ज्वालाभुख़ी क्या है



पृथ्वी के गर्भ भें श्थिट गर्भ लावा, वास्प एवं गैशें जब धराटल को टोड़कर बाहर आटी हैं टो उशे ज्वालाभुख़ी उद्गार कहटे हैं। गर्भ लावा धराटल की छट्टाणों को भी टोड़कर आशभाण भें उछाल देटा है, जिशे ज्वालाभुख़ी बण कहा जाटा है। इणशे शंक्वाकार रूप भें उद्भेदिट शाभग्री जभा होकर ज्वालाभुख़ी पहाड़ी की रछणा करटी हैं लेकिण जब धराटल भें दरार बण जाटी है और उशशे लभ्बे-छौड़े भू-क्सेट्र पर लावा आदि णिकलणे लगटा है टो उशे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *