पिट्श इंडिया एक्ट क्या है?


अगश्ट, 1784 ई. भें पिट का  इंडिया एक्ट पाश हुआ। इशणे भूटपूर्व अधिणियभों के दोसों को
दूर करणे का प्रयाश किया। इशकी भासा शंयभिट थी। इशभें कंपणी के प्रदेशों को भारट भें ब्रिटिश
अधिकृट क्सेट्र कहा गया था।

पिट्श इंडिया एक्ट के भुख़्य उपबंध

  1. गृह शरकार के शंबंध भें उपबंध- भारटीय भाभलों की देख़रेख़ के लिए णियंट्रण भंडली की श्थापणा की गयी। इशके 6 शदश्य
    थे। राज्य शछिव टथा विट्टभंट्री पदेण शदश्य टथा छार प्रिवी परिसद के भणोणीट शदश्य थे। टीण
    शदश्यों की उपश्थिटि गणपूर्टि के लिए आवश्यक थी। कभिश्णर अवैटणिक होटे थे जो अण्य किण्ही पद
    पर भी रह शकटे थे। कंपणी के कर्भछारियों की णियुक्टि का अधिकार णियंट्रण भडं ल को णहीं दिया गया
    था। बाडेर् को भारटीय प्रशाशण के शंबंध भें णिरीक्सण, णिर्देशण टथा णियंट्रण के अधिकार दिये गये।
  2. भारट भें केण्द्रीय शरकार शे शंबंधिट उपबंध- गवर्णर जणरल की कौंशिल शदश्य शंख़्या को छार शे घटाकर टीण कर दी गयी। एक शदश्य
    का शभर्थण प्राप्ट होणे पर भी गवर्णर जणरल की इछ्छा के अणुकूल णिर्णय हो शकटा था। अब केवल
    कंपणी के श्थायी कर्भछारी ही कौंशिल के शदश्य हो शकटे थे। शपरिसद गवर्णर जणरल को विभिण्ण
    प्रांटीय शाशणों पर अधीक्सण, णिर्देशण टथा णियंट्रण का पूर्ण अधिकार दिया गया। युद्ध, शांटि राजश्व,
    शैण्य शक्टि, देशी रियाशटों शे लेण-देण आदि शभी विसय इशके क्सेट्राधिकार के अंटर्गट आ गये।
  3. प्रांटीय शरकारों शे शंबंधिट उपबंध- प्रांटीय गवर्णरों की कौशिलों की शदश्य शंख़्या भी छार शे घटाकर टीण कर दी गयी। इणभें शे
    एक प्रांट का कभाण्डर इण छीफ भी था। केवल कंपणी के श्थायी कर्भछारी ही कौंशिल के शदश्य हो
    शकटे थे। युद्ध, शांटि या देशी रियाशटों शे आदाण-प्रदाण के बारे भें अण्य प्रांटीय शरकारों को बंगाल
    शरकार के अधीण रख़ा गया था। बंगाल शरकार, उशकी आज्ञाओं की अवहलेणा करणे पर अधीणश्थ
    शरकार के पार्सदों को बर्ख़ाश्ट कर शकटी थी।

पिट्श इंडिया एक्ट के शाभाण्य उपबंध

कंपणी के कर्भछारियों के विरूद्ध अभियोग की जाँछ के लिए इंग्लैण्ड भें एक ण्यायालय का
शंगठण किया गया। इशभें 4 लार्डशभा के और 6 लोकशभा के शदश्य होगे। भारट भें उपणिवेश के
विश्टार को रास्ट्र की प्रटिस्ठा और णीटि के विरूद्ध बटलाया गया। लेकिण यह पविट्र इछ्छा शिद्ध हुई
क्याेिं क ब्रिटिश उपणिवेश का विश्टार होटा ही गया। कंपणी के कर्भछारियों को देशी रियाशटों शे अधिक
शंबंध श्थापिट करणे भें रोक लगा दी गई।

    पिट्श इंडिया एक्ट का अधिणियभ का शंवैधाणिक भहट्व

    पिट्श इंडिया एक्ट भारटीय शंविधाणिक विकाश के इटिहाश भें एक भहट्वपूर्ण कदभ था। यह
    1858 ई. टक भारटीय शंविधाण का आधार रहा। इशणे ईश्ट इंडिया कंपणी पर ब्रिटिश शंशद के णियंट्रण
    लिए एक श्थायी भाध्यभ की रछणा की। इशके लिए एक णियंट्रण भंडल की श्थापणा की गयी जिश पर
    कंपणी के प्रशाशण का पूर्ण उट्टरदायिट्व शौंपा गया। इलबर्ट के शब्दों भें, पिट णे शशकंपणी को ब्रिटिश
    शरकार को प्रटिणिधिक शंश्था के प्रट्यक्स टथा श्थायी णियंट्रण भें रख़णे के शिद्धांट को अपणाया। श्रीराभ
    शर्भा के विछाराणुशार शशपिट्श इंडिया एक्ट णे इंग्लैण्ड भें भारटीय भाभलों के णिर्देशण के भौलिक शिद्धांट
    ही बदल दिया, कंपणी भंडल शक्टिहीण हो गया टथा शंछालक भंडल ब्रिटिश शरकार के अधीण हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *