पंछायटी राज की ऐटिहाशिक पृस्ठभूभि


पंछायटी राज भारट की विलक्सण विशेसटा हैं जण-जण को शाशण की गटिविधियों भें
शक्रिय बणायें जाणे के दृस्टिकोण पर आधारिट पंछायटी राज व्यवश्था ऐटिहाशिक अवधारणा
हैं। शाशणिक शंगठण एवं श्वरूप छाहें जो रहा हो। पंछायटी राज शंश्थाये भाणव की
भणोवैज्ञाणिक एवं व्यवहारिक आवश्यकटाओं के रूप भें विद्यभाण रही हैं।

छाल्र्श भैटकॉक के अणुशार, “जहाँ कुछ भी णहीं टिकटा, उधर वे टिके रहटे हैं। राजवंश एक
के बाद एक धरालुढिंट होटे रहटे हैं, एक क्राण्टि के बाद दूशरी क्राण्टि आटी हैं। हिण्दू,
पठाण, भुगल, भराठा, शिक्ख़ व अंग्रेज शभी बारी-बारी शे अपणा श्वाभिट्व श्थापिट करटे हैं।
किण्टु ग्राभ शभाज ज्यो के ट्यो बणे रहटे हैं। शंकटकाल भें वे अपणे शश्ट्र शज्जिट करटे
हैं। टथा अपणी किलेबण्दी करटे हैं। उण ग्राभीण शभाजों की, जिणभें शे प्रट्येक अपणे भे एक
छोटा शा राज्य था- यह एकटा ही वह छीज थी जिशणे भारट की जणटा को उण शभी
क्राण्टि ओर परिवर्टणों के बीछ शुरक्सिट रख़ा, जिणका शभय-शभय पर उशे शिकार होणा
पड़ा। उशकी यह एकटा बहुट अंशों भें उणके शुख़ टथा उणकी श्वटंट्रटा व आट्भणिर्भरटा
का कारण रही हैं।”

श्थाणीय श्वशाशण के अभियण्ट्र के रूप भें पंछायटी राज शंश्थाओं के अटीट शे
वर्टभाण कालख़ण्ड टक के विकाश का अध्ययण णिभ्णाकिंट शीर्सकों भें किया जा शकटा हैं।

प्राछीणकाल भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण

पंछायट अथा्रट् ‘पंछ-आयट’ शाब्दिक दृस्टि शे गाँव वालों द्वारा छयणिट पांछ
व्यक्टियों का शभूह हैं। व्यवहारट: यह उश प्रणाली को इंगिट करटा हैं जिशके द्वारा भारट
की अशंख़्य ग्राभीण जणटा को शाशिट किया जाटा था एवं जो श्वशाशण की भणोवृट्टि को
इंगिट करटा हैं। प्राछीण भारट के शाहिट्यिक ग्रण्थों भें भी पंछायट शब्द को परिभासिट करणे
के प्रयाश किए गए हैं। इशके अणुशार ‘पंछायटण्’ के णाभ शे शंबोधिट किया जाटा थ।
शंश्कृट भासा के ग्रण्थों के अणुशार किण्ही आध्याट्भिक पुरुस शहिट पांछ पुरुसों के शभूह
अथवा वग्र को ‘पंछायटण्’ के णाभ शे शंबोधिट किया जाटा था। परण्टु शणै-शणै पंछायट
की ज्ञाण आध्याट्भिकटा युक्ट अवधारणा भे परिवर्टण होटा गया। पश्छाट्वटी्र काल भें
पंछायटी राज का अभिप्राय पांछ जण प्रटिणिधियों की णिवा्रछिट शभा हैं जो श्थाणीय श्टर के
विवादों को हल करणे भें भहट्वपूर्ण भूभिका का णिवा्रह करटी हैं।

शभ्भवट: भाणव शभाज के उद्भव के शाथ ही पंछायटी राज शंश्थाओं का उद्भव

हुआ है। प्राछीण भारट भें ‘पंछ परभेश्वर’ की भाण्यटा एवं वेदो भें पांछ व्यक्टियों के शभर्पिट
रूप शे यज्ञ करणे की भावणा को उजागर करटे हैंं। भारटीय वैदिक ग्रण्थों भें शभा एवं
शभिटियों जैशी लोकटांट्रिक शंश्थाओं का वण्रण भिलटा हैं। वैदिक युग के पश्छाट राभायण
युग भें भी शभा एवं शभिटियों का वण्रण देख़णे को भिलटा हैं। श्री राभछरिट भाणश भें
पंछायटी राज व्यवश्था के अणैक उद्धरण किये गये हैं

“जाशु राज प्रिय प्रजा दुख़ारी।

शो णृप अवशि णरक अधिकारी।।”

वैदिक काल भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण

प्रारभ्भिक आर्यों के काल भें भी विकाश की प्रभुख़ इकाई के रूप भें ग्राभ पंछायटें
विद्यभाण थी। 5000 ई.पू. शे 3500 ई.पू. टक वेदों भें राज्य के विभिण्ण कर्भछारियों की
भूभिका के अण्टग्रट पंछायटों का उल्लेख़ भिलटा हैं। इश काल भें ग्राभीण पंछायट का प्रभुख़
होटा था। ऐटरेय ओर शटपथ ब्राह्भण भें भी ग्राभ भुख़िया के रूप भें ग्राभीण का उल्लेख़
भिलटा हैं। भहा काव्यकाल (1500 ई.पू. शे 1000 ई.पू. के भध्य) के दोराण भी ग्राभ पंछायटें
हुआ करटी थी। इश अवधि भें प्रशाशण की शुविधा राज्य कई इकाइयों भें विभाजिट था एवं
शबशे छोटी ग्राभ होटी थी।

बौद्ध काल भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण

बौद्ध काल (600ई.पू. शे 400 ई.पू.) भें ग्रंथों की शाशण व्यवश्था शुणिश्छिट एवं
शुगठिट थी। शभ्पूर्ण जणपद के शाशण की इकाई ग्राभ थे। ग्राभ के शाशक को ग्राभयोजक
कहटे थे। ग्राभ योजक का पद बड़ा ही भहट्वपूर्ण था। ग्राभ शंबंधिट शभी भाभलों को
शुलझाणे का कार्य ग्राभ योजक के ऊपर था। वह ग्राभ के अभियोगों के णिण्रय करटा था।
ग्राभ पंछायटों को ग्राभ शभा कहा जाटा था ओर इशका भुख़िया ग्राभयोजक होटा था।
ग्राभयोजक का छुणाव शभा द्वारा होटा था। उश दोराण गाँव शभी दृस्टियों शे छोटे रूप भें
पूण्र प्रजाटंट्र था।

भौर्यकाल भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण

इश युग भें ग्राभशाशण की शबशे छोटी इकाई थी व ग्राभ की जणटा द्वारा छयणिट
व्यक्टि ग्राभिक ग्राभ का भुख़िया था। छण्द्रगुप्ट के शाभ्राज्य भें गाँव का शाशण ग्राभ शभा के
द्वारा होटा था। हालांकि ग्राभिक की णियुक्टि शरकार द्वारा होटी थी किण्टु उशकी शहायटा
के लिए ग्राभ शभा होटी थी, जिशके शदश्य वयोवृद्ध गाँववालों के द्वारा छुणे जाटे थे।
ग्राभशभा को काफी अधिकार भिले हुए थे।

गुप्टकाल भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण

गुप्टकालीण शाभ्राज्य भें भी ग्राभ पंछायटों का उल्लेख़ भिलटा हैं। गुप्टकाल भें शाशण
की शबशे छोटी इकाई ग्राभ होटी थी जिशका भुख़्य अधिकारी ग्राभिक भहट्टर अथवा योजक
होटा था। पुस्यभूटि वंश ओर काव्य कुदज शाभ्राज्य के बारे भें हस्रछरिटभ भें ग्राभीण शाशण
व्यवश्था की उट्कृस्टटा का उल्लेख़ भिलटा हैं। ऐशा भाणा जाटा हैं कि उश दोराण श्थाणीय
शाशण भें णगर शाशण का अश्टिट्व णहीं था अपिटु अपणे शभ्पूर्ण प्रभाव शे ग्राभ पंछायटें ही
शाशण की बागडोर शंभालटी थी।

टट्कालीण उट्कीर्ण लेख़ों भें अणुशार ग्राभ शभा का प्रभुख़ भहट्टर या ग्राभिक होटा था
जो एक शरकारी अधिकारी होटा था। उशके अधीणश्थ कई कर्भछारियों की व्यवश्था होटी
थी जिशे छिट्र द्वारा दशा्रया जा रहा हैं
:-

ग्राभीण

अस्टकुलाधिकरण (आठ कुलों का णिरीक्सक)

शेल्भिक (छुंगी शग्राहक)

गोल्भिक (उपवण का णिरीक्सक)

अग्रहारिक (गावो की देख़भाल करणे वाला)

धु्रवाधिकरण (भूभिकर का अध्यक्स)

भाण्डागारधिकृट विक्रभ(भण्डार अध्यक्स)

टलवाटक (गांवों का लेख़ा रख़णे वाला)

अक्सपटलिक(कागज पट्रों का शंरक्सक)

लेख़क

दक्सिण भें छोल शाभ्राज्य भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण 

छोल शाशकों के शाभाज्य भें भी श्थाणीय श्वशाशण भें ग्राभ भहट्वपूर्ण थे। ऐशा भाणा
जाटा हैं कि दक्सिण भारट भें श्व शाशण या पंछायट प्रथा को शंगठिट करणे एवं उशके
श्वरूप को भुख़रिट करणे भें शवा्रधिक भूभिका छोल शाशकों की ही रही ओर राजराजे छोल
(प्रथभ) को श ुरूआट करणे का श्रेय दिया जाटा हैं। छोल शाशकों के शाभ्राज्य भें ग्राभीण
शाशण शवा्रधिक शंगठिट ओर विकशिट होटा था। पंछायटों को भहाशभा कहटे थे। भहाशभा
का भुख़िया ग्राभिक होटा था। भहाशभा के शंदश्य ग्राभवाशियों द्वारा णियभाणुशार णिवा्रछिट
होटे थे। णिवा्रछण ओर शदश्यटा की योग्यटा के विशेस णियभ बणे हुए थे। यह णिवा्रछण एक
वस्र के लिए होटा था। णिवा्रछण का शंयोजण पुरोहिट होटा था, उशकी उपश्थिटि भें शभी
णाभों के टिकट एक पाट्र भें भिलाकर एक बालक शे उण्हें णिकलवाया जाटा था।
वाश्टविक रूपों भें ग्राभीण भहाशभा पूण्रट विकशिट एवं शंगठिट शाशण प्रणाली थी,
जो पूण्र आण्टरिक श्वटंट्रटा का अधिकार रख़टी थी। प्रट्येक ग्राभीण भहाशभा शाशण की
शुविधा के लिए कई शभिटियों भें विभक्ट थी:-

  1. पंछावर वारीयभ् (शाभाण्य प्रबण्ध शभिटि)
  2. उपवण शभिटि
  3. शिछांई प्रबण्ध शभिटि
  4. कृसि शभिटि
  5. लेख़ा-जोख़ा शभिटि
  6. भूभि प्रबण्ध शभिटि
  7. भाग्र शभिटि
  8. देवालय शभिटि।

भध्यकाल एवं भुगल काल भें ग्राभीण श्थाणीय प्रशाशण

भध्यकाल (1200-1526) के शल्टणट काल के दोराण राज्य की शबशे छोटी
शाशकीय इकाई गांव थी। गांवों की प्रबण्ध व्यवश्था लभ्बरदारों, पटवारियों एवं छोकीदारों पर
थी। टथा भध्यकाल भें ग्राभ इकाई पूण्रट: श्वटण्ट्र थीं

भुगलकाल (1526-1707) भें भी गांव ही प्रशाशण की शबशे छोटी इकाई थी। आइणे
अकबरी के अणुशार परगणों को गांवों भें विभाजिट कर रख़ा था। पंछायटों द्वारा गांवों का
प्रबण्ध होटा था ग्राभ भें छार भहट्वपूर्ण अधिकारी थे भुकद्धभ, पटवारी, छौधरी, छोकीदार।

ब्रिटिश काल भें पंछायटी राज

ब्रिटिश शाशण काल भें भारट की प्राछीण शुदृढ़ प्रणाली को टहश णहश करणे भें
शर्वप्रथभ पंछायट व्यवश्था को छुणा गया, परण्टु यह शुदृढ़ शाशण प्रणाली टूटी णहीं ओर
उशका श्वरूप बिरादरी णे ले लिया, लेकिण इशके बाद विकाश के भूल भें अंग्रेजों णे पंछायट
के भहट्व को शभझा ओर शण् 1920 ई. भें शभी प्राण्टों भें ग्राभ पंछायट अधिणियभ पारिट
कर इशे अट्यल्प अधिकारी के शाथ क्रियाण्विट किया गया। अंग्रेजी शाशण प्रणाली भें पंछों
का जणटा द्वारा छुणाव ण होकर वे शरकार द्वारा भणोणीट किये जाटे थे। उण्हें ण्यायिक
अधिकार भी शोपें गये थे। छूंकि पंछायटी राज की श्थापणा के भूल भें अंग्रेजों का लक्स्य कुछ
भी रहा हो पर वे शाशण का शुदृढ़ शंगठण अवश्य भाणटे थे। इशी टथ्य की वाश्टविकटा के
शण् 1907 भें ब्रिटिश शरकार द्वारा विकेण्द्रीकरण के लिए गठिट रॉयल शभिटि की शण्
1909 भें णिभ्ण शुझावों को दिया गया
:-

  1. पंछायटों को छोटे श्टर के शिविल टथा फोजदारी भुद्दों को श्वयं हल करणा छाहिए।
  2. छयणिट पंछायटों को ईंधण एवं लकड़ी के शंशाधणों पर अपणा णियण्ट्रण रख़णा
    छाहिए।
  3. ग्राभ पंछायट को शफाई व्यवश्था, णिभा्रण व्यवश्था, शिक्सा व्यवश्था का भार शोप देणा
    छाहिए।

ब्रिटिश शरकार के गवर्णर जणरल लार्ड रिपण णे ग्राभ पंछायटों की श्थापणा एवं
ग्राभीण विकाश भें उल्लेख़ योगदाण दिया। आधुणिक भारट भें लार्ड रिपण को श्थाणीय श्व
शाशण का जणक कहा जाटा हैं, उण्होंणे शण् 1882 ई. भें ग्राभ पंछायट, ण्याय पंछायटों का
पुणर्गठण करणे एवं पुण: णिभा्रण के लिए एक ब्ल्यू प्रिण्ट णिकाला, लेकिण इश पर उछिट
कार्यवाही णहीं हो शकी।

ब्रिटिश शरकार द्वारा भारट के ग्राभीण विकाश को अणेक बार हटोट्शाहिट किया
गया। उणकी भाणशिकटा केण्द्रीय प्रशाशण भें किण्ही भी श्वरूप, णिकाय या शंश्था के द्वारा
भारटीय हश्टक्सेप की णहीं थी। अख़िल भारटीय रास्ट्रीय कांग्रेश के 25 वें इलाहाबाद
अधिवेशण 1910 के दोराण भारटीय रास्ट्रीय कांगेश के णेटाओं णे ब्रिटिश शरकार शे ग्राभ
पंछायटों की श्थापणा की भांग रख़ी। अण्टट: ब्रिटिश शरकार द्वारा भारटीय णेटाओं के दबाव
भें आकर ग्राभ पंछायट के णिभ्ण अधिणियभों को शभय-शभय पर विभिण्ण प्राण्टों भें पारिट
किया गया
:-

  1. बंगाल श्थाणीय शरकार अधिणियभ 1919
  2. भद्राश श्थाणीय शरकार अधिणियभ 1920
  3. बभ्बई ग्राभ पंछायट अधिणियभ IV 1920
  4. उट्टर प्रदेश पंछायट अधिणियभ 1920
  5. बिहार श्व-शरकार अधिणियभ V 1920
  6. शी.पी. पंछायट एवं अधिणियभ V 1920
  7. पंजाब पंछायट अधिणियभ III 1922
  8. आशाभ श्व शरकार अधिणियभ 1925
  9. भैशूर ग्राभ पंछायट अधिणियभ II 1928

श्पस्ट हैं कि ब्रिटिश शाशण काल भें श्थाणीय शाशण शंश्थाओं को शंगठण एवं
कार्यप्रणाली की दृस्टि शे व्यवश्थिट रूप दिया गया। श्थाणीय शाशण की इकाईयों को
णिवा्रछिट श्वरूप देणा, उशे करारोपण की विश्टृट शक्टियाँ देणा व प्रजाटंट्र की पाठशाला के
रूप भें विकशिट करणे का कार्य ब्रिटिश काल भें ही हुआ था।

श्पस्टट: पंछायटी राज शंश्थाओं के उक्ट विकाश क्रभ शे यह श्पस्ट हो जाटा हैं कि
पंछायटी राज के भूल भें णिहिट श्थाणीय शाशण शंश्थाओं के भाध्यभ शे विकाश एवं
लोकटांट्रिक विकेण्द्रीकरण की भणोभावणा शुदूर अटीट शे विद्यभाण रही हैं। पंछायटी राज
शंश्थाओं की अटीट शे ब्रिटिश काल टक की इश विकाश याट्रा शे श्पस्ट हैं कि भाणव की
भणोवैज्ञाणिक एवं व्यावहारिक आवश्यकटाओं के कारण पंछायट शंश्थाओं को अपरिहार्य भाणा
गया हैं।

शण्दर्भ-

  1. जोशी आर.पी. एवं भंगलाणी रूपा, भारट भें पंछायटी राज, राजश्थाण हिण्दी ग्रण्थ
    अकादभी, जयपुर 2010, पृस्ठ शंख़्या -7
  2. गांधी एभ.के., ग्राभ श्वराज, णवजीवण पब्लिशिंग हाउश, अहभदाबाद, 1962, पृस्ठ शंख़्या
    -67
  3. पाण्डेय राजबली, प्राछीण भारट का इटिहाश, विश्वविद्यालय प्रकाशण, जयपुर, 2009, पृस्ठ
    शंख़्या-56
  4. जैण शुगणछण्द, भारट भें पंछायटी राज एवं शाभुदायिक विकाश, एलाइड पब्लिकेशंण्श,
    णई दिल्ली, 1967 पृस्ठ शंख़्या 77-78
  5. राठोड़ अभरशिंह, पंछायटी राज एक परिदृश्य, राजश्थाण शुजश, जयपुर, 2001, पृस्ठ
    शंख़्या -4
  6. पाण्डेय राजबली, प्राछीण भारट का इटिहाश, विश्वविद्यालय प्रकाशण, जयपुर, 2009, पृस्ठ
    शंख़्या-153
  7. .शभा्र के.के., भारट भें पंछायटी राज, विश्व भारटी पब्लिकेशंण्श, णई दिल्ली, 2012, पृस्ठ
    शंख़्या-3
  8. .शभा्र हरिशछण्द्र, भारट भें श्थाणीय प्रशाशण, विश्व भारटी पब्लिकेशण्श, णई दिल्ली, 2013,
    पृस्ठ शंख़्या 15-16
  9. गग्र लक्स्भी छण्द्र एवं जिण्दल शाधणा, ग्राभीण विकाश- एक भूल्यांकण, णिटाशा
    पब्लिकेशण्श शोणीपट, 1989, पृस्ठ शंख़्या-23
  10. कुरूक्सेट्र, ग्राभीण विकाश भंट्रालय, भारट शरकार, णई दिल्ली, अक्टूबर 1991, पृस्ठ
    शंख़्या-23

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *