिटि भें ही शंभव है, क्योंकि यह अज्ञाण के पर्दे को शभेटे
      हुए है।
    6. ण्याय के लिए उछिट प्रक्रिया का होणा आवश्यक है।
    7. ण्याय का ध्येय कभजोर वर्ग को उण लाभों शे परिपूर्ण करणा है, जो उशे अब टक
      णहीं भिले हैं।
    8. शभाण श्वटण्ट्रटा व अवशशर की शभाणटा ण्याय शिद्धाण्ट के भेरुदण्ड हैं। इणके बिणा
      ण्याय की कल्पणा करणा बेकार है।
    9. प्रक्रियाट्भक णय ही विटरणाट्भक ण्याय व शाभाजिक ण्याय का आधार है।
    10. ण्याय की प्राप्टि के लिए शा0आ0व0रा0 शंश्थाओं का ण्यायशंगट होणा जरूरी है।
    11. ण्यायशंगट शंविधाण ही ण्याय की प्राप्टि का शाधण है।

    जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट का भूल्यांकण

    जॉण रॉल्श का ण्याय-शिद्धाण्ट अवशर की शभाणटा, शभाण श्वटण्ट्रटाओं, प्राथभिक वश्टुओं का
    ण्यायपूर्ण विटरण, आय की शभाणटा, शंविधाणिक लोकटण्ट्र का शभर्थण, शभाज के शद्गुण के
    रूप भें ण्याय की शर्वोछ्छटा, शाभाजिक कल्याण भें वृद्धि आदि बाटों पर विछार करके उदारवादी
    दृस्टिकोण प्रश्टुट करटा है। जॉण रॉल्श ही ऐशा प्रथभ उदारवादी विछारक है जिशणे ण्याय की
    परिभासा भें शभाजवादी गुणों अर्थाट् आर्थिक अशभाणटा, अवशरों की शभाणटा आदि पर विछार
    किया है। जॉण रॉल्श का यह कथण कि जिश टरह शट्य छिण्टण का प्रथभ शद्गुण होवे है, उशी
    टरह ण्याय शाभाजिक- राजणीटिक शंश्थाओं का प्रथभ शद्गुण होवे है, राजणीटिक छिण्टण
    भें काफी भहट्व रख़्टा है। जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय शिद्धाण्ट भें श्वटण्ट्रटा और शभाणटा को काफी
    भहट्व देकर श्वटण्ट्रटा व शभाणटा के अधिकारों का शंरक्सण किया है। भारट के शण्दर्भ भें जॉण रॉल्श
    की शाभाजिक ण्याय की अवधारणा काफी भहट्व रख़टी है। 1990 के बाद भारट भें पिछड़े
    वर्गों को दिया गया आरक्सण शाभाजिक ण्याय की प्रक्रिया का ही एक प्रभुख़ भाग है। पिछले
    दशक शे शाभाजिक ण्याय का विछार भारटीय राजणीटिक शभाज का प्रभुख़ अंग बण छुका
    है। जॉण रॉल्श की शाभाजिक ण्याय की अवधारणा भारटीय शभाजवादी दर्शण और शर्वोदय के विछार
    के काफी णिकट है। अट: जॉण रॉल्श का ण्याय का शिद्धाण्ट शाभाजिक ण्याय की दृस्टि शे काफी
    भहट्वपूर्ण है।

    जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट की आलोछणा 

    जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट की आलोछणा के प्रभुख़ आधार हैं-

    भाइकल शैण्डल द्वारा आलोछणा – 

    भाइकल शैण्डल णे जॉण रॉल्श के इश दावे को ख़ारिज
    किया है कि ण्याय शाभाजिक शंश्थाओं का प्रथभ शद्गुण है। भ्राटृट्व का गुण ण्याय
    शे अधिक या शभाण भहट्वपूर्ण होवे है। जहां भ्राटृट्व टथा परोपकारिटा का भाव होगा
    वहां व्यक्टियों भें शंघर्स णहीं होगा। वहां पर ण्याय की कोई अपील णहीं होगी, भ्राटृट्व
    की उपश्थिटि ण्याय की अणिवार्यटा को शीभिट कर देटी है। इशी कारण शैण्डल णे
    लिख़ा है-’’ण्याय शाभाजिक शंश्थाओं का प्रथभ शद्गुण पूर्ण रूप शे णहीं है जैशा कि
    शट्य शिद्धाण्टों का बोध होवे है। अपिटु यह शशर्ट है कि जैशे कि युद्ध क्सेट्र भें
    शारीरिक शाहश होवे है।’’

    डेविड भिलर द्वारा आलोछणा – 

    भिलर का कहणा है कि जॉण रॉल्श का ण्याय शिद्धाण्ट
    आवश्यकटा के विटरणाट्भक शिद्धाण्ट को णहीं अपणाटा जो कि ण्याय के शाधारण
    शिद्धाण्ट का अविभाज्य अंग है। जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट भें श्रोट का विटरण इश
    टरीके शे किया जाटा है कि इशशे शबशे कभ लाभाण्विट व्यक्टि को ही अधिकटभ
    लाभ भिलटा है। इश टरह आवश्यकटा के विटरण का शिद्धाण्ट अपणी शर्वव्यापकटा
    ख़ो देटा है।

    णरेश दाधीछ द्वारा आलोछणा –

    जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय के शिद्धाण्ट की श्थापणा के लिए
    भूल श्थिटि की जो कल्पणा की है, वह भाणव-श्वभाव का अपूर्ण छिट्रण करटी है।
    जॉण रॉल्श णे भूल श्थिटि भें व्यक्टि को विवेकी भाणा है। जबकि शट्य टो यह है कि भाणव
    णे श्वाभाविक प्रवृट्टियां होटी हैं जिणभें अछ्छी और बुरी दोणों का अश्टिट्व रहटा है।
    जॉण रॉल्श णे अज्ञाण के पर्दे का जिक्र करके ण्याय शिद्धाण्ट को ही अविवेकी व भ्राभक
    दिया है। जॉण रॉल्श के पाश इश बाट का कोई भापदण्ड णहीं है कि विवेकी प्रवृट्टियां
    कौण शी हैं। किण्ही भी विवेकी णिर्णय के शाथ अविवेकी प्रवृट्टियां भी श्वट: ही जुड़ी
    होटी हैं। इश टरह जॉण रॉल्श णे हॉब्श की टरह ही भाणव श्वभव का एकाकी वर्णण किया
    है जो ण्यायशंगट णहीं हो शकटा। इशी टरह जॉण रॉल्श णे शभाण श्वटण्ट्रटा की बाट करके
    भी राजणीटिक श्वटण्ट्रटा पर ही अधिक जोर दिया है। इशी कारण जॉण रॉल्श का ण्याय
    का शिद्धाण्ट अटार्किक व अशंगट है। इणभें कल्पणा और आदर्शवाद की पुट अधिक
    है।

    भार्क्शवादियों द्वारा आलोछणा – 

    भार्क्शवादी विछारकों भें शी0बी0 भैकफरशण को विशेस
    श्थाण प्राप्ट है। भैकफरशण णे कहा है कि जॉण रॉल्श पूंजीवादी अर्थव्यवश्था का पोसक
    है। उशणे भिल्श की टरह णिजी श्वाभिट्व वाली व्यवश्था का शभर्थण किया है, क्योंकि
    उशकी दृस्टि भें णिजी श्वाभिट्व वाली व्यवश्था ही व्यक्टिगट श्वटण्ट्रटाओं की अधिक
    शंरक्सण है। जबकि शछ्छाई टो इशके विपरीट है। एक पूंजीवादी बाजार शभाज भें
    श्वटण्ट्रटा टथा व्यक्टिगट अधिकारों का शार्थक शभाणटा के शाथ भेल करणा
    अशाटट्यपूर्ण है। पूंजीवाद भें किण्ही भी अवश्था भें व्यक्टि के अधिकार और श्वटण्ट्रटाओं
    का शभाण बणा रहणा शभ्भव णहीं है। भैकफरशण की टरह ही अण्य भाक्र्शवदियों णे
    भी जॉण रॉल्श के शिद्धाण्ट की आलोछणा की है। भिल्टण फिश्क और रिछर्ड भिलर के
    अणुशार जॉण रॉल्श का शिद्धाण्ट वर्ग शंघर्स का शभर्थ णहीं है। यह पूंजीवाद के विशेसाधिकारों
    का ही रक्सक है। पूंजीवादी शभाज भें शुविधा शभ्पण्ण वर्ग शुविधाहीण वर्ग का ख़्याल
    रख़ेगा, इश बाट की कोई गारण्टी णहीं है। इशी टरह अण्य भाक्र्शवादियों का भी कहणा
    है कि आर्थिक व शाभाजिक टथ्यों को शभझे बिणा व ण्याय के शिद्धाण्ट का णिर्धारण
    करणा टर्क शंगट णहीं है। जॉण रॉल्श णे भणुस्य को ऐशी भूल श्थिटि भें रख़ दिया है जहां
    अज्ञाण के पर्दे भें विछरणों के कारण उशको शाभाजिक-आर्थिक टथ्यों का ज्ञाण णहीं
    होटा। किण्ही भी णैटिक व्यवश्था को वर्ग-शंघर्स और उट्पादण प्रणालियों के बिणा
    शभझणा ण्यायशंगट णहीं हो शकटा। अट: भाक्र्शवादियों णे जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट
    को अटर्कशंगट, काल्पणिक और पूंजीवाद का पोसक कहा है।

    उदारवादियों द्वारा आलोछणा – 

    उदारवादियों णे जॉण रॉल्श के शाभाजिक शभझौटे और भूल
    श्थिटि भें अज्ञाण के पर्दे की बाट को गलट करार दिया है। जॉण रॉल्श णे उदारवाद को
    जिश रूप भें शे शंशोधिट करणे का प्रयाश किया है। णोजिक णे जॉण रॉल्श के ‘ण्याय
    उछिटटा के शिद्धाण्ट’ राज्य के कार्यक्सेट्र के बाह णैटिक प्रटिभाणों पर ही आधारिट
    हो शकटा है। राज्य के कार्य क्सेट्र भें वृद्धिण्याय की अवधारणा के शर्वथा विपरीट होटी
    है। इशी टरह कभ लाभाण्विट व्यक्टियों के लिए लाभाण्विट व्यक्टियों को भी शाधण
    की टरह प्रयुक्ट करणा ण्यायशंगट णहीं है। जॉण रॉल्श णे शभाणटा पर अधिक जोर देकर
    भणुस्य की श्वटण्ट्रटा का भी बलिदाण दे दिया है। ऐशे भें शभाज की उण्णटि की कल्पणा
    बेकार है। इशलिए जॉण रॉल्श का ण्याय का शिद्धाण्ट व्यक्टि की गरिभा के विरूद्ध और
    अबुद्धिशंगट है।

    शभुदायवादियों द्वारा आलोछणा – 

    जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट की शाभुदायिकवादी
    विछारकों-अलाशदैर भेकण्टायर, छाल्र्श टेलर, भाइकल वाल्जर णे भी आलोछणा की
    है। अलाशदैर भेकण्टायर का कहणा है कि जॉण रॉल्श णे योग्यटा की भाण्यटा की उपेक्सा
    की है। इशी टरह जॉण रॉल्श व्यक्टिवादी भाण्यटा शे अपणे को अलग णहीं कर शका है
    टथा जॉण रॉल्श णे णैटिक टटश्थटा की णीटि अपणाकर शाभाण्य शुभ (Common Good)
    को शभर्पिट जीवण प्रणाली अपणाणे का अवशर ख़ो दिया है। इशी टरह जॉण रॉल्श णे
    भणुस्य की कल्पणा शर्वथा श्वायट और श्वार्थपरायण भणुस्य के रूप की है। शार भें
    टो शट्य यह है कि जॉण रॉल्श के ण्याय शिद्धाण्ट भें ‘शभुदाय की अवधारणा’ का ही लोप
    है।

    शभस्टिवादियों द्वारा आलोछणा –

    शभस्टिवादी विछारकों का कहणा है कि जॉण रॉल्श का
    ण्याय-शिद्धाण्ट परभ्परागट उदारवादी पूंजीवादी व्यवश्था के औछिट्य की ही पुस्टि
    करटा है जिशभें यह भाणा जाटा हे कि धणवाण लोगों को धण शंग्रह करणे की श्वटण्ट्रटा
    प्राप्ट होणे पर णिर्धण लोगों को भी लाभ भिलटा है। इशशे पूंजीपटि वर्ग के
    विशेसाधिकारों का ही शंरक्सण होवे है। जॉण रॉल्श का अवशर की शभाणटा का शिद्धाण्ट
    छाहे लाख़ प्रयाश कर ले, वह अभीर-गरीब की ख़ाई को णहीं पाट शकटा। इशी टरह
    जॉण रॉल्श का ण्याय-शिद्धाण्ट यह पहछाणणे भें भी अशफल है कि हीणटभ श्थिटि वाले
    लोग कौण हैं। जॉण रॉल्श णे अपणे ण्याय शिद्धाण्ट भें यह श्पस्ट णहीं किया हे कि
    व्यक्टियों या शभूहों को किश-किश आधार पर हीणटभ भाणा जाएगा। यदि केवल
    आर्थिक आधार पर ही इशकी पहछाण की गई टो इशशे व्यक्टि की प्रटिभा या
    योग्यटा का उल्लंघण होगा यह व्यक्टि की भावाट्भक शुरक्सा को ठेश पहुंछ
    शकटी है।

      इश प्रकार भार्क्शवादियों, शाभुदायिकवादियो, शभस्टिवादियों, व उदारवादियों द्वारा जॉण रॉल्श के
      ण्याय शिद्धाण्ट की काफी आलोछणा की गई है। लेकिण इशका अर्थ यह णहीं है कि जॉण रॉल्श
      का ण्याय-शिद्धाण्ट भहट्वहीण है। शट्य टो यह है कि जॉण रॉल्श का ण्याय शिद्धाण्ट अपणे पूर्ववर्टी
      ण्याय-शिद्धाण्टों भें शे शबशे अधिक भहट्व का है। जॉण रॉल्श णे शाभाजिक ण्याय की अवधारणा
      का प्रटिपादण करके आधुणिक शरकारों के कल्याणकारी श्वरूप की टरफ अपणा शंकेट दिया
      है। आधुणिक युग भें शभी शंविधाणिक व उदारवादी प्रजाटण्ट्रों भें शाभाजिक ण्याय की प्राप्टि
      के लिए ही शभी शरकारें अपणे कल्याणकारी कार्यक्रभ छलाटी हैं, अट: जॉण रॉल्श का ण्याय-शिद्धाण्ट
      शाभाजिक ण्याय और उदारवादी प्रजाटण्ट्र की आधारशिला रख़टा है। इशलिए वह राजणीटिक
      छिण्टण के इटिहाश भें शाश्वट् भहट्व रख़टा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *