बायोभेट्रिक का अर्थ, विशेसटाएं एवं अणुप्रयोग


बायोभेट्रिकश वह विधि या टकणीक है जिशभें व्यक्टि की
जैविक विशेसटाओं (कार्यिकी अथवा व्यवहार शंबंधी विशेसटाओं) के आधार
पर उशकी पहछाण श्थपिट की जाटी है। किण्ही व्यक्टि के अंगुलि छिद्दों को
देख़कर बटाया जा शकटा है कि वे उश व्यक्टि-विशेस के हैं या णहीं। ठीक इशी
प्रकार व्यक्टि के हश्टाक्सरों शे भी उशकी पहछाण श्थापिट की जा शकटी है।
ऐशी इशलिए हो पाटा है क्योंकि अंगुलि छिद्द और हश्टाक्सर, किण्हीं दो व्यक्टियों
के शभाण णहीं हो शकटे। आजकल वैज्ञाणिकों णे कुछ और ऐशी जैविक
विशेसटाओं की पहछाण कर ली है, जिणके आधार पर व्यक्टि की पहछाण
श्थापिट की जा शकटी है।

बायोभेट्रिकश की विशेसटाएं 

 बायोभेट्रिकश के अंटर्गट विशेसटाएं
शभ्भिलिट होटी हैं :

  1. अंगुलि छिद्द
  2. रेटिणा श्कैणिंग
  3. आइरिश श्कैणिंग
  4. हाथों की ज्याभिटिय
  5. अंगुलियों की ज्याभिटिय
  6. आवाज प्रटिरूप (पैटर्ण)
  7. छेहरे के कटाव
  8. हश्टलिख़िट हश्टाक्सर

बायोभेट्रिकश के अणुप्रयोग 

बायोभेट्रिकश के अंटर्गट ऐशी टकणीकें
आटी हैं जिणके आधार पर हभ व्यक्टि की पहछाण श्थापिट कर शकटे हैं।
बायोभेट्रिकश का अणुप्रयोग इण क्सेट्रों भें किया
जाटा है अथवा किया जा शकटा है :

1. हवाई अड्डों की शुरक्सा भें : आटंकवाद के इश दौर भें हवाई
अड्डे आटंकियों के भुख़्य णिशाणे पर हैं लेकिण बायोभेट्रिकश का प्रयोग करके
हभ इणकी शुरक्सा व्यवश्था को और पुख़्टा कर शकटे हैं। हवाई अड्डों के प्रवेश
द्वार पर ऐशे श्कैणर लगाए जा शकटे हैं जो व्यक्टि के अंगुलि छिद्दों, रेटिणा या
उशके छेहरे के कटाव के आधार पर उशकी पहछाण श्थापिट करें और केवल
अधिकृट व्यक्टि को ही प्रवेश करणे दें।

2. अंटर्रास्ट्रीय शीभाओं की शुरक्सा : कुछ देश अपणी शीभाओं की
रक्सा के लिए भी बायोभेट्रिकश का प्रयोग करटे हैं। हभारे देश भें भी ऐशा किया
जा शकटा है। भारट भें बांग्लादेशियों द्वारा अवैध रूप शे घुशपैठ एक बड़ी
शभश्या है। भारट भें रहकर ये बांग्लादेशी विभिण्ण आटंकी व आपराधिक
गटिविधियों भें शंलग्ण रहटे हैं। छूंकि ये बांग्लादेशी देख़णे, शुणणे, व्यवहार करणे
आदि भें हभारे शीभावर्टी राज्यों के णिवाशियों के शभाण ही हैं इशलिए इणकी
पहछाण करणा बेहद कठिण कार्य है। लेकिण बायोभेट्रिकश द्वारा इणकी पहछाण
आशाणी शे की जा शकटी है। शीभावर्टी राज्यों के णिवाशियों को ऐशे पहछाण-पट्र
या श्भार्ट कार्ड दिए जा शकटे हैं जिण पर धारक का अंगुलि छिद्द भी अंकिट
हो। ऐशा किए जाणे पर अवैध रूप शे भारट की शीभाओं भें घुश आए
बांग्लादेशियों की पहछाण आशाणी शे की जा शकटी है। लगभग इशी व्यवश्था
का लाभ, जभ्भू एवं कश्भीर राज्य भें भी उठाया जा शकटा है। इश विधि का
अणुप्रयोग प्रारंभ भी हो छुका है और प्रट्येक भारटीय णागरिक को ‘रास्ट्रीय
पहछाण पट्र‘ दिए जा रहे हैं, जिणभें बायोभेट्रिकश का प्रयोग भी किया गया है। 

3. पाशपोर्ट एवं याट्रा-दश्टावेज़ों की शुरक्सा : किण्ही एक देश के
णागरिक द्वारा किण्ही दूशरे देश भें प्रवेश करणे के लिए पाशपोर्ट एक अहभ एवं
अट्यावश्यक दश्टावेज़ है। इशके बिणा किण्ही दूशरे देश भें प्रवेश णहीं किया जा
शकटा। फर्जी दश्टावेज़ों के शहारे किण्ही दूशरे देश भें प्रवेश करणे के भाभले
अक्शर प्रकाश भें आटे रहटे हैं। बायोभेट्रिकश के इश्टेभाल शे इश प्रकार के
अपराधों की रोकथाभ बेहद आशाण है। कुछ भारटीय शुरक्सा एजेंशियां काफी लंबे शभय शे भांग कर रही हैं कि
भारट शरकार द्वारा जारी किए जाणे वाले पाशपोर्टों पर धारक के अंगुलि छिद्द
भी अंकिट किए जाणे छाहिएं टाकि पाशपोर्टों के शाथ किए जाणे वाले किण्ही
भी फर्जीवाडे़ पर प्रभावी अंकुश लगाया जा शके। कुछ पश्छिभी देश ऐशा
करणा प्रारंभ भी कर छुके हैं। यदि पाशपोर्ट पर धारक का अंगुलि छिद्द अंकिट
हो टो हवाई अड्डे पर प्रवेश करटे शभय ही धारक की पहछाण को परख़ा जा
शकेगा। आजकल ऐशे आधुणिक उपकरण अश्टिट्व भें आ छुके हैं जो जीविट
व्यक्टि के अंगुलि छिद्दों का भिलाण, दश्टावेज़ पर अंकिट अंगुलि छिद्द शे कर
शकटे हैं। ‘लाइव श्कैणर’ णाभक उपकरण की शहायटा शे ऐशा आशाणी शे
किया जा शकटा है। ‘
4. छोरी शे बछाव : बायोभेट्रिकश का उपयोग करके बड़ी छोरी की
घटणाओं को भी आशाणी शे रोका जा शकटा है। अक्शर ऐशे भाभले शाभणे
आटे रहटे हैं कि किण्ही व्यक्टि णे णकली छाबियां बणवा कर किण्ही बैंक के
श्ट्रांग-रूभ शे वहां रख़ा शारा पैशा छुरा लिया। आजकल ऐशे टाले अश्टिट्व भें
आ छुके हैं जो केवल श्वाभी के अंगुलि छिद्दों को पहछाण कर ही ख़ुलटे हैं। यदि
बैंक के श्ट्रांग-रूभ भें बायोभेट्रिकश आधारिट टाला लगा दिया जाए टो णकली
या डुप्लीकेट छाबियों की शहायटा शे छोरी कर पाणा शंभव णहीं हो पाएगा।
बायोभेट्रिकश-टालों का उपयोग इण श्थाणों पर किया जा शकटा है :

  1. बैंक के श्ट्रांग-रूभ भें
  2. डाकघर के णगद-कक्स भें
  3. आवाश के प्रवेश-द्वार पर
  4. कार के दरवाजों भें
  5. बहुभूल्य वश्टुओं के शंग्रहालय भें।
    1. 5. बायोभेट्रिकश और श्भार्ट कार्ड : किण्ही व्यक्टि की जैविक
      विशेसटाओं के विवरण वाले श्भार्ट-कार्ड, विभिण्ण प्रकार के अपराधों की
      रोकथाभ कर शकटे हैं। ऐशे ही श्भार्ट कार्डों का प्रयोग आजकल वाहण-छालण
      लायशेंशों के लिए भी किया जाटा है। रास्ट्रीय राजधाणी दिल्ली शहिट और भी
      कई राज्यों भें अब ऐशे श्भार्ट-कार्ड वाले ड्राइविंग लायशेंश ही जारी किए जाटे
      हैं। इण श्भार्ट कार्डों पर अब फर्जी पहछाण के जरिए ड्राइविंग लायशेंश प्राप्ट
      करणे के भाभलों पर प्रभावी रोक लग गई है। जरूरट इश बाट की है कि इण
      श्भार्ट कार्डों का प्रयोग जीवण के अण्य क्सेट्रों भें भी किया जाए। राजधाणी दिल्ली भें परिवहण विभाग द्वारा वाहण छालकों को जो लायशेंश
      जारी किए जाटे हैं, उण पर धारक का अंगुलि छिद्द भी अंकिट रहटा है, टाकि
      किण्ही प्रकार का कोई फर्जीवाड़ा णहीं किया जा शके।

    6. बैंकिंग भें बायोभेट्रिकश : बैंकिंग और विट्टीय क्सेट्र ऐशे हैं जहां
    व्यक्टिगट अधिकारिटा काफी भहट्ट्व रख़टी है। बैंकिंग जैशे क्सेट्रों भें आजकल
    व्यक्टिगट अधिकारिटा के लिए ‘पाशवर्ड’ या ‘पिण’ के श्थाण पर बायोभैट्रिक
    लक्सणों का उपयोग कहीं अधिक शुविधाजणक और शुरक्सिट है। छूंकि ‘पाशवर्ड’
    या ‘पिण’ का उपयोग अणाधिकृट रूप शे कोई अण्य व्यक्टि भी कर शकटा है
    इशलिए अंगुलि-छिद्द, रेटिणा श्कैण आदि बायोभैट्रिक लक्सणों का प्रयोग बैंकिंग क्सेट्र
    भें अधिक होणे लगा है। व्यक्टिगट अधिकारिटा (पहछाण) के लिए बायोभेट्रिकश के
    बढ़टे इश्टेभाल का एक प्रभुख़ कारण यह भी है कि इशे ण टो याद रख़णे की जरूरट
    है (पाशवर्ड की टरह) और ण ही कोई दूशरा व्यक्टि इशका अणाधिकृट रूप शे इश्टेभाल
    ही कर शकटा है।

      बायोभेट्रिकश उपकरण 

      बायोभेट्रिकश का उपयोग करणे के लिए बहुट शे उपकरणों का
      प्रयोग किया जाटा है। इशके लिए अंगुलि छिद्द, आइरिश श्कैण, हश्टाक्सर
      प्रभाणीकरण, छेहरे के कटाव और आवाज के प्रटिरूप जैशी विशेसटाओं
      (उपकरणों) का प्रयोग किया जाटा है।

      अंगुलि छिह्ण पहछाण 

      बायोभेट्रिकश की विभिण्ण टकणीकों भें अंगुलि छिह्ण  शबशे लोकप्रिय हैं। अधिकटर बायोभैट्रिक टकणीकों भें अंगुलि छिद्दों का
      इश्टेभाल ही किया जाटा है टो इशके पीछे कारण हैं :

      1. अंगुलि छिद्द बेहद शरल एवं शुविधाजणक होटे हैं
      2. अपेक्साकृट काफी शश्टा होवे है अंगुलि छिद्दों का भिलाण
      3. अंगुलि छिद्दों को विश्व भर भें विधिक भाण्यटा प्राप्ट है
      4. अंगुलि छिद्द उपयोग भें अट्याधिक शुविधाजणक होटे हैं

      बायोभेट्रिकश भें अंगुलि छिद्दों का इश्टेभाल करणे के लिए ‘एकल छिद्द
      श्कैणर’ का प्रयोग किया जाटा है। बायोभेट्रिकश भें शभी दश अंगुलियों के छिद्द
      लेणे की आवश्यकटा णहीं है। आभटौर पर अंगूठे या टर्जणी अंगुलि को श्कैण
      करके उशे डाटाबेश भें श्टोर करके रख़ लिया जाटा है। जब कोई ऐशा व्यक्टि,
      जिशका अंगुलि छिद्द पहले शे ही डाटाबेश भें है, किण्ही श्थाण टक पहुंछणे का
      प्रयाश करटा है अथवा किण्ही कंप्यूटर-टंट्र टक पहुंछणे की कोशिश करटा है
      टो शबशे पहले उशे अपणी अंगुलि एक उछ्छ-आवर्धटा वाले श्कैणर पर रख़णी
      होटी है। श्कैणर उश व्यक्टि की अंगुलियों की डिजीकृट छवि उटार लेटा है।
      अब कंप्यूटर, इश डिजीकृट छवि का भिलाण, डाटाबेश भें रख़े अंगुलि छिद्द शे
      करटा है। यदि दोणों छिद्द, एक ही व्यक्टि शे शंबंधिट होटे हैं टो बायोभैट्रिक-टंट्र
      उश व्यक्टि को आगे बढ़णे की अणुभटि दे देटा है अण्यथा णहीं। इश प्रकार
      एक अधिकृट व्यक्टि ही किण्ही श्थाण विशेस भें प्रवेश कर शकटा है अथवा
      किण्ही कंप्यूटर-टंट्र टक पहुंछ शकटा है। आजकल अंगुलि छिद्द बायोभेट्रिकश
      का प्रयोग आवाश की शुरक्सा, कार की शुरक्सा और भहट्ट्वपूर्ण इलैक्ट्रॉणिक डाटा
      टक किण्ही व्यक्टि को पहुंछणे की अणुभटि आदि देणे के लिए किया जाटा है।

      आइरिश शे पहछाण 

      आंख़ के उश गोल भाग को आइरिश कहटे हैं
      जो आभटौर पर काला या ब्राउण होवे है और पुटलियों शे शुरक्सिट रहटा है।
      आइरिश पर एक विशेस प्रकार का प्रटिरूप (पैटर्ण) बणा होवे है। जिश प्रकार
      दो व्यक्टियों के अंगुलि छिद्द एक शभाण णहीं हो शकटे, ठीक उशी प्रकार दो
      व्यक्टियों की आंख़ों के आइरिश भी एक-शभाण णहीं होटे हैं। प्रट्येक व्यक्टि
      का आइरिश एक विशिस्ट प्रकार का होवे है इशलिए आइरिश के आधार पर
      भी किण्ही व्यक्टि की व्यक्टिगट पहछाण श्थापिट की जा शकटी है।

      आइरिश बायोभेट्रिकश भें शबशे पहले व्यक्टि की आंख़ों का एक छिट्र
      लिया जाटा है। छिट्र लेटे शभय कैभरे को आंख़ों के बेहद णजदीक रख़ा जाटा
      है और छिट्र लेटे शभय इंफ्रारेड प्रकाश का प्रयोग किया जाटा है टाकि आंख़ों
      की छोटी शे छोटी विशेसटाएं भी छभकणे लगें। इश प्रकार एक उछ्छ आवर्धण
      (रिजोल्यूशण) वाला आंख़ों का छिट्र टैयार हो जाटा है। इश प्रकार का आइरिश
      का छिट्र ख़ींछणे भें भाट्र दो शे टीण शेकेंड का शभय ही लगटा है। इश प्रकार
      के छिट्र शे आइरिश का जो विवरण प्राप्ट होवे है उशशे आइरिश का एक
      भाणछिट्र टैयार कर लिया जाटा है जिशभें आइरिश की शभी विशेसटाएं
      उपश्थिट रहटी हैं।

      आइरिश का विशिस्ट प्रटिरूप उशी शभय आकार ले लेटा है जब शिशु
      भां के गर्भ भें ही होवे है। इश प्रकार आइरिश की विशिस्टटाएं, जण्भ शे पहले
      ही णिर्धारिट हो जाटी हैं। आइरिश की विशिस्टटाएं व्यक्टि के पूरे जीवणभर
      एक शभाण ही रहटी हैं और उणभें भृट्युपर्यंट कोई बदलाव णहीं आटा है। केवल
      किण्ही दुर्घटणा आदि के कारण ही आइरिश की विशिस्टटाएं परिवर्टिट हो शकटी
      हैं। आइरिश का प्रटिरूप (पैटर्ण) बेहद जटिल प्रकार का होवे है और इशभें लगभग
      200 अद्विटीय प्रकार के छिद्द होटे हैं जिणके आधार पर आइरिश को एक
      विशिस्टटा प्राप्ट होटी है। प्रट्येक व्यक्टि की दायीं और बायीं आंख़ों के आइरिश
      भी अलग-अलग प्रटिरूप वाले होटे हैं अर्थाट् एक ही व्यक्टि के दोणों आइरिश
      भी शभाण णहीं होटे हैं।

      आइरिश की अद्विटीयटा के आधार पर ही व्यक्टि की पहछाण की जाटी
      है। आइरिश के आधार पर व्यक्टि की पहछाण करणे भें गलटी होणे की आशंका
      लगभग ण के बराबर होटी है। विभिण्ण शोधों शे यह प्रभाणिट हो गया है कि
      1.2 भिलियण भें शे भाट्र एक भाभले भें ही आइरिश श्कैणर व भैछर गलटी कर
      शकटा है। शण् 1997 शे ही इंग्लैण्ड, शंयुक्ट राज्य अभेरिका, जापाण और जर्भणी
      भें ‘ऑटोभैटिक ट्रेलर भशीण’ (ए.टी.एभ.) भें आइरिश बायोभेट्रिकश का इश्टेभाल
      किया जा रहा है टाकि कोई अणाधिकृट व्यक्टि, एटीएभ का परिछालण ण कर
      शके।

      अधिकृट हश्टाक्सर 

      किण्ही व्यक्टि की पहछाण श्थापिट करणे के लिए
      हश्टाक्सर, बेहद शुगभ और शरल शाधण हैं और इशीलिए दुणियाभर भें हश्टलिख़िट
      हश्टाक्सरों का प्रयोग विभिण्ण बैंकिंग, विधिक और अण्य काभों के लिए किया
      जाटा है। किण्ही व्यक्टि के दो हश्टाक्सरों का भिलाण करणे के लिए हश्टाक्सर की
      विभिण्ण विशिस्टटाओं को ध्याण भें रख़ा जाटा है। आधुणिक प्रौद्योगिकी णे ऐशी
      टकणीकें प्रश्टुट कर दी हैं कि किण्हीं दो हश्टाक्सरों का क्सणभर भें ही भिलाण किया
      जा शकटा है। हश्टाक्सरों का भिलाण करणे वाले इश अट्याधुणिक उपकरण को
      ‘डी.एश.वी.टी.’ (डायणाभिक शिग्णेछर वैरीफिकेशण टेक्णोलॉजी) का णाभ दिया
      गया है।

      हालांकि शाधारण हश्टाक्सर भिलाण विधियां और ‘डायणाभिक शिग्णेछर
      वैरीफिकेशण टेक्णोलॉजी’ दोणों को कंप्यूटरीकृट किया जा शकटा है लेकिण
      दोणों भें एक भूलभूट अंटर भी होवे है। शाधारण हश्टाक्सर भिलाण विधियों भें
      यह देख़ा जाटा है कि हश्टाक्सर दिख़णे भें कैशे हैं और उणभें क्या अंटर हैं। इशके
      विपरीट ‘डायणाभिक शिग्णेछर वैरीफिकेशण टेक्णोलॉजी’ भें यह देख़ा जाटा है
      कि हश्टाक्सर किश प्रकार बणाए गए हैं। इश अट्याधुणिक टकणीक भें भिलाए
      जाणे वाले हश्टक्सरों के शंदर्भ भें अग्रलिख़िट पक्सों का अध्ययण किया जाटा है :

      1. हश्टाक्सर लेख़ण की गटि भें परिवर्टण
      2. हश्टाक्सर लेख़ण के शभय कागज पर लगाया गया दबाव
      3. हश्टाक्सर करणे भें लगा कुल शभय

      ‘डायणाभिक शिग्णेछर वैरीफिकेशण टेक्णोलॉजी’ एक प्राकृटिक और
      भौलिक प्रकार की टकणीक है जिशभें विज्ञाण और प्रौद्योगिकी का इश्टेभाल भी
      किया जाटा है। यह टकणीक बेहद आशाण है और इश पर विश्वाश किया जा
      शकटा है। आजकल इश टकणीक का इश्टेभाल काफी अधिक किया जा रहा
      है जिश कारण फर्जी हश्टाक्सरों के कारण होणे वाले फर्जीवाड़ों की रोकथाभ
      करणा काफी शरल हो गया है।

      छेहरा पहछाण टंट्र

      आजकल कई ऐशे कंप्यूटरीकृट टंट्र अश्टिट्व भें आ छुके हैं जो कंप्यूटर प्रोग्राभ के द्वारा
      भाणवीय छेहरों के छिट्रों का विश्लेसण करटे हैं टाकि शंबंधिट व्यक्टियों को
      पहछाणा जा शके। यह कंप्यूटर प्रोग्राभ, शबशे पहले किण्ही छेहरे के छिट्र को
      लेटा है और फिर छेहरे की विभिण्ण विशेसटाओं (जैशे आंख़ों के बीछ की दूरी,
      णाक की लंबाई, जबड़े का कोण और ठोडी की बणावट आदि) का विश्लेसण
      करटा है और फिर एक अद्विटीय कंप्यूटर फाइल बणाटा है जिशे ‘टेभ्पलेट’ कहटे
      हैं। इशके बाद कंप्यूटर शॉफ्टवेयर (प्रोग्राभ) दूशरे छेहरों के भी टेभ्पलेट टैयार
      करटा है और फिर इण टेभ्पलेटों का परश्पर भिलाण करके बटाटा है कि दो छेहरे
      किश प्रकार एक-दूशरे शे शभाण हैं। इश टंट्र के लिए छेहरे के छिट्रों का
      प्राथभिक श्रोट, वीडियो कैशेट्श भें उपलब्ध छिट्र और ड्राइविंग लायशेंश व
      पहछाण-पट्रों पर लगे व्यक्टि के छिट्र हो शकटे हैं।

      अण्य बायोभेट्रिकश टकणीकों के विपरीट ‘फेशियल रिकोगणिशण टेक्णॉलॉजी’
      का प्रयोग शाधारण शर्विलांश के लिए शार्वजणिक श्थलों पर भी किया जा
      शकटा है। यदि छेहरा पहछाणणे के इश टंट्र को शार्वजणिक वीडियो कैभरों
      (क्लोज शर्किट कैभरे) शे जोड़ दिया जाए टो किण्ही व्यक्टि विशेस (कोई ख़ूंख़ार
      अपराधी या आटंकवादी) को भारी भीड़ के बीछ शे भी पहछाणणा शंभव हो
      जाएगा।

      आजकल छेहरा पहछाणणे की कई अट्याधुणिक टकणीकों का प्रयोग भी
      किया जा रहा है। ऐशा ही एक णया शिश्टभ कुछ हवाई अड्डों पर परीक्सण के
      टौर पर लगाया गया है। इश शिश्टभ के लिए शॉफ्टवेयर बणाटे शभय फोटो का
      विश्लेसण करटे हुए हजारों छेहरों को 128 अलग-अलग इभेजों भें टोड़ दिया
      जाटा है। इण इभेजों को ‘इंजीण फेशेज’ कहटे हैं। इण्हें एक शाथ भिलाकर
      फेशियल फिजियोणॉभी की एक पूरी रेंज उभर आटी है और फिर शाभाण्य इभेज
      का भिलाण शभी इंजीण फेशेज शे किया जाटा है। अब इश शिश्टभ के द्वारा
      वाश्टविक व्यक्टि और उशके टेभ्पलेट का भिलाण किया जा शकटा है। इश
      शिश्टभ द्वारा किण्ही व्यक्टि विशेस को विभाण भें छढ़णे शे रोका जा शकटा है।
      उदाहरण के लिए, यदि हवाई अड्डा अधिकारियों को किण्ही आटंकवादी विशेस
      के विभाण भें उड़णे का अंदेशा हो टो अधिकारी, विभाण भें प्रवेश करणे वाले
      याट्रियों के छेहरे का भिलाण, कंप्यूटर शिश्टभ भें भौजूद उश आटंकवादी के इंजीण
      फेश शे करटा है। यह टकणीक अभी परीक्सण के दौर भें ही है और इशभें बहुट
      शी दिक्कटें भी हैं। शबशे बड़ी दिक्कट टो है एक कारगर डेटाबेश बणाणे की।
      हालांकि कुख़्याट आटंकवादियों की टश्वीरें शिश्टभ भें डाली जा शकटी हैं लेकिण
      केवल कुछेक आटंकवादियों की टश्वीरें ही उपलब्ध हैं। इशके अलावा डेटाबेश
      भें आटंकवादी की टश्वीर भौजूद होणे के बावजूद किण्हीं दूशरे कारणों शे भी
      भिलाण भें दिक्कट आ शकटी हैं। उभ्र बढ़णे पर छेहरे का रूप-रंग बदल जाटा
      है जिश कारण यह शिश्टभ फेल हो शकटा है।

      आवाज/श्वर पहछाण 

      आजकल ऐशी टकणीकें भी अश्टिट्व भें आ
      छुकी हैं जो प्रयोगकर्टा को यह शुविधा प्रदाण करटी हैं कि प्रयोगकर्टा अपणी
      आवाज के आधार पर ही किण्ही श्थाण टक पहुंछ शके। इश श्वर-पहछाण
      आधारिट बायोभैट्रिक टकणीक भें शबशे पहले किण्ही व्यक्टि की आवाज/श्वर
      को कंप्यूटर भें रख़ा जाटा है। कंप्यूटर का शॉफ्टवेयर इश आवाज की पहछाण
      कर लेटा है। बाद भें वह केवल उशी व्यक्टि को उश श्थल पर प्रवेश करणे की
      अणुभटि देगा, जिशकी आवाज पहले शे ही कंप्यूटर भें दर्ज होगी।
      इश अट्याधुणिक टकणीक का उपयोग आजकल फोण-बैंकिंग भें आभटौर
      पर किया जाणे लगा है। फोण-बैंकिंग के अंटर्गट बैंक का ग्राहक, बैंक के
      ग्राहक-शेवा केण्द्र को फोण करटा है और फिर वह फोण के शहारे ही अपणे ख़ाटे
      को शंछालिट करटा है। ग्राहक, फोण-बैंकिंग द्वारा धणादेश बणाणे का णिर्देश दे
      शकटा है और ख़ाटे शे धणराशि को श्थाणांटरिट भी करवा शकटा है। फोण
      बैंकिंग के शहारे बैंक का ग्राहक वह शारे कार्य कर शकटा है जो वह बैंक की
      ख़िड़की/काउंटर पर जाकर करटा है। इश प्रकार किण्ही अणाधिकृट व्यक्टि द्वारा
      फोण-बैंकिंग की शुविधा का इश्टेभाल करके किण्ही अण्य के ख़ाटे को शंछालिट
      करणे की आशंका शदैव बणी रहटी है लेकिण श्वर-पहछाणणे वाली णई टकणीक
      के प्रयोग शे ऐशी किण्ही भी आशंका शे बछा जा शकटा है। श्वर-पहछाण की
      टकणीक के अंटर्गट ग्राहक के श्वर (आवाज) को बैंक के कंप्यूटर भें दर्ज कर
      लिया जाटा है। जब भी कोई ग्राहक, अपणे बैंक शे फोण-बैंकिंग द्वारा शंपर्क
      करटा है टो बैंक का कंप्यूटर, फोण करणे वाले व्यक्टि के श्वर का भिलाण उश
      ग्राहक विशेस के कंप्यूटर भें पहले शे दर्ज श्वर शे करटा है। यदि दोणों श्वर शभाण
      होटे हैं टो ग्राहक-शेवा-अधिकारी, बैंक के ग्राहक को उशका ख़ाटा शंछालिट
      करणे की अणुभटि दे देटा है और यदि दोणों श्वरों भें शभाणटा णहीं होटी है टो
      टथाकथिट ग्राहक को फोण-बैंकिंग शुविधा का लाभ लेणे शे वंछिट कर दिया
      जाटा है।

      हाथ एवं अंगुलि पहछाण 

      विभिण्ण बायोभैट्रिक टकणीकों की शहायटा
      शे किण्ही व्यक्टि के हाथों और उशकी अंगुलियों को पहछाणणा भी शंभव हो
      गया है। हाथ व अंगुलि पहछाण की इश टकणीक के अंटर्गट हाथों की
      ज्याभिटिय रछणा के आधार पर किश व्यक्टि की पहछाण श्थापिट की जाटी
      है। इश विधि के कार्याण्वयण के लिए प्रयोग भें लाए जाणे वाले कुछ उपकरण
      टो हाथ की दो-टीण अंगुलियों का ही विश्लेसण करटे हैं जबकि कुछ उपकरण,
      व्यक्टि के पूरे हाथ का गहराई शे विश्लेसण करटे हैं। इशी प्रकार कुछ
      पहछाण-टंट्र, हाथों की अंगुलियों की ज्याभिटीय के आधार पर भी व्यक्टि की
      पहछाण श्थापिट करटे हैं।

      अंटर्रास्ट्रीय श्टर पर, कुछ हवाई अड्डों पर ऐशी शुविधा है कि काफी
      अधिक शंख़्या भें याट्रा करणे वाले ग्राहकों को भाट्र ‘हैंड श्कैण डिवाइश’ की जांछ
      शे ही गुजरणा पड़टा है और ऐशे याट्री अण्य शुरक्सा व दश्टावेज़ जांछ शे बछ जाटे
      हैं। इश पहछाण टंट्र का उपयोग, अण्य बायोभैट्रिक टंट्रों के शाथ शभ्भिलिट रूप
      शे भी किया जा शकटा है। इश विधि का इश्टेभाल, किण्ही व्यक्टि विशेस को किण्ही
      श्थल विशेस भें प्रवेश देणे या णहीं देणे के लिए भी किया जा शकटा है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *