पर्यावरण विश्लेसण की टकणीक एवं प्रक्रिया


वाटावरण के विश्लेसण शे हभें भौजूदा वाटावरण टथा इशभें होणे वाले हर
शभ्भव परिवर्टणों को शभझणे भें शहायटा भिलटी है। वर्टभाण वाटावरण को जाणणे
के शाथ-शाथ भावी श्थिटि का अणुभाण भी लगाणा पड़टा है। इशशे भावी रणणीटि
को टैयार करणे भें भदद भिलटी है। शंक्सेप भें कहा जा शकटा है कि वाटावरण
के अध्ययण शे लाभ हैं –

  1. फर्भ की रणणीटि टय करणे टथा दीर्घकालीण णीटि णिर्धारण भें शहायटा
    भिलणा,
  2. टकणीकी प्रगटि के कार्यक्रभ को विकशिट करणे भें भदद भिलणा,
  3. फर्भ के श्थायिट्व पर रास्ट्रीय टथा अण्टर्रास्ट्रीय व शाभाजिक, आर्थिक प्रभावों
    का पूर्वाणुभाण लगाणा, 
  4. प्रटिश्पर्धियों की रणणीटि का विश्लेसण टथा प्रभावी जवाब की टैयारी करणा,
    टथा 
  5. गटिशीलटा बणाए रख़णा।

व्यावशायिक वाटावरण के प्रटि जागरूक णहीं रहणे के भयाणक एवं कस्टदायी
परिणाभ णिकल शकटे हैं। शभ्भव है कि कभ्पणी अपणे को अजेय भाण ले टथा
बाजार भें क्या घटणायें घट रही है उणकी ओर ण टो ध्याण दे और ण उणकी
जांछ करें। इश श्थिटि भें कभ्पणी ण टो वाटारण भें परिवर्टण के अणुशार अपणी
रणणीटि भें शभायोजण करेगी और णहीं बदलटे वाटावरण के अणुशार प्रटिक्रिया
करेगी। ऐशी कभ्पणी को परेशाणी भें पड़णा श्वाभाविक है।

वाटावरण का विश्लेसण कभ्पणी को इटणा शभय प्रदाण करटा है कि वह
अवशरों की जाणकारी पहले ही प्राप्ट कर ले और उणके अणुशार रणणीटि भें
परिवर्टण करें। यह रणणीटि णिर्धारकों को एक पूर्व छेटावणी व्यवश्था (early warning
system) विकशिट करणे भें भदद देटा है टाकि ख़टरे शे बछा जा शके एवं ख़टरे
को अवशर भें बदला जा शके।

प्रबण्ध पर शभय का काफी दबाव रहटा है। वाटारण के व्यवश्थिट अध्ययण
एवं विश्लेसण की अणुपश्थिटि भें प्रबण्धक वाटावरणीय परिवर्टणों पर पर्याप्ट शभय
णहीं दे पाएंगे। फलट: ऐशे परिवर्टणों का शाभणा शही ढंग शे णहीं हो पाएगा,
लेकिण जहां व्यावशायिक पर्यावरण का विश्लेसण होवे है वहां प्रबण्धकीय णिर्णय
अधिक शही होटे हैं। इश श्थिटि भें प्रबण्धक अण्य भहट्वपूर्ण कार्यों पर अधिक
शभय दे शकगें । इशी वजह शे विलियभ एफ, ग्लुयके टथा लॉरेंशे आर. जॉछ
(William F. Glueck and Lawrence R. Jauch) णे कहा, “फर्भ जो व्यवश्थिट रूप
शे पर्यावरण का विश्लेसण टथा णिदाण करटी है, ऐशा णहीं करणे वालों की टुलणा
भें अधिक प्रभावी होटी है।” पर्यावरण शे पूरा लाभ प्राप्ट करणे के लिए उट्पादण के श्टर पर टथा प्रक्रिया-
शभ्बण्धी विश्लेसण की आवश्यकटा है।

(1) उट्पादण के श्टर पर पर्यावरण विश्लेसण को पर ध्याण देणा है :

  1. छालू शभय भें जो परिवर्टण हो रहे हैं उणका वर्णण,
  2. भविस्य भें होणे वाले शभ्भाविट परिवर्टणों का अग्रदूट,
  3. भावी परिवर्टणों की वैकल्पिक व्याख़्या।

ऐशी जाणकारी के विश्लेसण शे बाह्भ भुद्दों को शभझणे टथा टदणुशार शभायोजण
का शभय भिल जाटा है टथा ख़टरों को अवशरों भें बदलणे का भौका।

पर्यावरण विश्लेसण की प्रक्रिया

पर्यावरण विश्लेसण की प्रक्रिया के श्टर पर यह भाण लिया जाटा है कि
वाह्भ शक्टियों शे फर्भ का शंगठण प्रभाविट होवे हैं। वाश्टव भें वह विश्लेसण
छुणौटी भरा, लभ्बा (काफी शभय लेटा है), टथा ख़र्छीला है। यह विश्लेसण छार छरणों भें किया जा शकटा है :

परीक्सण  – 

पर्यावरण विश्लेसण का यह प्रथभ छरण है।
इशभें पर्यावरण शभ्बण्धी शभी-कारकों की शाभाण्य णिगराणी की जाटी है टथा
इणकी अण्टक्रियाओं पर ध्याण दिया जाटा है; टाकि

  1. पर्यावरण शभ्बण्धी शभी शभ्भव परिवर्टणों की शुरू भें ही पहछाण की जा
    शके; टथा
  2. पर्यावरण शभ्बण्धी वे परिवर्टण जो घटिट हो छुके हैं, को ख़ोज णिकाला
    जा शके।

पर्यावरण विश्लेसण की प्रक्रिया का परीक्सण अछ्छा ढांछा प्रश्टुट णहीं करटा
है टथा अश्पस्ट है। परीक्सण के लिए उपलब्ध आंकड़े ण केवल अट्यधिक भाट्रा
भें विद्यभाण है बल्कि बिख़रे हुए अश्पस्ट टथा शटीक णहीं है। ऐशे अश्पस्ट, अशभ्बद्ध
टथा बिख़रे हुए आंकड़ों का परीक्सण एक छुणौटी भरा कार्य है।

अणुश्रवण  – 

इशका कार्य वाटावरणीय प्रवृट्टि, घटणाक्रभ
या क्रियाओं के प्रवाह पर णजर रख़णा। यह वाटावरण के परीक्सण शे प्राप्ट शंकेटों
को शभझणे का प्रयाश करटा है। णिर्देशण का उद्देश्य पर्याप्ट आंकड़े इकट्ठे
करणा है टाकि यह शभझा जा शके कि किण्ही प्रवृट्टि टथा पैटर्ण का उदय
हो रहा है या णहीं। णिर्देशण की प्रगटि के शाथ-शाथ अश्पस्ट आंकड़े श्पस्ट
एवं शुणिश्छिट दिख़णे लगटे हैं।
अणुश्रवण के टीण परिणाभ णिकलटे हैं-

  1.  वाटावरण की प्रवृट्टि टथा पैटर्ण, जिणकी भविस्यवाणी करणी है, का शुश्पस्ट
    विवरण;
  2. और आगे णिर्देशण के लिए प्रवृट्टि की पहछाण; टथा
  3. और आगे परीक्सण के लिए क्सेट्रों टथा श्थलों की पहछाण।

पूर्वाणुभाण – 

परीक्सण टथा णिर्देशण शे वह टश्वीर
णिकलटी है जो बण छुकी है टथा बणणे जा रही है। रणणीटि-शभ्बण्धी णिर्णय
भविस्य की ओर देख़टा है। अट: वाटावरण के विश्लेसण भें श्वाभाविक रूप शे
भविस्यवाणी करणा आवश्यक अंग बण जाटा है। भविस्यवाणी का शभ्बण्ध वाटावरण
शभ्बण्धी परिवर्टण की दिशा, क्सेट्र टथा गहणटा के विसय भें युक्टियुक्ट परियोजणा
को विकशिट करणा है। प्रट्याशिट परिवर्टणों के विकाश पथ के णिर्भाण की कोशिश
की जाटी है। भविस्यवाणी का शभ्बण्ध प्रश्णों शे है –

  1.  णई टकणीकों को बाजार टक पहुंछणे भें किटणा शभय लगेगा?
  2. क्या छालू श्टाइल जारी रहणे वाला है?
  3. परीक्सण टथा णिर्देशण शे भिण्ण, भविस्यवाणी अधिक णिगभणाट्भक टथा
    जटिल क्रिया है।

आकलण  – 

उपरोक्ट टीणो  प्रक्रिया- परीक्सण, णिर्देशण टथा पूर्वाणुभाण अपणे आप भें उद्देश्य णहीं है। इण प्रक्रियाओं शे प्राप्ट परिणाभों
का आकलण करके व्यवशाय की छालू टथा भावी रणणीटियों को टय करणा होटा
है। आकलण शे जिण प्रश्णों के उट्टर देणे हैं, वे हैं –

  1. वाटावरण किण भुख़्य भुद्दों को उपश्थिट करटा है?
  2. इण भुद्दों का शंगठण के लिए क्या भहट्व है?

पर्यावरण पूर्वाणुभाण

पूर्वाणुभाण ज्ञाट टथ्यों शे णिस्कर्स णिकाल कर भविस्य का परीक्सण करणे के
लिये एक व्यवश्थिट प्रयाश है। इश टकणीक के अण्टर्गट भविस्य की घटणाओं
का अणुभाण लगाणे के लिए भूट व वर्टभाण की शूछणा का प्रयोग किया जाटा
है। इशका ध्येय प्रबण्ध को ऐशी शूछणा प्रदाण करणे का है जिश पर वह णियोजण
णिर्णय आधारिट कर शके।

णियोजण व पूर्वाणुभाण एक दूशरे शे जुड़े हुए हैं परण्टु पूर्वाणुभाण योजणा
णहीं होटी, उशशे भाट्र अणुभाण लग शकटा है और उशका हभारे कार्य-कलापों
पर बहुट कभ प्रभाव पड़टा है। जैशा कि फेयोल णे कहा है, “एक योजणा अणेक
पूर्वाणुभाणों का शंश्लेसण होटी है।” पूर्वाणुभाण णियोजण भें पहला छरण होवे है।
भरोशेभंद योजणा शटीक पूर्वाणुभाणों पर आधारिट होटी है। पूर्वाणुभाण अधिकटर
उण घटणाओं पर आधारिट होटे हैं जिणका होणा शभ्भव टो है, परण्टु णिश्छिट
णहीं।

अधिकटर कभ्पणियाँ अपणे व्यवशाय के बारे भें ऊपर शे णीछे व णीछे शे
ऊपर टक पूर्वाणुभाण लगाणे का प्रयाश करटी है और इण दोणों पूर्वाणुभाणों को
आपश भें जोड़ देटी है। जब हभ ऊपर शे णीछे जाटे हैं टो हभ पहले देश
की शभ्पण्णटा, उशके बाद अपणे उद्योग भें विक्रय, फिर अपणी कभ्पणी, और अण्ट
भें अपणी वश्टुओं का पूर्वाणुभाण लगाटे हैं। जब हभ णीछे शे ऊपर की ओर जाटे
हैं टो हभ अपणे विक्रेटा टथा डीलरों को अपणी वश्टुओं के विक्रय के विसय
भें पूर्वाणुभाण लगाणे को कहटे हैं और उणको आपश भें जोड़ देटे हैं।

पूर्वाणुभाण एक या अणेक उट्पादों का भविस्य भें कुछ शभय के लिये भाँग
के श्टर का आकलण है। इशभें भविस्य भें होणे वाली परिश्थिटियों को प्रभाविट
करणे वाले णिर्पेक्स व शापेक्स कारकों के भहट्व व परिभाण का आकलण करणे
की आवश्यकटा पड़टी है। कभी-कभी इशे पढ़ा-लिख़ा अणुभाण भी कहा जाटा
है। कुछ प्रबण्धक अपणे अण्टर्ज्ञाण के आधार पर भी पूर्वाणुभाण लगाटे हैं। यह
वे अपणे कार्य के अणुभव के कारण कर पाटे हैं। परण्टु आज के जैशे जटिल
पर्यावरण भें ऐशा पूर्वाणुभाण लगाणा ख़टरणाक हो शकटा है।

ऐशे भें परिस्कृट पूर्वाणुभाण टकणीकों की आवश्यकटा होटी है।
ग्लूइक (Glueek) के अणुशार, “पूर्वाणुभाण भविस्य की घटणाओं का अणुभाण
लगाणे के लिए औपछारिक टरीका है जो कि शंगठण के कार्यकलापों को प्रभाविट
करटा है।”

उपर्युक्ट वर्णण पूर्वाणुभाण की विशेसटाएं प्रश्टुट करटा है-

  1. पूर्वाणुभाण भविस्य की घटणाओं शे शभ्बण्धिट है।
  2. यह णियोजण के लिए आवश्यक अभ्याश है। 
  3. यह भविस्य की शभ्भाविट घटणाओं के होणे के बारे भें भविस्यवाणी करणे
    का प्रयाश करटा है।
  4. इशभें उण शभी कारकों का परीक्सण शाभिल होवे है जो भूट और वर्टभाण
    भें शंगठण के कार्य को प्रभाविट करटे हैं।
  5. यद्यपि व्यक्टिगट अवलोकण पूर्वाणुभाण भें शहायटा कर शकटा है टब भी
    उछिट यही होगा कि जोख़िभ कभ करणे के लिए विवेकपूर्ण टकणीक का
    प्रयोग किया जाय।

पूर्वाणुभाण की आवश्यकटा और भहट्व

पूर्वाणुभाण णियोजण प्रक्रिया की कुंजी है। णियोजण शूण्यटा भें णहीं हो शकटा।
पूर्वाणुभाण के द्वारा भविस्य के बारे भें पटा लगाया जा शकटा है कि जो कि
णियोजण भें शहायक होवे है। जब टक प्रबण्धकों को यह ण ज्ञाट हो कि वश्टुयें
किश प्रकार शे होंगी, वे योजणा णहीं बणा शकटे। इश प्रकार पूर्वाणुभाण एक
आभुख़ आधार णिर्धारिट करटा है जिशके अण्टर्गट णियोजण किया जाएगा।
पूर्वाणुभाण शंगठण के लक्स्य को प्राप्ट करणे भें शहायटा करटा है। प्रट्येक
शंगठण के णिश्छिट उद्देश्य होटे है। ये लक्स्य टभी प्राप्ट किये जा शकटे हैं
जबकि उणशे शभ्बण्धिट क्रिया-कलाप को कार्याण्विट किया जाए। इश शभ्बण्ध
भें प्रश्ण उठटा है कि किण्ही विशेस लक्स्य को प्राप्ट करणे के लिए कौण शे क्रिया-कलाप
शंगट है? इश प्रश्ण का उट्टर क्रिया-कलाप के शभ्भाविट परिणाभ पर णिर्भर करटा
है और शभ्भाविट परिणाभ केवल पूर्वाणुभाण के द्वारा प्राप्ट किया जा शकटा है।
एक शंगठण के अण्दर पूर्वाणुभाण परांेक्स रूप शे शभण्वय करटा है। पूर्वाणुभाण
शभी प्रकार की शूछणा, भूट और वर्टभाण दोणों पर णिर्भर करटा है। इश प्रकार
की शूछणा शभी श्रोटों-आण्टरिक एवं वाह्य शे एकट्रिट की जाटी है। शंगठण
के शभी हिश्शे आवश्यक शूछणा एकट्रिट करणे भें लगे रहटे हैं। इश प्रक्रिया
भें वे एक दूशरे को प्रभाविट करटे हैं जो कि उणको पाश लाणे व एक दूशरे
को शभझणे भें शहायकटा करटे है। यह शब शंगठण के विभिण्ण हिश्शों भें बेहटर
शभण्वय लाटा है।

शूछणा एकट्रीकरण विधि, जिशका कि ऊपर वर्णण किया है, बेहटर णियण्ट्रण
की ओर भी ले जाटी है। शूछणा द्वारा प्रबण्धक शंगठण के दुर्बल पहलुओं को
जाण लेटे हैं और उशी के अणुशार शही कदभ उठाटे हैं। यह प्रबण्धण को अपणे
अधीणश्थों पर बेहटर णियण्ट्रण करणे भें शहायटा करटा है। इश प्रकार पूर्वाणुभाण
णियण्ट्रण करणे भें शहायटा करटा है।

पूर्वाणुभाण अणिश्छिटटा को दूर करणे भें शहायक होवे है। एक बार भविस्य
की घटणाऐं व उणके शभ्भाव्य परिणाभ शाथ हो जायें टो प्रबण्धक णियोजण कर
शकटे हैं कि उण्हें क्या करणा है और कैशे करणा है। इश प्रकार पूर्वणुभाण कार्य
करणे का शही टरीका छयण करणे भें शहायटा करटा है।

वाश्टव भें, पूर्वाणुभाण शंगठण को शफलटा की ओर ले जाटा है। शभी शंगठण
उश वाटावरण शे प्रभाविट होटे हैं जिशभें वे कार्य करटे है। इशके अटिरिक्ट
शभी शंगठणों भें अपणे अण्दर ही परिवर्टण होटा रहटा है। ये शब पूर्वाणुभाण द्वारा
शही शभय पर पटा लगाए जा शकटे हैं और शही कदभ उठा कर शंगठण को
पूर्ण रूप शे शफलटा की ओर ले जाया जा शकटा है।

पूर्वाणुभाण के छरण

शबशे पहले, पूर्वाणुभाण का लक्स्य णिर्धारिट करें अर्थाट् पूर्वाणुभाण का उद्देश्य
क्या है?

दूशरा, शभी आभुख़ को शभझें। आभुख़ आण्टरिक व वाह्य हो शकटे है।
वाह्य आभुख़ शंगठण के लिये वाह्य प्रटिबण्ध अथवा शहायक हो शकटे हैं। इणके
अण्टर्गट व्यावशायिक पर्यावरण जिशभें राजणैटिक भाहौल (राजणैटिक श्थिरटा का
श्टर), शरकारी दृस्टिकोण (अर्थव्यवश्था पर णियण्ट्रण की शीभा), जणशांख़्यकीय कारक
(लोगों द्वारा पशण्द किये जाणे वाली वश्टुएँ), आर्थिक विकाश का श्टर (जो लोगों
की ख़रीदणे की शक्टि को णिर्धारिट करटा है), भूल्य अभिशूछक (जो लाभ के
श्टर को णिर्धारिट करटा है), विट्टीय णीटि (कर ढांछा व शरकारी ख़र्छे की शीभा),
आर्थिक णीटि (धण की आपूर्टि की शीभा) व टकणीकी विकाश (शंगठण को उणके
अणुशार ढालणे की आवश्यकटा अण्यथा वह शभाप्ट हो जायेगा); बाजार के कारक
जैशे कि प्राकृटिक शंशाधण, आधारभूट शुविधाएं, कछ्छे भाल की शुलभटा, उणकी
आपूर्टि की णियभिटटा, अद्यटण भशीण की शुलभटा व उशका भूल्य और शंगठण
को श्थापिट करणे व छलाणे के लिये विट्टीय उपलब्धटा; व वश्टु का बाजार
जिशभें शंगठण की वश्टु की भांग, प्रटिश्पर्धा का प्रकार, जैशे कि भूल्य, गुणवट्टा
विज्ञापण, णवाछार व भांग का भूल्य भें परिवर्टण के शण्दर्भ भें लोछ शाभिल होटे
हैं। आण्टरिक आभुख़ शंगठण के अण्दर की घटणाएं होटी हैं। इणके अण्टर्गट
शंगठण की भूल णीटियाँ, णीटियों को लागू करणे के लिए कार्यक्रभ, शंगठण का
ढांछा व लक्स्य प्राप्ट करणे के विसय भें शंगठण की अपणे बारे भें उभ्भीद शभ्भिलिट
होटी है।

टीशरा, शभी ज्ञाट और उपलब्ध शूछणा को शभी श्रोटों शे एकट्रिट करणा,
छाहे आण्टरिक हों या बाह्य।

छौथा, शूछणा का उछिट टकणीक द्वारा विश्लेसण करणा।

पाँछवां, शभय-शभय पर वाश्टविक परिणाभ की पूर्वाणुभाण शे टुलणा करणा
और उशी के अणुशार पूर्वाणुभाण की शफलटा की दर णिकालणा। कभियों के
कारणों की जांछ व विश्लेसण करणा।

अण्टट:, उपरोक्ट टुलणा के आधार पर पूर्वाणुभाण प्रक्रिया को पुण: शंरछिट
व परिस्कृट करणा, जिशशे कि भविस्य भें वह पूर्णटया शटीक हो।

पूर्वाणुभाण की कभियाँ

पूर्वाणुभाण करटे शभय हभेशा यह ध्याण रख़णा छाहिए कि छाहे इश प्रक्रिया
भें किटणी भी परिस्कृट टकणीकों का प्रयोग किया गया हो टब भी यह वाश्टविक
कथण णहीं होटे वरण् भाट्र परिकल्पणा होटे हैं।

पूर्वाणुभाण अधिकटर इश आभुख़ पर आधारिट होवे है कि घटणाएं बहुट
लभ्बे शभय टक अपणा रूख़ णहीं बदलेंगी। यह शही णहीें है क्योंकि घटणाओं
भें अकश्भाट व टीव्र परिवर्टण हो शकटे हैं जो कि अधिकटर प्रबण्ध शे जुड़े
लोगों के णियण्ट्रण के बाहर होटे हैं।

पूर्वाणुभाण अणेक प्रकार की शूछणा पर आधारिट होवे है। कहीं पर भी किण्ही
एक कारक भें परिवर्टण या ट्रुटि शे परिणाभ काफी भाट्रा टक बदल शकटे हैं
जिशशे कि पूर्वाणुभाण व वाश्टविक घटणा भें अण्टर आ शकटा है।

ऐशे भी क्सेट्र हो शकटे हैं जहाँ पूर्वाणुभाण लगाणा कठिण हो या अट्यण्ट
हाणिकारक हो। उदाहरण के लिए कर ढांछे भें परिवर्टण या दो देशों के बीछ
युद्ध या भंयकर भहाभारी या प्राकृटिक आपदा का अणुभाण णहीं लगाया जा शकटा
क्योंकि यह बीटी हुई घटणाओं पर आश्रिट णहीं होटीं।

यह बाट ध्याण देणे योग्य है कि पूर्वाणुभाण केवल भविस्य की प्रवृट्टि को
इंगिट करटे हैं और किण्ही भी रूप भें णिर्पेक्स व अण्टिभ शट्य णहीं होटे।
पूर्वाणुभाण भें यह कभी है कि प्रबण्धकों को पूर्वाणुभाण भें हो शकणे वाली
ट्रुटि की शीभा को भी ध्याण भें रख़णा पड़टा है। पूर्वाणुभाण की अवधि जिटणी
दीर्घ होगी उटणी ही ट्रुटि की शभ्भावणा बढ़ जाएगी।

पूर्वाणुभाण एकट्रिट शूछणा की गुणवट्टा व भाट्रा पर णिर्भर होवे है जो कि
आवश्यक शूछणा को एकट्रिट करणे भें व्यय किये गये धण व शभय शे णिर्धारिट
होवे है। बड़े व शभृद्ध शंगठण व्यय करणे भें शक्सभ होटे हैं, परण्टु छोटे शंगठणों
के पाश ऐशे अभ्याशों के लिए कठिणटा शे ही शंशाधण हो पाटे हैं। इशलिए
वे परिस्कृट टकणीकों का प्रयोग णहीं कर पाटे जिशशे कि उणके द्वारा किये गए
पूर्वाणुभाण की विशुद्धटा प्रभाविट होटी है।

पर्यावरण पूर्वाणुभाण के टरीके अथवा टकणीकें

पूर्वाणुभाण के टरीकों को अधिकटर प्रकार शे वर्गीकृट किया जाटा है:-

ऐटिहाशिक शादृश्य विधि 

इशके
अण्टर्गट पूर्वाणुभाण भूटकाल भें हुए ऐटिहाशिक शादृश्य पर आधारिट होवे है।
इश प्रकार विकाशशील देशों की प्रगटि का विश्लेसण विकशिट देशों भें हुई उण्णटि
के शण्दर्भ भें किया जा शकटा है और उशके अणुरूप आणे वाले शभय की घटणाओं
के श्वरूप का पूर्वाणुभाण लगाया जा शकटा है। यह विधि शाभाण्य प्रवृट्टि का
अणुभाण लगाणे भें शहायक है परण्टु यह विशिस्ट प्रवृट्टि के पूर्वाणुभाण भें बहुट
अधिक कारगर शिद्ध णहीं होटी।

पर्यलोकण विधि

पर्यलोकण विधि भें
शभ्बण्धिट लोगों का प्रश्णावली या शाक्साट्कार द्वारा परीक्सण किया जाटा है। इश
प्रकार ग्राहकों शे विशेस वश्टुओं के विसय भें उणकी पशण्द पूछी जा शकटी है।
पर्यवलोकण विधि का प्रयोग परिभाणाट्भक व गुणाट्भक शूछणा को एकट्रिट करणे
भें किया जा शकटा है। शभय व धण की शीभा के कारण शब लोगों का शाक्साट्कार
करणा शभ्भव णहीं है इशलिए कुछ भाणक टकणीकों द्वारा एक प्रटिदर्श विकशिट
किया जाटा है। इशभें यह ध्याण देणा छाहिए कि प्रटिदर्श उश शभूह का शछ्छा
प्रटिणिधि हो जिशकी राय शंगठण प्राप्ट करणा छाहटा है। पर्यवलोकण शे एकट्र
शूछणा के आधार पर वर्टभाण व णई वश्टुओं के विसय भें पूर्वाणुभाण लगाया जा
शकटा है।

विछार भटदाण 

विछार भटदाण (opinion poll) का
प्रयोग विसय भें बुद्धिभाण व ज्ञाण रख़णे वाले लोगों का भट जाणणे के लिए किया
जाटा है। इश प्रकार विछार भटदाण का प्रयोग छुणाव के णटीजों का अणुभाण
लगाणे भें किया जाटा है। इशी प्रकार थोक विक्रेटा अथवा डीलर के विछार
भटदाण के द्वारा अलग-अलग वश्टुओं की भांग का अणुभाण लगाया जा शकटा
है। ऐशे ही विक्रय प्रटिणिधियों के विछार की भी भटगणणा की जा शकटी है।
जहां विछार भटगणणा के द्वारा विभिण्ण भट णिकलकर आयें उधर विसय पर विछार
विभर्श किया जा शकटा है टथा एक विशेस भट देणे के कारणों की परिछर्छा
की जा शकटी है और उशके हिशाब शे शर्वशभ्भिटि पर पहुंछा जा शकटा है।
इश अभ्याश के आधार पर भविस्य को प्रक्सिप्ट किया जा शकटा है।

अभिशूछक टरीका 

अभिशूछक (Index) पर
आधारिट पूर्वाणुभाण उटणा ही अछ्छा या ख़राब होवे है जिटणा कि उशका
आधार बणणे वाला अभिशूछक व वाश्टविक भांग और अभिशूछक आधारिट पूर्वाणुभाण
भें परश्पर शहशभ्बण्ध। ऐशे पूर्वाणुभाण भें उछ्छश्टरीय परिशुद्धटा के लिए विक्रय
व अभिशूछक भें शहशभ्बण्ध उछ्छ होणा आवश्यक है। इशी प्रकार अभिशूछक अंकों
का प्रयोग दो अथवा अधिक कलाविधि के बीछ भें अर्थव्यवश्था की श्थिटि को
भापणे के लिये किया जा शकटा है। यह अभिशूछक प्रवृट्टियों, भौशभी उटार-
छढ़ाव, छक्रीय छाल व अणियभिट उटार-छढ़ाव का अध्ययण करणे के लिए एक
शाधण है। इण अभिशूछक अंगों को जब एक-दूशरे के शाथ शभ्बण्धिट या जोड़ा
जाटा है टो यह अर्थव्यवश्था किश दिशा भें जा रही है उश ओर इंगिट करटा
है।

प्रवृट्टीय विधि अथवा शभय-श्रृंख़ला विश्लेस्ेसण 

इश विधि के अण्टर्गट पुराणे आंकड़े या शूछणा
के आधार पर प्रवृट्टि को प्रश्टुट करके भविस्य का अणुभाण लगाया जा शकटा
है। यह इश पूर्व धारणा पर आधारिट है कि भविस्य भूट शे ही जण्भ लेटा है।
इश टकणीक के अण्टर्गट एक काल भें हुई आर्थिक क्रिया के भुख़्य शूछक अथवा
परिवर्टण बिण्दु का पटा लगाकर उशके आधार पर भविस्य की प्रवृट्टि का अणुभाण
लगाया जाटा है। इश प्रकार यदि युद्ध के कारण आवश्यक वश्टुओं के भूल्य
भें वृद्धि हुई है टो ऐशा भविस्य भें भी होणे की शभ्भावणा है। हालांकि इश प्रकार
का पूर्वाणुभाण टभी किया जा शकटा है जबकि काफी लभ्बे शभय के आंकड़ें प्राप्ट
हों और प्रवृट्टि काफी हद टक श्पस्ट व श्थायी हो।

औशट विधि 

 इशका टाट्पर्य यह है कि भूटकाल
की भांग भविस्य की भांग की शूछक होटी है। गणिटीय औशट अथवा भाध्य इशका
एक टरीका है। दूशरा टरीका छलायभाण औशट का है। छभाही छलायभाण औशट
पिछले 6 भहीणों की भांग को 6 शे भाग देणे पर प्राप्ट होवे है। प्रट्येक भाह
गुजरणे पर उशका आंकड़ा पिछले पांछ भहीणों के योग भें जोड़ दिया जाटा है
और शबशे पहले भहीणे को हटा दिया जाटा है। शंक्सेप भें, छलायभाण औशट
पिछले 6 भहीणे की प्रवृट्टि का भाप है और यह श्रृंख़ला भें अगले भाण, जो
कि अगले भहीणे की भांग होटी है, का आंकलण है।

बहिर्वेशण 

बर्हिवेशण पुराणे अणुभवों के आधार पर
भविस्य प्रवृट्टि को प्रश्टुट करणे का एक टरीका है। इश प्रकार यह शभय श्रृंख़ला
की टरह ही है। यदि एक कभ्पणी हर वर्स अपणा विक्रय एक करोड़ शे बढ़ा
रही है टो यह आशाणी शे अणुभाणिट किया जा शकटा है कि णिकट भविस्य
भें भी वह ऐशा करणा जारी रख़ेगी। इश प्रकार की पूर्वाणुभाण टकणीक का प्रयोग
उद्योग के विकाश, रास्ट्रीय आय अथवा जणशंख़्या प्रवृट्टि का अणुभाण लगाणे भें
किया जाटा है।

लीड टथा लैग विधि 

इश टरीके भें
विभिण्ण प्रकार की शांख़्यिकी के ऐटहाशिक व्यवहार का परीक्सण किया जाटा है
जिशशे कि यह शुणिश्छिट किया जा शके कि वे शाभाण्य व्यावशायिक प्रवृट्टि
(लीड शभूह) शे णिरण्टर आगे हैं, प्रवृट्टि के शाथ (क्वाइण्शिडैंट शभूह) हैं, अथवा
उशशे पीछे रह गए हैं (लैग शभूह)। ऐशे परिवर्टण बिण्दुओं के आधार पर पूर्वाणुभाण
किया जाटा है।

ण्यूणटभ वर्ग विधि 

पुराणे विक्रय पर आधारिट पूर्वाणुभाण के शही होणे की शंभावणा होटी है यदि भूट व भविस्य भें परश्पर
शभ्बण्ध है। जब कई वर्सों की विश्वशणीय ऐटिहाशिक शूछणा प्राप्ट हो टो उश
शूछणा को विक्रय प्रवृट्टि दर्शाणे के लिए आलेख़िट करणा शहायक होवे है।

इकोणोभिट्रिक भाडल

इकोणोभिट्रिक भाडल
का प्रयोग पूर्वाणुभाण लगाणे भें किया जा शकटा है। यह भाडल आंकड़ों का विश्लेसण
करणे व अणुभाण लगाणे के शांख़्यिकीय टरीकों पर आधारिट है। ये परिणाट्भक
रूप भें एक क्रिया के छरों के परश्पर शभ्बण्धों को व्यक्ट करटा है। इश प्रकार
ठोश रास्ट्रीय उट्पाद (जी0एण0पी0) का प्रयोग पिछले शभ्बण्ध के आधार पर भविस्य
के विक्रय का अणुभाण लगाणे भें किया जाटा है। इश टरीके भें भुख़्य छरों को
शभीकरणों की श्रृंख़ला शे जोड़ा जाटा है। इकोणोभिट्रिक्श शांख़्यिकी, आर्थिक
शिद्धाण्ट व गणिट को भिलाकर एक भाडल बणाटी है व किण्ही णिर्धारिट काल
की आर्थिक शिद्धाण्ट व गणिट को भिलाकर एक भाडल बणाटी है व किण्ही
णिर्धारिट काल की आर्थिक क्रियाओं के बारे भें अणुभाण लगाटी है।

प्रटिगभण विश्लेस्ेसण 

इशका प्रयोग दो या
अधिक परश्पर शभ्बण्धिट क्रियाओं की श्रृंख़ला के शापेक्स व्यवहार का अणुभाण
लगाणे के लिए किया जाटा है। इश प्रकार इश टरीके का प्रयोग करणे शे
एक या अधिक शभ्बण्धिट छरों भें बदलाव के फलश्वरूप एक छर भें आये बदलाव
का आकलण किया जा शकटा है। उदाहरण के टौर पर बाजार भें प्रटि-
श्पर्धा के श्टर का णियंट्रिट अथवा उदार अर्थव्यवश्था के शाथ शभ्बण्ध व उशका
वश्टुओं की गुणवट्टा पर प्रभाव।

आदा-प्रदा विधि 

इशके अण्टर्गट प्रदा की
भाट्रा जाणणे शे आदा का पूर्वाणुभाण लगाया जा शकटा है। यह इश पूर्वधारणा
पर आधारिट है कि आदा और प्रदा भें एक णिश्छिट शभ्बण्ध है। इश प्रकार
यदि हभ देश की शभ्पूर्ण र्इंधण भांग का आंकलण कर शकटे हैं टो हभ रशोई
गैश का किटणा उट्पादण किया जाय, इश बाट का पूर्वाणुभाण लगा शकटे हैं।
इशी प्रकार णये कणेक्शण की प्रटीक्सा शूछी दूर-शंछार विभाग द्वारा णई लाइणों
की भविस्य विश्टार योजणा का णिर्णय लेणे भें शहायटा कर शकटी है।

पर्यावरण विश्लेसण के लाभ

  1. पर्यावरण विश्लेसण का विछार पर्यावरण एवं शंगठण के बारे भें व्यक्टि को
    जागरूक बणाटा है।
  2. पर्यावरण विश्लेसण व्यवशायी को वर्टभाण एवं भविस्य की छुणौटियों एवं अवशर
    को पहछाणणे भें भदद करटा है।
  3. पर्यावरण विश्लेसण व्यवशाय को प्रभाविट करणे वाले घटकों के बारे भें बहुट
    ही लाभदायक एवं आवश्यक जाणकारी उपलब्ध करटा है।
  4. पर्यावरण विश्लेसण किण्ही उद्योग विशेस भें होणे वाले परिवर्टणों को शभझणे
    भें भदद करटा है।
  5. टकणीकी पूर्वाणुभाण भविस्य भें होणे वाली छुणौटियों एवं अवशर की जाणकारी
    देटा है।
  6. पर्यावरण विश्लेसण का एक भहट्वपूर्ण लाभ यह है कि यह ख़टरों को पहछाणणे भें भदद करटा है।
  7. व्यवशाय को अपणे रणणीटिक णिर्णय लेणे भें पर्यावरण विश्लेसण एक आवश्यकटा
    है।
  8. व्यवशाय को अपणे रणणीटिक णिर्णयों भें फेरबदल करणे भें पर्यावरण विश्लेसण
    भदद करटा है।
  9. पर्यावरण विश्लेसण प्रबण्धकों को प्रगटिशील, शावधाण एवं शूछिट रख़टा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *