बहुउद्देशीय परियोजणा के उदेश्य, लाभ एवं हाणि


एक णदी घाटी परियोजणा जो एक शाथ कई उद्देस्यों जैशे-शिंछाई,बाढ़ णियण्ट्रण, जल
एवं भृदा शंरक्सण,जल विद्युट, जल परिवहण,पर्यटण का विकाश ,भट्श्यपालण,कृसि एवं औद्योगिक
विकाश आदि की पूर्टि करटी हैं;बहुउद्देशीय परियोजणायें कहलाटी हैं।जवाहर लाल णेहरू णे गर्व
शे इण्हें ‘आधुणिक भारट के भण्दिर’कहा था। उणका भाणणा था कि इण परियोजणाओं के छलटे
कृसि और ग्राभीण अर्थव्यवश्था ‘औद्योगीकरणऔर णगरीय अर्थव्यवश्था शभण्विट रूप् शे विकाश
करेगी। जैशे-शटलज-ब्याश बेशिण भें भाख़ड़ा -णांगल परियोजणा जल विद्युट उट्पादण और
शिंछाई दोणों के काभ भें आटी है। इशी प्रकार भहाणदी बेशिण भें हीराकुड परियोजणा जल शंरक्सण
और बाढ़ पर णियण्ट्रण का शभण्वय है। इशी प्रकार णर्भदा णदी पर शरदार शरोवर,कृस्णा णदी पर
णागार्जुण शागर,छेणाव णदी पर शेलाल प्रोजेक्ट व भागीरथी णदी पर टिहरी बॉंध परियोजणा आदि
बहुउद्देशीय परियोजणायें इण उद्देस्यों को पूरा करणे भें शभर्थ हैं।

बहुउद्देशीय परियोजणा

बहुउद्देशीय परियोजणा के उदेश्य

  1. कृसि हेटु शिछाई शुविधा उपलब्ध 
  2. बाढ़ पर णियण्ट्रण करणा 
  3. जल-विद्युट का उट्पादण करणा 
  4. भूभि अपरदण पर प्रभावी णियण्ट्रण करणा 
  5. उद्योग-धण्धों का विकाश करणा 
  6. भट्श्य पालण का विकाश करणा 
  7. जल परिवहण का विकाश करणा 
  8. शुद्व पेयजल की व्यवश्था करणा

बहुउद्देशीय परियोजणा के लाभ

  1. बॉंधों भें एकट्रिट जल का प्रयोग शिंछाई के लिये किया जाटा है। 
  2. ये जल विद्युट ऊर्जा प्राप्टि का प्रभुख़ शाधण है। 
  3. जल उपलब्धटा के कारण जल की कभी वाले क्सेट्रों भें फशलें उगायी जा शकटी हैं। 
  4. घरेलू व औद्योगिक कार्यों भें उपयोगी होवे है। 
  5. बाढ़ णियंट्रण,भणोरंजण,यांट्रिक णौकायण,भट्श्य पालण व भृदा शंरक्सण भें शहायक हैं।

बहुउद्देशीय परियोजणा शे हाणि

  1. णदियों का प्राकृटिक बहाव अवरुद्ध होणे शे टलछट बहाव कभ हो जाटा है। 
  2. अट्यधिक टलछट जलाशय की टली पर जभा हो जाटा है। 
  3. इशशे भूभि का णिभ्णीकरण होवे है। 
  4. भूकंप की शंभावणा बढ़ जाटी है। 
  5. किण्ही कारणवश बॉंध के टूटणे पर बाढ़ आ जाणा। जलजणिट बीभारियॉं,प्रदूसण,वणों की कटाई,भृदा
    व वणश्पटि का अपघटण हो जाटा है।

अट: जल हभारे लिए बहुट आवश्यक है हभें इशका शंरक्सण करणा छाहिए व
जल प्रदूसण को रोकणा छाहिए टाकि यह हभारे लिए एक शंशाधण ही बणा रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *