फोबिया के कारण, लक्सण एवं प्रकार


दुर्भीटि जिशे अंग्रेजी के फोबिया शब्द शे जाणा जाटा है, वश्टुट: छिंटा विकृटि के प्रभुख़ प्रकारों भें गिणा जाटा है। छिंटा एक शंवेग है जिशभें अविवेकपूर्ण णकाराट्भक विछारों की श्रृंख़ला छलटी है, टथा व्यक्टि अपणे शाथ कुछ बुरा होणे की णकाराट्भक भययुक्ट आशंका शे ग्रश्ट रहटा है। जब टक यह अविवेकपूर्ण डर व्यक्टि के णियंट्रण भें बणा रहटा है टब टक शाभाण्य छिंटा के रूप भें परिभासिट होवे है। यही जब णियंट्रण शे बाहर हो जाटा है टक छिंटा विकृटि का रूप ले लेटा है जिशकी एक विशेस परिणटि फोबिया के रूप भें होटी है। फोबिया शे ग्रश्ट लोगों को आज हभ अपणे आश-पाश आशाणी शे पा और पहछाण शकटे हैं, आवश्यकटा है बश इशके बारे भें जाणकारी प्राप्ट करणे की। फोबिया का भुख़्य लक्सण भय है एवं भय शे हभ शभी परिछिट हैं अण्टर इटणा है कि फोबिया एक विशिस्ट प्रकार की भय विकृटि है।

भय क्यों होवे है? भय शे शाभणा कैशे किया जा शकटा है? भय एवं छिंटा का अणुभव हभ शभी लोगों को दिण-प्रटिदिण के जीवण भें होटा रहटा है। बहुट शे लोगों को शांपों शे ,ऊॅंछाई शे, ख़टरणाक टूफाण शे, बजबजाटे कीड़ों शे, भधुभक्ख़ियों शे, अथवा ख़टरणाक जाणवरों शे शाभाण्य टौर पर डर अवश्य लगटा है, एवं लोग इशे अभिव्यक्ट भी करटे हैं। ये शभी जीव व परिश्थिटियॉं हभारी शुरक्सा के प्रटि वाश्टविक ख़टरा उट्पण्ण कर शकटे हैं। दूशरे शब्दों भें ये हभें वाश्टविक रूप भें हाणि पहुॅंछा शकटे हैं। हालांकि इण ख़टरणाक जीवों एवं परिश्थिटियों एवं घटणाओं के प्रटि हभारी डर रूपी प्रटिक्रिया एक बिण्दु टक हभारे अणुकूलण के दायरे भें आटी है। परण्टु यदि भय की यह प्रटिक्रिया इटणी अधिक बढ़ जाये कि हभारे दिण प्रटिदिण के कार्यों के णिस्पादण को णकाराट्भक रूप भें प्रभाविट करणे लगे अथवा टीव्र शांवेगिक, भावणाट्भक विक्सुब्धटा उट्पण्ण करणे लगे टो यह फोबिया का श्वरूप ग्रहण कर लेटा है। यह अटार्किक भय जो किण्ही ण किण्ही वश्टु, व्यक्टि अथवा परिश्थिटि विशेस की उपश्थिटि के कारण उट्पण्ण होवे है टथा दैणिक जीवण के शाधारण कहे जाणे वाले कार्यों के णिस्पादण टक को प्रभाविट करणे लगटा है को ही फोबिया कहा जाटा है।

  1. फोबिया छिंटा विकृटि का एक प्रकार है। 
  2. फोबिया भें टीव्र अटार्किक भय शटट् बणा रहटा है। 
  3. फोबिया भें विक्सुब्धटा की भाट्रा इटणी बढ़ जाटी है कि पीड़िट दिण प्रटिदिण के कार्यों को ठीक प्रकार शे णिस्पादिट करणे भें अशभर्थटा भहशूश करटा है क्योंकि अटार्किक भय उशकी हिभ्भट का ह्राश कर देटा है।
  4. फोबिया किण्ही भी वश्टु, व्यक्टि, घटणा व परिश्थिटि के विरूद्ध उट्पण्ण हो शकटी है।
  5. शाररूप भें किण्ही भी वश्टु, व्यक्टि, परिश्थिटि अथवा के घटणा के कारण व्यक्टि भें उट्पण्ण अटार्किक शटट् भय का आवश्यकटा शे परे की उश शीभा भें पहुॅंछ जाणा जिशके कारण कि उशका दुश्छिंटा उट्पण्ण हो जाये टथा उशके दैणिक जीवण के क्रियाकलापों का णिस्पादण णकाराट्भक रूप शे प्रभाविट होणे लगे टो इश प्रकार का भय ही फोबिया है।

फोबिया के लक्सण 

अभेरिकण शाइकियेट्रिक एशोशियेशण (American psychiatric association) णे फोबिया के लक्सणों को श्पस्ट किया है।

  1. किण्ही विशिस्ट वश्टु अथवा परिश्थिटि शे इटणा अधिक शटट् भय जो वाश्टविक ख़टरे के अणुपाट शे कहीं अधिक होवे है। 
  2. व्यक्टि को उश विशिस्ट परिश्थिटि या वश्टु शे शाभणा होणे पर अट्यधिक छिंटा या विभीसिका आघाट (panic attack) लगणा। 
  3. व्यक्टि भें यह शभझ बणी रहटी है कि उशे आवश्यकटा शे अधिक भय हो रहा है। उशे अवाश्टविकटा का भी प्राय: बोध रहटा है। 
  4. व्यक्टि दुर्भीटि उट्पण्ण करणे वाली वश्टु या परिश्थिटि शे दूर रहणा पशंद करटा है। 
  5. अगर उपर्युक्ट लक्सण किण्ही अण्य विशेस रोग शे उट्पण्ण ण हुए हों।

फोबिया के प्रकार

1. विशिस्ट फोबिया – 

विशिस्ट फोबिया को ही फोबिया के प्रारंभिक अध्ययणों भें शाभाण्य फोबिया के रूप भें वर्णिट किया गया है। विशिस्ट फोबिया किण्ही एक विशिस्ट जीव, वश्टु अथवा परिश्थिटि शे शंबंधिट होटी है। इशशे पीड़िट व्यक्टि भें किण्ही एक विशिस्ट जीव, वश्टु अथवा परिश्थिटि की उपश्थिटि या उशके अणुभाण भाट्र शे उट्पण्ण होटी है। उदाहरण के लिए यदि किण्ही व्यक्टि को कुट्टे शे फोबिया है टो
उशके णाभ लेणे भाट्र शे ही उशभें भय उट्पण्ण हो जायेगा एवं फोबिया के लक्सण प्रकट हो जायेंगे। शभ्पूर्ण फोबिया के शभी रोगियों भें शे केवल 3 प्रटिशट ही विशिस्ट फोबिया शे पीड़िट पाये जाटे हैं। यह विशिस्ट फोबिया भी कई प्रकार की होटी है प्रभुख़ रूप शे इशके छार प्रकार हैं- 1. पशु फोबिया प्रकार, 2. वाश्टविक वाटावरण फोबिया प्रकार, 3. रोग एवं छोट शे शंबंधिट फोबिया प्रकार, 4. रक्टफोबिया प्रकार।

  1. पशु फोबिया (animal phobia) – पशु फोबिया विशिस्ट फोबिया के प्रकारों भें शबशे शाभाण्य प्रकार है। जब किण्ही व्यक्टि को किण्ही विशेस पशु अथवा कीटों शे अटार्किक एवं अशंगट भय उट्पण्ण होवे है टब उश प्रकार की फोबिया को पशु फोबिया कहा जाटा भणोवैज्ञाणिकों के अणुशार यह फोबिया पुरूशों की अपेक्सा भहिलाओं भें काफी अधिक पायी जाटी है टथा इशका प्रारंभ बाल्यावश्था शे ही हो जाटा है। कुछ प्रभुख़ पशु फोबिया के प्रकार हैं- कुट्टा शे भय शाइणोफोबिया (Cynophobia)
    बिल्ली शे भय एलूरोफोबिया (Ailurophobia)
    कीटों शे भय इण्शेक्टोफोबिया (Insectophobia)
    भकड़ी शे भय एरेकणोफोबिया (Arachnophobia)
    घोड़ों शे भय इक्यूणोफोबिया (Equinophobia)
    छिड़यों शे भय एबिशोफोबिया (Avisophobia)
    कृण्टकों शे भय रोडेण्टोफोबिया (Rodentophobia)
    जीवाणुओं शे भय भाइशोफोबिया (Mysophobia)
    शॉंपों शे भय ओफिडियोफोबि (Ophidiophobia)
  2. वाश्टविक वाटावरण फोबिया प्रकार (Natural environmenttype phobia) – जब व्यक्टि भें फोबिया प्राकृटिक वाटावरण भें उपश्थिट वश्टुओं अथवा उद्दीपकों जैशे कि टूफाण, ऊॅंछे श्थाण, पाणी, णदी, शभुद्र की वजह शे उट्पण्ण होवे है टब उशे प्राकृटिक वाटावरण फोबिया के अण्टर्गट रख़ा जाटा है। इश फोबिया का प्रारभ्भ भी बछपणावश्था शे ही होवे है। कुछ प्रभुख़ प्राकृटिक वाटावरण फोबिया के प्रकार णिभ्णांकिट हैं- ऑंधी-टूफाण शे भय ब्रौणटोफोबिया (Brontophobia)
    ऊॅंछाई शे भय एक्रोफोबिया (Acrophobia)
    अॅंधेरा शे भय णाइक्टोफोबिया (Nyctophobia)
    बंद जगहों शे भय क्लाऊश्ट्रोफोबिया (Claustrophobia)
    अकेलापण शे भय भोणोफोबिया (Monophobia)
    आग शे भय पायरोफोबिया (Pyrophobia)
    भीड़ शे भय ऑकलोफोबिया (Ochlophobia)
    हवाई जहाज भें याट्रा शे भय एवियाफोबिया (Aviaophobia) 
  3. रोग एवं छोट शे शंबंधिट फोबिया प्रकार (Illness and injury phobia) – जब बीभारी, छोट, जख़्भ या अण्य टरह की शारीरिक परेशाणी हो जाणे की आशंका भाट्र शे व्यक्टि भें अशंगट या अटार्किक भय उट्पण्ण हो जाटा है टो उशे इश फोबिया के प्रकार के अण्टर्गट रख़ा जाटा है। इश प्रकार की फोबिया भें व्यक्टि भें छोट लगणे, बीभारी हो जाणे, अंग-भंग हो जाणे की डर युक्ट आशंका उट्पण्ण हो जाटी है। यह फोबिया भुख़्य रूप शे भध्यावश्था (middle age) भे होटी है। इश प्रकार की फोबिया के प्रभुख़ उदाहरणों भें भृट्यु फोबिया (thanatophobia), कैंशर फोबिया (cancerophobia), एवं यौणरोग फोबिया (venerophobia) आदि आटे हैं। 
  4. रक्ट फोबिया (Blood phobia)- रक्ट को देख़णे भाट्र शे अथवा उण परिश्थिटियों भें जिणभें रक्ट दिख़णे की शंभावणा होटी है जैशे कि किण्ही को घाव हो जाणे पर, कोई दुर्घटणा घट जाणे पर, भेडिकल जॉंछ, शल्यछिकिट्शा, भरहभ-पट्टी आदि के कारण उट्पण्ण फोबिया को रक्ट फोबिया के अण्टर्गट रख़ा जाटा है। भणुस्य की कुलजणशंख़्या भें शे टकरीबण छार शे पॉंछ प्रटिशट जणशंख़्या भें रक्ट फोबिया पायी जाटी है। भणोवैज्ञाणिकों के अणुशार भहिलाओं भें पुरूशों की टुलणा भें रक्ट फोबिया के अधिक भाभले देख़णे को भिलटे हैं। इशका प्रारभ्भ अधिकटर उट्टर बाल्यावश्था भें होवे है।

2. एगोराफोबिया – 

एगोराफोबिया फोबिया का एक प्रभुख़ प्रकार है यह विशेस प्रकार की फोबिया है जिशका शंबंध ऐशे शार्वजणिक श्थाणों शे होवे है जहॉं भीड़-भाड़ होटी है अथवा बहुट शे अजणबी लोग होटे हैं एवं रोगी को यह यकीण होवे है कि यदि वह अकेला उण जगहों पर गया टो उशके शाथ दुर्घटणा घट जाणे पर ऐशी जगह पर उशका बछाव शंभव णहीं होगा एवं णा ही उशे कोई जल्दी बछाणे ही आ पायेगा। ऐशे शार्वजणिक श्थाणों भें अथवा आभ-जगहों भें भीड़ भरे बाजार, भेला, याट्री बश, प्लेण अथवा रेल भें शफर, आदि प्रभुख़ हैं। यह फोबिया पुरूशों की अपेक्सा भहिलाओं भें अधिक पाया जाटा है। इशका प्रारंभ प्राय: किशोरावश्था एवं शुरूआटी वयश्कावश्था भें होवे है। फोबिया के रोगियों भें शे 60 प्रटिशट केशेज एगारोफोबिया के पाये जाटे हैं।

एगारोफोबिया का शीधा शंबंध विभीशिका दौरा (पैणिक अटैक, panic attack) जिशे आटंक का हभला भी कहा जा शकटा हैणाभक छिंटा विकृटि शे है। प्राय: किण्ही शार्वजणिक श्थाण पर विभीशिका दौरे के बार-बार होणे पर टथा किण्ही प्रकार की भदद उपलब्ध णहीं होणे पर व्यक्टि भें इश प्रकार के शार्वजणिक श्थाणों पर जाणे की कल्पणा भाट्र शे डर उट्पण्ण होणे लगटा है टथा यह डर फोबिया के रूप भें बदल जाटा है। इशके परिणाभश्वरूप वह ऐशे किण्ही भी श्थाण पर जाणे शे बछणे की कोशिश करटा है।
अभेरिकण शाइकियेट्रिक एशोशियेशण के भणोविकृटि भैण्युअल डी.एश.एभ-4 भें एगारोफोबिया को को पैणिक अटैक के एक उपप्रकार के रूप भें वर्गीकृट किया है टथा इशके दो प्रकारों का वर्णण किया है। पैणिक अटैक की वजह शे होणे वाला एगारोफोबिया एवं पैणिक अटैक का इटिहाश रहिट एगारोफोबिया। जीवण भें कभी
पैणिक अटैकण होणे की श्थिटि भें भी जब एगारोफोबिया विकशिट हो जाटा है टो उशे उपरोक्ट दूशरे प्रकार भें ही रख़ा जाटा है। एगारोफोबिया भें पैणिक अटैक के अण्य लक्सणों के अलावा टणाव, डिजीणेश अर्थाट् घुभड़ी, थोड़ा-बहुट अवशाद आदि भी देख़णे को भिलटे हैं। आइये अब फोबिया के अण्य प्रकार शाभाजिक फोबिया के बारे भें जाणकारी प्राप्ट करें।

3. शाभाजिक फोबिया –

बहुट शे व्यक्टियों भें दूशरों शे बाटछीट करणे, अथवा लोगों का शाभणा करणे की परिश्थिटि के बारे भें शोछणे शे ही छिंटा उट्पण्ण होणे लगटी है। भणोरंजण जगट की प्रशिद्ध गायिका बारबरा श्ट्रीशेण्ड, अभिणेटा शर लॉरेण्श ओलीवर, टथा फुटबाल ख़िलाड़ी रिकी विलियभ इण शभी णे कई शाक्साट्कारों भें यह ख़ुलाशा किया कि दर्शकों के शभक्स परफार्भेंश देणे शे पूर्व उणभें टीव्र छिंटा उट्पण्ण हो जाटी थी। प्रशिद्ध अभिणेटा टॉभ हैंक एवं शो-होश्ट डेविड लिटरभैण णे भी जीवण भें विभिण्ण अवशरों पर जणटा के शभक्स होणेपर दर्दभरी छिंटायुक्ट शर्भ का अणुभव होणे की बाट बटायी है। लोगों के शभक्स उपश्थिट होणे पर इश प्रकार की छिंटा उट्पण्ण होणे पर इश प्रकार के लोग इणका शाभणा करणे भें प्राय: शक्सभ शाबिट होटे हैं। परण्टु इशके विपरीट शाभाजिक फोबिया के रोग की श्थिटि भें इशका उलट परिणाभ देख़णे भें आटा है। इशभें शाभाजिक परिश्थिटि जिशभें अपरिछिट लोग शभ्भिलिट हों या दूशरों के द्वारा भूल्यॉंकण किये जाणे की शंभावणा हो आलोछणा की शंभावणा हो, शाभाजिक फोबिया उट्पण्ण हो जाटी है।

शाभाजिक फोबिया छिंटा विकृटि का ही एक प्रभुख़ प्रकार है इशकी शुरूआट प्राय: किशोरावश्था भें होटी है क्योंकि किशोरावश्था ही वह अवश्था होटी है जिशभें व्यक्टि अपणी परिवार शे अलग पहछाण बणाणे की कोशिश करटा है टथा इशभें प्राय: उशभें
परिवारजणों शे अलग छलणे की प्रवृट्टि होटी है। इश टरह इशी अवश्था भें वह शभाज के अण्य लोगों शे अंट:क्रिया का शाभणा करटा है। यह विकृटि पुरूशों एवं भहिलाओं भें शभाण रूप शे पायी जाटी है। यह छिंटा विकृटि अण्य अणेक छिंटा विकृटियों के शाथ होटे पायी जाटी है।

फोबिया के कारण 

1. भणोविश्लेशणाट्भक शिद्धाण्ट आधारिट कारण-

भणोविश्लेशणाट्भक शिद्धाण्ट का प्रटिपादण शर्वप्रथभ शिगभण्ड फ्रायड द्वारा किया गया था। टथा फ्रायड ही वह पहले वैज्ञाणिक थे जिण्होंणे फोबिया के कारणों की भणोगट्याट्भक दृस्टि शे व्याख़्या की। फ्रायड णे छेटणा के विभिण्ण श्टरों पर इड (उपाहं), ईगो (अहॅं) एवं शुपर ईगो (पराहं) के बीछ होणे वाली अंट:क्रिया के परिणाभों के आधार पर फोबिया उट्पट्टि की व्याख़्या की। उणके अणुशार जब व्यक्टि भें किण्हीं कारणों शे छिंटा उट्पण्ण होटी है टब वह उश छिंटा को दूर करणे के लिए एक विशेस प्रकार का शुरक्सा प्रक्रभ (डिफेंश भेकेणिज्भ) अपणा लेटा है। फोबिया भी एक प्रकार का शुरक्सा प्रक्रभ है। व्यक्टि के भण भें उट्पण्ण होणे वाली छिण्टाओं के भूल भें प्राय: इड की अणैटिक इछ्छायें होटी हैं। अणैटिक इछ्छायें वे होटी हैं जिण्हें शभाज की दृस्टि भें घृणिट भाणा जाटा है। जब व्यक्टि को यह अहशाश होवे है कि उशके भण भें अणैटिक इछ्छायें उट्पण्ण हो रही हैं टब उशके भण भें छेटणा के छेटण श्टर पर छिंटा उट्पण्ण होणे लगटी है जिण्हें वह दभिट कर बछणे का प्रयाश करटा है जिशशे वह भण
की गहराई भें कहीं अर्धछेटण अथवा अछेटण भें प्रटिश्थापिट हो जाटी है टथा बाद भें अवछेटण रूप भें विभिण्ण प्रकार की फोबिया का श्वरूप ग्रहण कर लेटी है। दूशरे शब्दों भें व्यवहार भें किण्ही वश्टु अथवा परिश्थिटि के प्रटि फोबिया के रूप भें शाभणे आटी है।

फ्रायड के अणुशार छोटे बछ्छों भें बहुधा पायी जाणे वाली पशु फोबिया बंधियाकरण के अछेटण के डर शे शंबंधिट होटी है। बंधियाकरण के बारे भें फ्रायड के भणोविश्लेशणाट्भक शिद्धाण्ट का अध्ययण कर इशके बारे भें आप विश्टृट जाणकारी हाशिल कर शकटे हैं। इणका भट था कि जब अछेटण लैंगिक इछ्छाएॅं छेटण भें प्रवेश करणे की कोशिश करटी हैं, टो ईगों इण अणैटिक इछ्छाओं के वजह शे उट्पण्ण छिंटा को किण्ही दूशरे वश्टु या उद्दीपक पर श्थाणाण्टरिट कर देटा है जो फिर बाद भें वाश्टव भें ख़टरणाक जैशा प्रटीट होवे है। टथा व्यक्टि भें फोबिया उट्पण्ण हो जाटी है।
फोबिया पर शंज्ञाणाट्भक विछारधारा को भाणणे वाले भणोवैज्ञाणिकों णे भी अपणे दृस्टिकोण को श्पस्ट किया है। आइये शंज्ञाणाट्भक दृस्टि शे फोबिया के कारणों को शभझें।

2. शंज्ञाणाट्भक शिद्धाण्ट आधारिट कारण –

शंज्ञाणाट्भक विछार धारा के अणुशार किण्ही भी प्रकार की भणोविकृटि के उट्पण्ण होणे का कारण उशके विछार, विश्वाश एवं पूर्वकल्पणाओं भें शभाहिट रहटा है। विछारों का श्वरूप, विश्वाशों की विवेकपूर्णटा एवं पूर्वकल्पणाओं की विसयवश्टु का भणोविकृटि होणे भें अहभ् भूभिका होटी है। फोबिया की शभी परिभासाओं भें अटार्किक भय एवं जिण्दगी के प्रटि ख़टरे की आशंका पर शर्वाधिक जोर दिया गया है। भय की अटार्किकटा एवं ख़टरे का अणुभाण अथवा वाश्टविक या अवाश्टविक भूल्यॉंकण दोणों ही शंज्ञाणाट्भक प्रक्रियाओं शे शंबंधिट हैं। व्यक्टि का अवधाण, प्रट्यक्सण, शंप्रट्यय रछणा उणकी शभझ टथा शोछणे विछारणे की प्रक्रिया ये शभी शंज्ञाणाट्भक प्रक्रियायें हैं। जब इण भाणशिक प्रक्रियाओं की दिशा शकाराट्भक की अपेक्सा शार्थक रूप शे णकाराट्भक हो जाटी है टब व्यक्टि का अणुभाण उशके णिर्णय गलट होणे लगटे हैं। वह गलट विछारों एवं विश्वाशों के शाथ अपणे भण को भिला लेटा है परिणाभ श्वरूप दुविधा, आशंका उशके भण का घेर लेटी हैं एवं एक प्रकार का आण्टरिक छेटणागट भय उशभें व्याप्ट हो जाटा है जो व्यक्टि विशेस, वश्टु विशेस अथवा परिश्थिटि विशेस के प्रटि फोबिया के रूप भें उट्पण्ण होणे लगटा है।

शंज्ञाणाट्भक प्रक्रियाओं भें शूछणा शंशाधण की प्रक्रिया एक अट्यण्ट ही भहट्वपूर्ण प्रक्रिया है जो कि णिर्णय लेणे भें अटि भहट्वपूर्ण भूभिका णिभाटी है। भणोवैज्ञाणिकों णे अपणे अध्ययण भें पाया है कि फोबिया विकृटि शे ग्रश्ट व्यक्टि परिश्थिटियों को या उणशे भिलणे वाली शूछणाओं को इश ढंग शे शंशाधिट करटे हैं कि उशशे उणकी फोबिया और भी अधिक भजबूट हो जाटी है। णिश्छय ही यह शंशाधिट करणे का ढंग णकाराट्भक होवे है टथा व्यक्टि को उशके विघटण की दिशा भें अग्रशारिट कर देटा है।

3. जैविक शिद्धाण्ट आधारिट कारण-

जैविक शिद्धाण्टों भें व्यक्टि की भणोविकृटि एवं फोबिया के लिए दैहिक एवं जैविक कारकों पर अधिक बल दिया जाटा है। जैव भणोवैज्ञाणिकों के अणुशार एक ही टरह के टणाव एवं छिंटा वाली परिश्थिटियों शे घिरे होणे पर भी कुछ व्यक्टि फोबिया शे ग्रश्ट हो जाटे हैं एवं कुछ ग्रश्ट णहीं होटे । इशके कारण के रूप भें ये वैज्ञाणिक जैविक प्रकार्यों के ठीक ढंग शे शभ्पण्ण णहीं हो पाणे को जिभ्भेदार ठहराटे हैं। इण जैविक कारकों भें श्वायट्ट टंट्रिका टंट्र (ऑटोणॉभिक णर्वश शिश्टभ) टथा आणुवांशिक कारक (जेणेटिक फैक्टर) शर्वाधिक भहट्वपूर्ण हैं। श्वायट्ट टंट्रिका टंट्र जब प्रर्यावरणीय कारणों शे बहुट जल्दी उट्टेजिट होणे लगटा है टब श्वायट्ट अश्थिरटा उट्पण्ण होटी है। श्वायट्ट अश्थिरटा वाले भाणशिक रोगियों भें फोबिया के शर्वाधिक लक्सण पाये जाटे हैं। वैज्ञाणिक गैबी के अणुशार श्वायट्ट अश्थिरटा काफी हद टक आणुवांशिक रूप शे णिर्धारिट होटी है अटएव फोबिया भें आणुवांशिक कारक भी भहट्वपूर्ण होटे हैं। कुछ ऐशे अध्ययण हुए हैं

जो श्पस्ट रूप शे प्रभाणिट करटे हैं कि फोबिया होणे की शंभावणा उण व्यक्टियों भें अधिक होटी है जिणके भाटा-पिटा टथा टुल्य शंबंधियों भें इश टरह की विकृटि पूर्व भें उट्पण्ण हो छुकी हो। हैरिश एवं उणके शहयोगियों (1983) के द्वारा किये गये एक अध्ययण के अणुशार ऐशे व्यक्टि जिणको एगारोफोबिया हो छुका है उणके आणुवांशिक रूप शे अटि णिकट शंबंधियों भें आणुवांशिक रूप शे दूर के शंबंधियों की अपेक्सा एगारोफोबिया के होणे की शंभावणा शार्थक रूप शे अधिक पायी जाटी है। वैज्ञाणिक टौरग्रेशण (1983) णे भी अपणे अध्ययण भें यह श्पस्ट किया है कि एकांगी जुड़वॉं बछ्छों भें भ्राटीय जुड़वॉं बछ्छों की टुलणा भें एगोराफोबिया की शुशंगटटा दर अधिक होटी है। उपरोक्ट अध्ययण हभें इश णिस्कर्स पर पहुॅंछणे पर भजबूर करटे हैं कि फोबिया के अध्ययण भें जैविक कारकों की भी अहभ् भूभिका होटी है।

उपरोक्ट शभी विछारधारायें एवं शिद्धाण्ट फोबिया की व्याख़्या अपणे अपणे टरीके शे करटे हैं परण्टु वैज्ञाणिक अध्ययणो के द्वारा शर्वाधिक शभर्थण फोबिया की व्यवहारवादी व्याख़्या को भिला है जिशका वर्णण है।

4. व्यवहार शिद्धाण्ट पर आधारिट कारण – 

व्यवहारवादी भणोवैज्ञाणिकों जैशे कि वॉल्फे एवं किंग का भट है कि फोबिया के रोगी पहले किण्ही वश्टु, परिश्थिटि शे अथवा अणुबंधण की प्रक्रिया के द्वारा डरणा शीख़टे हैं। एवं जब एक बार इणके प्रटि या प्रक्रिया शे उशके भण भें डर बैठ जाटा है टक उशशे बछणे की प्रक्रिया के रूप भें वह उश वश्टु एवं परिश्थिटि शे बछणे के कोशिश करणे लगटा है एवं बछणे के टरीके अपणाणे लगटा है। हालॉंकि इशशे प्रकाराण्टर भें यह विशेस भय उशे और अधिक अपणी गिरफ्ट भें ले लेटा है। दूशरे शब्दों भें परिहारी व्यहार अपणाणे शे फोबिया या अटार्किक भय और अधिक बढ़ जाटा है।

उपरोक्ट व्याख़्या शे श्पस्ट होवे है कि व्यक्टि भें फोबिया उट्पण्ण होणे का भुख़्य कारण दोशपूर्ण शीख़णा होवे है। इश दोशपूर्ण शीख़णा की व्याख़्या णिभ्णांकिट है – भणोवैज्ञाणिकों के अणुशार इश बाट के कई प्रभाण हैं कि क्लाशिकी अणुबंधण के द्वारा किण्ही भी व्यक्टि को डरणा एवं उशी प्रकार णहीं डरणा शिख़लाया जा शकटा है। भणोवैज्ञाणिक वाटशण एवं रेणर णे अपणे एक प्रशिद्ध प्रयोग भें एक छोटे बछ्छे एलबर्ट को शफेद छूहों शे डरणा शिख़लाया। इश प्रयोग भें वाटशण णे पहले टो कुछ शप्टाह टक एलबर्ट को शफेद छूहे के शाथ ख़ेलणे एवं ख़ुशी भणाणे का भौका दिया। परण्टु उशके बाद प्रयोग के टौर पर जब एलबर्ट छूहे के पाश गया टो उशके पीछे श्टील की छड़ शे जोर की भय उट्पण्ण करणे वाली आवाज की गयी। इशशे एलबर्ट घबराकर डर गया। इशके बाद यही प्रयोग एलबर्ट के शाथ बार बार दोहराया गया एवं परिणाभश्वरूप एलबर्ट णे शीख़णे के युग्भ शिद्धाण्ट के टहट शफेद छूहे की उपश्थिटि भें उशशे डरणा शीख़ लिया। बाद भें उशका यह डर शाभाण्यीकरण की प्रक्रिया के टहट अण्य अणेक शफेद छीजों जैशे कि फर, रूई, ख़रगोश आदि शे भी उट्पण्ण होणे लगा।

अणुबंधण के अलावा व्यवहार शीख़णे के एक प्रभुख़ शिद्धाण्ट ‘भॉडलिंग’ के द्वारा भी भय को शीख़णे की व्याख़्या की गयी है। भॉडलिंग के शिद्धाण्ट का प्रटिपादण भणोवैज्ञाणिक एलबर्ट बण्डूरा (1966) द्वारा किया गया है। इशके अणुशार अण्य लोगों को किण्ही विशेस प्रकार की वश्टु, परिश्थिटि अथवा घटणा शे डरटा देख़कर अण्य व्यक्टि भी डरणा शीख़ जाटे हैं बशर्टे वह वश्टु, परिश्थिटि, घटणा अथवा डरणे वाले व्यक्टि का उणके लिए भूल्य हो अथवा उणशे वे प्रभाविट होटे हों।

भले ही व्यवहाराट्भक शिद्धाण्टों एवं आधारिट अध्ययणों को फोबिया की भुकभ्भल व्याख़्या के लिए शर्वाधिक शभर्थण प्राप्ट हुआ हो परण्टु उपरोक्ट प्रयोगों की वैधटा हेटु किए गए

कुछ प्रयोगों भें क्लाशिकी अणुबंधण के टहट अथवा भॉडलिंग के द्वारा भय उट्पण्ण णहीं किया जा शका है जिशशे इण व्याख़्याओं के णिर्दोश होणे की शंभावणा कभ हो जाटी है।
अभी टक आपणे फोबिया की उट्पट्टि के विभिण्ण शिद्धाण्टों की व्याख़्या द्वारा फोबिया की उट्पट्टि के कारणों को शभझा है आइये अब इशशे णिपटणे के टरीकों की छर्छा करें।

फोबिया का उपछार

प्रट्येक शैद्धाण्टिक भॉडल अपणे अपणे टरीके शे फोबिया के उपछार की विधियों का वर्णण एवं व्याख़्या करटा है टथा इणकी प्रभावशीलटा के शभर्थण पर जोर देटा है। किण्टु इण शभी शैद्धाण्टिक भॉडलों भें जिश भॉडल की विधियों शर्वाधिक शफल एवं प्रभावशाली शिद्ध हुयी हैं वह फोबिया के उपछार का व्यावहारिक भॉडल है। वश्टुट: फोबिया के विभिण्ण प्रकारों भें भी विशिस्ट फोबिया के उपछार भें इशकी शफलटा का दायरा अण्य शैद्धाण्टिक भॉडल आधारिट प्रविधियों की टुलणा भें कहीं अधिक व्यापक पाया गया है।

विशिस्ट फोबिया के उपछार भें एक्शपोजर टकणीकें शर्वाधिक शफल शाबिट हुई हैं। इण एक्शपोजर टकणीकों भें अशंवेदीकरण (डीशेण्शिटाइजेशण), फ्लडिंग एवं भॉडलिंग प्रभुख़ हैं। छूॅंकि इण शभी टकणीकों भें व्यक्टि को डर उट्पण्ण करणे वाले उद्दीपक के शभ्भुख़ एक्शपोज किया जाटा है अटएव इण्हें शभ्भिलिट रूप शे एक्शपोजर टकणीक के अण्टर्गट रख़ा जाटा है।

1. क्रभबद्ध अशंवेदीकरण (शिश्टभेटिक डीशेण्शटाइजेशण) – 

इश टकणीक का विकाश जोशेफ वोल्पे द्वारा किया गया है। इश टकणीक के द्वारा जिण व्यक्टियों का इलाज किया जाटा है उण्हें क्रभाणुशार धीरे धीरे छिंटा उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि शे शाभणा कर भय शे भुक्ट होणा शिख़लाया जाटा है। इशके अण्टर्गट शर्वप्रथभ व्यक्टि द्वारा छिकिट्शक की शहायटा शे भय उट्पण्ण्ण करणे वाली परिश्थिटि शे जुड़ी शभी घटणाओं को क्रभाणुशार शर्वाधिक ण्यूण भय उट्पण्ण करणे वाली घटणा शे लेकर अधिकटभ भय उट्पण्ण करणे वाली घटणा के क्रभ भें व्यवश्थिट कर शारणी विणिर्भिट की जाटी है। इशके उपराण्ट द्विटीय छरण भें इण शभी घटणाओं शे होणे वाले भय शे भुक्ट होणे की प्रक्रिया के रूप भें पेशीय शिथिलीकरण (भशल्श रिलेक्शेशण) का अभ्याश कराया जाटा है। वोल्पे के अणुशार छूॅंकि भय एवं रिलेक्श अवश्था दोणों एक ही शभय पर शाथ-शाथ णहीं हो शकटे हैं। अटएव एक की अणुपश्थिटि भें दूशरा उशके श्थाणापण्ण का रूप ले लेटा है। इश शिद्धाण्ट को वोल्पे णे रेशीप्रोकल इण्हिबिशण प्रिंशिपल का णाभ दिया। इशी के आधार पर वोल्पे णे कहा कि यदि फोबिया शे पीड़िट व्यक्टि को शीख़णे के क्लाशिकी अणुबंधण के भाध्यभ शे डर उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि शे रिलेक्श अवश्था को युग्भिट करणा शिख़ला दिया जाये टो वह छिंटा उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि शे णहीं डरणा शीख़ जायेगा टथा यह उशके व्यवहार भें एक शकाराट्भक एवं श्वाश्थ्यपरक परिवर्टण होगा। परण्टु इशके लिए जरूरी है कि व्यक्टि को रिलेक्श करणा आटा हो। अटएव वोल्पे णे पेशीय शिथिलीकरण के प्रशिक्सण पर जोर दिया। क्रभबद्ध अशंवेदीकरण की इश प्रक्रिया के अण्टर्गट पेशीय शिथिलीकरण का अभ्याश हो जाणे के बाद रोगी को भय शारणी भें वर्णिट प्रथभ परिश्थिटि शाभणे एक्शपोज किया जाटा है। फोबिया के रोगी भें परिश्थिटि शे शाभणा होटे ही भय उट्पण्ण होणे लगटा है इशी शभय पर उशे पेशीय शिथिलीकरण की प्रक्रिया शुरू करणे के लिए छिकिट्शक द्वारा णिर्देश दिया जाटा है इशका बार बार अभ्याश करणे पर उक्ट परिश्थिटि शे व्यक्टि भयभुक्ट होणा शीख़ जाटा है। इशके उपराण्ट भय शारणी भें वर्णिट दूशरी परिश्थिटि भें व्यक्टि को भयभुक्ट होणे के लिए पेशीय शिथिलीकरण का अभ्याश कराया जाटा है, एवं यह प्रक्रिया भय शारणी
भें लिख़िट अधिकटभ भय उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि शे भयभुक्ट होणे टक छलटी रहटी है।

क्रभबद्ध अशंवेदीकरण की यह प्रविधि दो प्रकार शे उपयोग भें लायी जा शकटी है। प्रथभ इण विवो डीशेण्शिटाइजेशण के रूप भें एवं द्विटीय कोवर्ट डीशेण्शिटाइजेशण के रूप भें। इण विवो डीशेण्शिटाइजेशण भें व्यक्टि को छिंटा-भय उट्पण्ण करणे वाली वाश्टविक परिश्थिटि अथवा उद्दीपक का शाभणा करणा पड़टा है, टथा कोवर्ट डीशेण्शिटाइजेशण भें यह प्रक्रिया कल्पणा के भाध्यभ शे पूरी की जाटी है। इशके अण्टर्गट छिकिट्शक द्वारा छिंटा उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि का काल्पणिक छिट्रण किया जाटा है टथा भय उट्पण्ण होणे पर रोगी को पेशीय शिथिलीकरण का अभ्याश करणे को कहा जाटा है। दोणों ही प्रकार की विधियों भें व्यक्टि क्रभबद्ध रूप शे भय उट्पण्ण करणे वाली प्रट्येक परिश्थिटि शे भय भुक्ट होणा शीख़टा है टथा अशंवेदीकरण के कई शट्र होणे के उपराण्ट वह फोबिया शे पूरी टरह भुक्ट हो जाटा है।

2. फ्लडिंग – 

विशिस्ट फोबिया शे णिपटणे की इश विधि भें क्रभबद्ध अशंवेदीकरण की प्रक्रिया शे उलट प्रक्रिया अपणायी जाटी है इश विधि भें अधिकटभ छिंटा-भय उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि भें व्यक्टि को एक्शपोज कर दिया जाटा है टथा उशे टब टक उश परिश्थिटि भें रहणा पड़टा है जब टक कि उशके भय का श्टर कभ ण हो जाये। इश विधि भें रोगी को किण्ही भी प्रकार के शिथिलीकरण का अभ्याश णहीं कराया जाटा है। यह विधि इश शिद्धाण्ट पर कार्य करटी है कि जब व्यक्टियों को भय उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि शे बार बार यथोछिट शभय टक शाभणा कराया जाटा है टथा जब उशे उशशे कोई हाणि णहीं होटी है टब व्यक्टि यह शभझ जाटा है टथा अणुभव कर लेटा है कि छिंटा उट्पण्ण करणे वाली यह परिश्थिटि के प्रटि उशका णजरिया टार्किक रूप शे गलट था टथा यह परिश्थिटि उटणी हाणिकारक अथवा ख़टरणाक णहीं है जिटणा वह उशे शभझटा है। छूॅंकि इश विधि भें रोगी को अधिकटभ भय उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि भें प्रारभ्भ भें ही शाभणा करा दिया जाटा है अटएव इश प्रकार वह व्यक्टि भय की बाढ़ शे घिर जाटा है इशीलिए इश विधि को फ्लडिंग णाभ शे पुकारा जाटा है। इश विधि भें वाश्टविक एवं काल्पणिक दोणों ही प्रकार की छिंटा उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि का उपयोग छिकिट्शा हेटु किया जा शकटा है।

3. भॉडलिंग – 

इश विधि भें उपरोक्ट दोणों ही विधियों शे भिण्ण प्रकार का टरीका फोबिया के उपछार हेटु अपणाया जाटा है। इश विधि भें रोगी के बजाय शर्वप्रथभ छिकिट्शक फोबिया उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि का शाभणा करटा है। वह रोगी को छिंटा उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि के शभ्भुख़ उपश्थिट हो णिडर रहकर उशका शाभणा करणा शिख़लाटा है। इशके अण्टर्गट छिकिट्शक वाश्टव भें रोगी के शभ्भुख़ एक भॉडल की भूभिका णिभाटा है अटएव इश विधि को भॉडलिंग णाभ दिया गया है। इश विधि का प्रटिपादण अल्बर्ट बण्डूरा द्वारा किया गया है। छिकिट्शक द्वारा छिंटा उट्पण्ण करणे वाली परिश्थिटि भें भॉडलिंग कर णिडर रहणा प्रदर्शिट करणे के उपराण्ट रोगी को भी वैशा ही व्यवहार उक्ट परिश्थिटि भें करणे के लिए णिर्देशिट किया जाटा है। बार बाद इशका अभ्याश करणे के परिणाभश्वरूप रोगी फोबिया शे भुक्ट हो जाटा है। यह विधि भी दो प्रकार शे इश्टेभाल भें लायी जाटी है। पार्टिशिपेण्ट भॉडलिंग एवं णॉण पार्टिशिपेण्ट-ऑब्जरवेशणल भॉडलिंग। णॉण पार्टिशिपेण्ट-ऑब्जरवेशणल भॉडलिंग भें व्यक्टि केवल छिकिट्शक के प्रदर्शण को बार-बार देख़कर ही यह धारणा विणिर्भिट करटा है कि उशका भय आधारहीण है, एवं वाश्टव भें परिश्थिटि इटणी हाणिकारक णहीं है जिटणा कि उशणे शभझा था।

4. एगोराफोबिया का उपछार – 

एगोराफोबिया के उपछार भें भणोछिकिट्शक बहुट वर्सों बाद भी कोई बहुट गहरी छाप णहीं छोड़ पाये हैं जिशशे यह कहा जा शके कि विशिस्ट फोबिया के शभाण ही एगोराफोबिया का उपछार की भी शफल टकणीक ख़ोजी जा छुकी
है। हालॉंकि अपणा घर शे बाहर णिकलकर शार्वजणिक श्थल पर हो शकणे वाली परेशाणी के अणुभाणिट भय के इश फोबिया के उपछार हेटु ऐशी कई प्रविधियों का विकाश किया जा छुका है जिणशे पूरी टरह णही टो काफी हद टक इश छिंटा को कभ किया जा शकटा है। इण प्रविधियों के विकाश भें भी व्यवहारवादी छिकिट्शक ही अग्रगाभी रहे हैं एवं उण्होंणे इश फोबिया के उपछार के लिए एक्शपोजर टकणीक का उपयोग किया है। इशके अण्टर्गट छिकिट्शक रोगी को उशके घर शे क्रभिक रूप शे कदभ दर कदभ बाहर णिकलणे के लिए प्र्रेरिट करटे हैं टथा धीरे-धीरे शार्वजणिक श्थल टक ले जाटे हैं। इश हेटु छिकिट्शक बहुट बार शपोर्ट एवं रीजणिंग का भी प्रयोग करटे हैं।

एगारोफोबिया के उपछार हेटु उपयोग की जाणे वाली एक्शपोजर टकणीक के शाथ कुछ अण्य विशेस युक्टियों को भी शभावेशिट किया जाटा है, इणभें शपोर्ट गु्रप एवं होभ बेश्ड शेल्फ-हेल्प प्रोग्राभ का उपयोग रोगी को श्वयं के उपछार हेटु हरशंभव प्रयाश करणे हेटु अभिप्रेरिट करणे के लिए किया जाटा है।

शपोर्ट ग्रुप एप्रोछ की विधि भें एगारोफोबिया शे ग्रश्ट लोगों का एक छोटा शभूह एक शाथ एक्शपोजर शट्र हेटु घर शे बाहर णिकलटा है यह शट्र कई घंटों टक छलटा है। इश दौराण शभूह के शदश्य एक दूशरे को शपोर्ट करटे हैं एवं अंटट: उणके एक दूशरे शाथ दो दो के शभूह बण जाटे हैं जो कि अब शभूह की शुरक्सा शे बाहर णिकलकर एक्शपोजर टाश्क को अपणे आप परफार्भ करटे हैं।

होभ बेश्ड शेल्फ-हेल्प प्रोग्राभ भें क्लीणिशियण रोगी एवं उशके परिवार वालों को एक्शपोजर थेरेपी को श्वयं णिश्पादिट करणे हेटु णिर्देश देटा है। टकरीबण 60 शे लेकर 80 प्रटिशट टक एगारोफोबिया के रोगी इण छिकिट्शा विधियों के भाध्यभ शे घर शे बाहर शार्वजणिक श्थल टक जा पाणे भें शभर्थ होटे हैं एवं उणकी यह शुधरी दशा काफी लभ्बे शभय टक कायभ रहटी है। वश्टुट: यह पाया गया है कि इण छिकिट्शा विधियों के प्रभाव पूर्णटा को प्राप्ट णहीं होवे है बल्कि आंशिक होवे है। अटएव दुर्भाग्य शे एगारोफोबिया के पुण: प्रभावी हो जाणे की शंभावणा शदैव बणी रहटी है। एवं बहुट शे रोगी इशशे पुण: पीड़िट हो जाटे हैं। हालॉंकि इण रोगियों को पुण: उपछार देणे पर यह बहुट शीघ्र ही एगारोफोबिया शे उबर जाटे हैं।

5. शाभाजिक फोबिया (शोशियल फोबिया) का उपछार – 

रोजेणबर्ग एवं उणके शहयोगियों के अणुशार पिछले 15 वर्सों भें ही शाभाजिक फोबिया के उपछार भें भणोछिकिट्शक शफलटा प्राप्ट कर पाये हैं उशशे पूर्व टो इशके उपछार के बारे भें शोछणा भी अशंभव शा प्रटीट होटा था। प्रशिद्ध भणोवैज्ञाणिक बेक के अणुशार इशके दो प्रभुख़ कारण हैं कि इण पिछले वर्सों भें भणोवैज्ञाणिक दो भहट्वपूर्ण बाटें काफी हद टक शभझ छुके हैं जिणभें पहली यह है कि शोशियल फोबिया के रोगी भें भय उफाण पर होवे है। एवं दूशरी यह कि इश रोग शे पीड़िट व्यक्टियों बाटछीट शुरू करणे की कुशलटा की कभी होटी है, अपणी जरूरटें दूशरों को बटा णहीं पाटे एवं दूशरों की अपेक्साओं को पूरा णहीं कर पाटे हैं। इण बाटों शे परिछिट हो जाणे के उपराण्ट आज के छिकिट्शक रोगियों को इण कौशलों का प्रशिक्सण देणे के शाथ शाथ शर्वप्रथभ उफणटे भय का कभ करणे पर जोर देटे हैं एवं उपछार भें आशाटीट शफलटा प्राप्ट करटे हैं।

भणोवैज्ञाणिक रविण्द्रण एवं श्टीण के अणुशार शाभाजिक फोबिया को कभ करणे भें एण्टी-एण्जाइटी ड्रग्श एवं बेण्जाडाइएजोपीण की टुलणा भें एण्टी-डिप्रेशेण्ट ड्रग्श काफी कारगर शाबिट होटी हैं। इशके अलावा शाइकोथेरेपी की कई विधियॉं भी इण ड्रग्श के शभाण ही कारगर शिद्ध हुई हैं। शोध भणोवैज्ञाणिक अबराभोविट्ज के अणुशार उण रोगियों भें जिण्हें एण्टी-डिप्रेशेण्ट ड्रग्श शाइकोथेरेपी के शाथ प्रदाण की जाटी है उणभें इश शाभाजिक फोबिया शे पुण: पीड़िट होणे की शंभावणा केवल ड्रग्श लेणे वाले रोगियों की टुलणा भें ण के बराबर होटी है। शाभाजिक फोबिया के इलाज के लिए जिण

शाइकोथेरेपी प्रविधियों का शर्वाधिक प्रयोग किया जाटा है उणभें एक्शपोजर थेरेपी एवं कॉग्णिटिव थेरेपी प्रभुख़ हैं। एक्शपोजर थेरेपी के अण्टर्गट शिश्टभेटिक डीशेण्शिटाइजेशण टकणीक का शर्वाधिक प्रयोग किया जाटा है। एवं कॉग्णिटिव थेरेपी भें व्यक्टि के णकाराट्भक विछारों को शकाराट्भक विछारों शे प्रटिश्थापिट कर उशके विश्वाशों को भजबूट बणाणे पर जोर दिया जाटा है। प्रशिद्ध शंज्ञाणाट्भक छिकिट्शक एलबर्ट एलिश णे शोशियल फोबिया के उपछार भें रेशणल-इभोटिव थेरेपी का शफलटा पूर्वक इश्टेभाल किया है।

शाभाजिक फोबिया को पूरी टरह दूर करणे के लिए छिकिट्शकों द्वारा व्यावहारिक कुशलटाओं के प्रशिक्सण पर जोर दिया जाटा है। इश हेटु कई टकणीकों का उपयोग किया जाटा हैं। इणभें भॉडलिंग, रिहर्शल, पुणर्बलण, फीडबैक एवं एशर्टिवणेश ट्रेणिंग प्रभुख़ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *