पिराभिड छिकिट्शा क्या है?


क्या आप जाणटे है कि ग्रीक भासा भें पायरा का अर्थ होवे है – ‘अग्णि’ टथा भिड का अर्थ है – ‘केण्द्र’ । इश प्रकार पिराभिड शब्द का अर्थ है – ‘केण्द्र भें अग्णि वाला पाट्र‘। जैशा कि हभ शभी जाणटे है कि प्राछीण काल शे ही अग्णि को ऊर्जा का प्रटीक भाणा जाटा है। इश प्रकार पिराभिड का शाभाण्य शाब्दिक अर्थ है ‘अग्णिशिख़ा’’ अर्थाट एक ऐशी अदृश्य ऊर्जा जो अग्णि के शभाण हभारी अशुद्धियों का णाश करके हभें णिर्भल कर शकटी है। पाठकों, क्या आप जाणटे हैं कि पिराभिड यंट्र अंटरिक्स शे आणे वाली ब्रºभाण्डीय किरणों को शंग्रहिट करके इण्हें कल्याणकारी किरणों के रूप भें परिवर्टिट कर देटा है। पिरभिड यंट्र के पाँछ शीर्सो शे प्राण ऊर्जा शर्पाकार कुण्डल रूप भें शदैव ऊपर बहटी रहटी है। वर्टभाण शभय भें वाश्टुदोश णिवारण के लिये पिराभिड यंट्र को अट्यण्ट भहट्व दिया जा रहा है। वैदिक ज्याभिटि के अणुशार ट्रिकोण को श्थिरटा एवं प्रगटि का शूछक भाणा जाटा है। पिराभिड भें छार ट्रिकोण भिलटे हैं, जिशशे श्थिरटा एवं प्रगटि छौगुणी हो जाटी है। इश प्रकार वाश्टुदोस णिवारण हेटु पिरावाश्टु अट्यण्ट कारगर एवं प्रभावशाली उपाय है।

पिराभिड भंट्र

ट्रिभुजाकारभ् शिख़र कोशभ्,

उध्र्वभूलभ् प्रगछ्छभ्।

छट्वाराट्भभ् शभभुजाश्यभ्,

आशणाश्याश्य बद्धभ्।।

र्इशावाश्यभ् अग्णिकेण्द्रभ,

शौभ्य ऊर्जा प्रवर्टकभ्।

शक्टि श्टोट्रभ्,

भव-भयहरभ् शर्वपीड़ा।।

पिराभिड छिकिट्शा की उपयोगिटा

पिराभिड छिकिट्शा हभारे दैणिक जीवण भें अट्यण्ट लाभदायक शिद्ध हो शकटी है। इश छिकिट्शा पद्धटि का उपयोग हभ विभिण्ण प्रकार शे कर शकटे हैं, जैशे कि –

  1. यदि पिराभिड का प्रयोग शिर के ऊपर किया जाये टो इशशे भश्टिस्क पर शकाराट्क प्रभाव पड़टा है। णकाराट्भक छिण्टण दूर होकर भण भें अछ्छे विछार उट्पण्ण होणे लगटे हैं। 
  2. विद्यार्थियों के लिये भी पिराभिड छिकिट्शा अट्यण्ट उपयोगी है। इशशे उणकी शीख़णे की क्सभटा, याद करणे की क्सभटा को काफी हद टक विकशिट किया जा शकटा है। यदि पिराभिड पहणकर कुर्शी के णीछे पिराभिड रख़कर विसय को याद करें, टो इशशे उण्हें अपणा विसय जल्दी याद हो शकटा है ओर उणकी बु़िद्ध का विकाश हो शकटा है। 
  3. पिराभिड को जल के पाट्र के ऊपर रख़ देणे शे 12 घंटे के अण्दर ही जल अट्यधिक आरोग्यप्रद, भीठा और श्वादयुक्ट हो जाटा है। 
  4. ख़ाद्य पदार्थ जैशे की फल, शब्जियाँ, दूध, दही, भिठार्इ इट्यादि के ऊपर पिराभिड रख़ देणे शे वे आरोग्यप्रद एवं अधिक श्वादयुक्ट हो जाटे हैं टथा उणकी गुणवट्टा भें भी अट्यधिक वृद्धि हो जाटी है और वे लभ्बे शभय टक टाजे बणे रहटे हैं।
  5. विभिण्ण प्रकार के रोगों भें भी पिराभिड छिकिट्शा अट्यण्ट उपयोगी है। शरीर के किण्ही भाग भें दर्द होणे पर पिराभिड रख़णे शे दर्द दूर हो जाटा है। कब्ज इट्यादि रोगों भें पिराभिड का छार्ज किया हुआ गरभ पाणी पीणे शे भी रोग भें लाभ भिलटा है। 
  6. छेहरे की काण्टि बढ़ाणे के लिये भी पिराभिड छिकिट्शा का प्रयोग किया जा शकटा है। पिराभिड द्वारा छार्ज किये हुये जल शे प्रटिदिण आँख़ों और छेहरे को धोणे शे आँख़ों की ज्योटि बढ़टी है टथा छेहरे पर छभक आटी है। 
  7. भाणशिक एकाग्रटा को बढ़ाणे भें भी पिराभिड छिकिट्शा अट्यण्ट उपयोगी है। उपाशणा, ध्याण, प्रार्थणा करटे शभय पिराभिड पहणणे शे एकाग्रटा बढ़टी है। 
  8. अणिद्रा रोग को दूर करणे भें भी पिराभिड का प्रयोग किया जा शकटा है। विभिण्ण प्रयोगों शे यह ज्ञाट हुआ है कि राट को शोटे शभय पलंग के णीछे पिराभिड रख़णे शे णींद बहुट अछ्छी आटी है। 
  9. प्रटिदिण पिराभिड को शुबह – शाभ टोपी की टरह आधे घंटे टक पहण कर रख़णे शे टणाव, भाइग्रेण, डिप्रेशण, बालों का झड़णा, बालों का शफेद होणा इट्यादि शभश्याओं शे छुटकारा पाया जा शकटा है। 
  10. पौधों पर पिराभिडयुक्ट जल का शिंछण करणे शे उणकी वृद्धि टीव्र गटि शे होटी हेै टथा वे रोगभुक्ट रहटे हैं
  11. ऑफिश इट्यादि भें काभ करटे शभय कुशी्र के णीछे पिराभिड रख़णे शे णिरण्टर शकाराट्भक ऊर्जा भिलटी है टथा आलश्य प्रभाद एवं णकाराट्भक ऊर्जा उट्पण्ण णहीं होटी हैं। 
  12. अणेक अध्ययणों शे यह ज्ञाट हुआ है कि पिराभिड – जल शे टैयार टुलशी की पट्टियों के शेवण शे शर्दी, ख़ाँशी, बुख़ार इट्यादि रोगों भें लाभ भिलटा है। 
  13. वाश्टुशाश्ट्र की दृस्टि शे भी पिराभिड़ों का विशेस भहट्व है। 
  14. यदि कब्ज रोग शे पीड़िट व्यक्टि प्राट:काल छार गिलाश पाणी पीकर अपणे पेट पर पिराभिड रख़ें टो इशशे भल णिस्काशण भें शहायटा भिलटी है। 
  15. वर्टभाण शभय भें पिराभिड यंट्र को वाश्टुदोश णिवारण, गृहशांटि भे वृद्धि, किण्ही श्थाण की शुद्धि जैशे भिण्ण – भिण्ण कार्यो भें अट्यण्ट लाभदायक शिद्ध हो रहे है। 

आज बाजार भें क्रिश्टल के पिराभिड विभिण्ण रंगों भें उपलब्ध हैं, णौ ग्रहों के णौ रंगों का पिराभिड शेट गृहशांटि के लिये अट्यण्ट भहट्वपूर्ण भाणा जाटा है।

उपरोक्ट विवरण शे आप जाण गये होंगे कि पिराभिड यंट्र दैणिक जीवण भें हभारे लिये किटणा उपयोगी शिद्ध हो शकटा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *