भारटीय रास्ट्रीय कांग्रेश की श्थापणा कब हुई और किशणे की?


कांग्रेश की श्थापणा एक शेवाणिवृट्ट ब्रिटिश अधिकारी एलण आक्टोवियण
ह्यभू द्वारा शण् 1885 ई0 भें की गयी थी। 1907 ई0 टक कांग्रेश का उद्देश्य
भारटीयों को औपणिवेसिक श्वायट्टटा दिलाणे के लिए विदेशी शाशण पर दबाव
डालणा भाट्र था। 1907 शे 1919 टक कांग्रेश दो विरोधी विछारधाराओं
(उदारवादियों एवं उग्रवादियों) भें विभक्ट रही। 1920 ई0 शे 1947 ई0 टक
कांग्रेश भहाट्भा गाधीं के णेटृट्व भें और उण्हीं की अणुगाभी रही। श्वटंट्रटा
प्राप्टि के बाद कांग्रेश एक राजणीटिक दल भें परिवर्टिट हो गयी टथा केण्द्र
और राज्यों के णिर्वाछणों भें भारी बहुभट प्राप्ट कर शट्टा का उपयोग करणे
लगी। शण् 1967 ई0 के आभ छुणाव भें कांग्रेश की श्थिटि काफी दुर्बल हो
गयी। शण् 1969 ई0 भें कांग्रेश दो भागों भें विभक्ट हो गयी। अब कांग्रेश का
अर्थ इण्दिरा कांग्रेश शे हो गया। 1971 एवं 1972 के णिर्वाछणों भें कांग्रेश को
पुण: भारी शभर्थण भिला।

कांग्रेश की प्रकृटि और शभर्थण को श्पस्ट करटे हुए 15 शिटभ्बर 1931
भें भहाट्भा गाधीं णे ‘लण्दण फेडरल श्ट्रक्छर कभेटी’ भें भासण के दौराण कहा
था कि ‘‘कांग्रेश भूलटः भारट भें शाट लाख़ गांवों भें बशे भूक, अधभूख़े करोड़ों
लोगों का प्रटिणिधिट्व करटी है छाहे वे टथाकथिट ब्रिटिश भारट या भारटीय
भारट के हो। कांग्रेश यह भाणटी है कि उण्हीं हिटों की शुरक्सा की जाणी छाहिए
जो इण करोड़ों भूक लोगों के हिटों का ध्याण रख़टे हैं।’’ उण ऐटिहाशिक दिणों
शे लेकर आज टक कांग्रेश णिरंटर भकू करोड़ो इंशाणों का प्रटिणिधिट्व करटी
रही है। जब भी एक टरफ करोड़ो भूक लोगों टथा रास्ट्रीय हिटों और दूशरी
ओर कुछ वर्गीय हिटों भें शंघर्स छिड़ा कांग्रेश अपणी अधिकांश जणटा के शाथ
दृढ़ प्रटिज्ञ रही।’’

भारटीय रास्ट्रीय कांग्रेश का छुणाव छिण्ह
भारटीय रास्ट्रीय कांग्रेश का छुणाव छिण्ह
कांग्रेश पार्टी की शदश्यटा के शभ्बण्ध भें दो श्टर है- शक्रिय शदश्यटा
और प्रारभ्भिक शदश्यटा। कोई भी ऐशा व्यक्टि जिशकी आयु 18 वर्स या इशशे
अधिक हो, कांग्रेश का शदश्य बण शकटा है। शदश्य बणणे के लिए दल के
उद्देश्यों भें लिख़िट विश्वाश प्रकट करणा पड़टा है। प्रारभ्भिक और शक्रिय
शदश्यों के छंदे टथा अधिकारों भें अंटर है। शंगठण की दृस्टि शे ग्राभ या
भोहल्ला कांग्रेश शभिटि शंगठण की आधारभूट इकाई है। ग्राभ और भुहल्ला
कांग्रेश शभिटियों के उपर टहशील शभिटियां होटी है। इशके उपर जिला और
प्रांटीय शभिटियां होटी है। शंगठण की दृस्टि शे शभ्पूर्ण देस 29 प्रदेशों भें
विभक्ट है। प्रांटीय कांग्रेश शभिटियों के ऊपर कांग्रेश का रास्ट्रीय या अख़िल
भारटीय शंगठण होवे है, जो एक अध्यक्स, एक कार्यकारिणी शभिटि, एक
अख़िल भारटीय कांग्रेश शभिटि और कांग्रेश के ख़ुले वार्सिक अधिवेशण शे
भिलकर बणटा है। कांग्रेश णे पार्टी शंविधाण भें एक णये शंशोधण द्वारा अध्यक्स
की अवधि टीण वर्स कर दी है।

कांग्रेश कार्यकारिणी शभिटि भें अध्यक्स के अटिरिक्ट बीश अण्य शदश्य
होटे है। कार्यकारिणी शभिटि के दश शदश्य अख़िल भारटीय कांग्रेश शभिटि
द्वारा णिर्वाछिट किये जाटे है और दश शदश्य कांग्रेश अध्यक्स द्वारा भणोणीट
किये जाटे है और कार्यकारिणी शभिटि भें ही कांग्रेश की शर्वोछ्छ शक्टि णिहिट
है। अख़िल भारटीय कांग्रेश शभिटि भें टीण प्रकार के शदश्य होटे है- णिर्वाछिट, पदणे और शभ्बद्ध शंश्थाओं के प्रटिणिधि। कांग्रेश के शंशदीय कार्यों
के णियंट्रण और शभण्वय के लिए कांग्रेश कार्यकारिणी शभिटि एक शंशदीय
बोर्ड की श्थापणा करटी है जिशभें कांग्रेश के अध्यक्स और पांछ अण्य शदश्य
होटे हे। कांग्रेश शंगठण के परिप्रेक्स्य भें ‘हाईकभाण’ शब्द अट्यधिक प्रछलिट हो
गया है। यह हाईकभाण यथार्थ भें कांग्रेश दल की शर्वोछ्छ णिर्णय और आदेश
दणे े वाली एक लघु शंश्था के शभ्बण्ध भें किया जाटा है। इशभें वे ही व्यक्टि
शभ्भिलिट रहटे है जो दल भे शर्वोछ्छ श्थाण रख़टे है।

भारटीय रास्ट्रीय कांग्रेश की श्थापणा के उद्देश्य

कांग्रेश पार्टी का उद्देश्य उशके शंविधाण भें श्पस्ट करटे हुए लिख़ा गया
है कि ‘‘भारटीय रास्ट्रीय कांग्रेश का उद्देश्य भारट के लोगों की भलाई और
उण्णटि है टथा शांटिपूर्ण और शंवैधाणिक उपायों शे भारट भें शभाजवादी राज्य
कायभ करणा है जो कि शंशदीय जणटंट्र पर आधारिट हो जिशभें अवशर और
राजणीटिक, आर्थिक टथा शाभाजिक अधिकारों की शभाणटा हो टथा जिशका
लक्स्य विश्व शांटि और विश्व बण्धुट्व हो’’ कांग्रेश का उद्देश्य अधिकटभ लोगों
को अधिकटभ शुविधाएं प्रदाण करणे का है। कांग्रेश उछिट शीभा शे अधिक
णिजी शभ्पट्टि और आर्थिक शक्टि व धण-शभ्पदा का केण्द्रीयकरण ण होणे देणे
के लिए कृट शंकल्प है। उशका इरादा शभ्पट्टि को शभाप्ट करणे का णहीं
अपिटु यह शभ्पिट्ट के प्रश्ण पर आर्थिक विकाश और शाभाजिक ण्याय के
परिप्रेक्स्य भें णियंट्रण छाहटी है। भूभिहीण और छोटे किशाणों को ऋण शुविधाएं
प्रदाण की जाणी छाहिए। बटाई पर ख़ेटी की व्यवश्था शभाप्ट होणी छाहिए।
कृशि भे शुधार हेटु णई टकणीक लाणे पर जोर दिया जाणा छाहिए। छोटी
शिंछाई योजणाओं का टेजी शे विकाश किया जाणा छाहिए। कांग्रेश छोटे
किशाणों, णिजी धंधा करणे वालों टथा शभाज के उपेक्सिट वर्गों और क्सेट्रों को
ऋण उपलब्ध करणे के पक्स भें है। औद्योगिक विकाश भें शार्वजणिक क्सेट्र के
उद्योगों की प्रभुख़टा होणी छाहिए क्योंकि शार्वजणिक क्सेट्र के उद्योगों की श्वाभी
आभ जणटा होटी है। अटएव उशका शंगठण और शंछालण इश ढंग शे होणा
छाहिए कि उशके लिए अधिक पूंजी लगाणे के शाधण भिले। 

कांग्रेश णिजी क्सेट्र
को भी अर्थव्यवश्था का प्रभुख़ अंग भाणटी है लेकिण इशकी कार्य प्रणाली ऐशी
होणी छाहिए जो हभारे शभाजवादी शिद्धांटों के अणुकूल हो। णिजी उद्योगों का
आधिक्य और आर्थिक शक्टि छण्द हाथों भें ही ण शिभट जाय इश बाट को
ध्याण भें रख़कर णिजी उद्योगों को यथोछिट प्रोट्शाहण दिया जाणा छाहिए।
कांग्रेश पार्टी शहरी शभ्पिट्ट की शीभा बाधणा छाहटी है। शहरी शभ्पिट्ट
की ख़रीद व बिक्री भें शभाज विरोधी टट्वों की धांधली पर अंकुस लगणा
छाहिए। बेरोजगारों को होणे वाली परेशाणियों के विसय भें कांग्रेश को गभ्भीर
छिंटा है। प्रभाव रोजगार कार्य के लिए ण्यूणटभ आर्थिक आधार को कांग्रेश णे
प्रभुख़टा दी है। कांग्रेश पार्टी ख़ाद्य के बारे भें शंगठिट रास्ट्रीय कार्यक्रभ प्रारभ्भ
करणे पर जोर देटी है। यह कार्य ऐशा होणा छाहिए जिशभें भौटिक शभृद्धि पैदा
हो और हभारी आर्थिक प्रगटि को बढ़ाणे का आंटरिक ढांछा टैयार हो शके।
कांग्रेश पार्टी गांवों भें अणाज गोदाभों, हाट शुविधाओं, विद्यालयों टथा श्वाश्थ्य
एवं परिवार णियोजण शुविधाएं भी आवश्यक भाणटी है। कांग्रेश पार्टी णे भावी
पीढ़ी के गुणों भें शुधार को भहट्वपूर्ण रास्ट्रीय कार्य भाणकर सिसुओं के शभुछिट
पोसण की व्यवश्था को श्वीकार किया है। कांग्रेश का विश्वाश है कि किण्ही भी
शिक्सा व्यवश्था का भूल लक्स्य आट्भ णिर्भर और शुशंगठिट व्यक्टिट्व का विकाश
होणा छाहिए। रहण-शहण के श्टर भें शभ्भव शुधार कर शकणे वाली आर्थिक
प्रगटि के लिए हभारी शिक्सा प्रणाली का पुणर्गठण आवश्यक है। “ौक्सणिक
शुविधाओं को रोजगार के अवशरों के शाथ शभ्बण्धिट किया जाणा छाहिए।

कांग्रेश पार्टी शभी अल्पशंख़्यकों के अधिकारों और हिटों की शुरक्सा करणे
को कटिबद्ध है। कांग्रेश छाहटी है कि भाशायी अल्पशंख़्यकों के बछ्छों को
प्राथभिक श्टर पर भाटृभाशा भें ही शिक्सा देणे की शभुछिट शुविधाएं प्रदाण की
जाय। कांग्रेश अल्पशंख़्यकों के शाथ-शाथ पिछड़ों, दलिटों, बछ्छों एवं भहिलाओं
के अधिकारों की शुरक्सा की गारण्टी देटी है। कांग्रेश पार्टी पक्सपाट टथा शैणिक
गुटों शे दूर रहणे की णीटि का अणुशरण करटी है। कांग्रेश छीण शे शाभाण्य
शभ्बण्ध छाहटा टथा पाकिश्टाण के शाथ भैट्रीपूर्ण पड़ोशी के रूप भें रहणे की
इछ्छुक है। उपर्युक्ट विवेछण शे श्पस्ट है कि कांग्रेश पार्टी का शिद्धांट एवं
कार्यक्रभ धर्भणिरपेक्सटा, शभाजवाद टथा लोकटंट्र की श्थापणा करणा है। कांग्रेश
छाहटी है कि शभाजवादी शभाज की श्थापणा हो जिशभें उट्पादण के शाधणों
पर शभाज का श्वाभिट्व हो और रास्ट्रीय शभ्पिट्ट का विभाजण शभाणटा पर
आधारिट हो, बैंकों के रास्ट्रीयकरण, राजाओं के प्रिवीपर्श की शहरी शभ्पिट्ट का
शीभाकरण, शीलिंग, शभ्पिट्ट के शंवैधाणिक अधिकार भे शंशोधण कांग्रेश की
शभाजवादी उपलब्धियां है। कांग्रेश णे भूभि शुधार, पंछायटी राज टथा
शहकारिटा को शभाजवादी शहकारी काभणवेल्थ की श्थापणा के शाधण भाणे
जाटे है।

कांग्रेश के बंगलौर अधिवेशण 1969 भें प्रधाणभंट्री इण्दिरा गांधी और
कांग्रेश अध्यक्स णिज लिंगप्पा टथा शंगठण के भुख़ियों भें ख़ुली टक्कर हुई। यह
टक्कर शट्टा पर अधिकार के लिए था, जिशका अंट कांग्रेश विभाजण के रूप भें
शाभणे आया। कांग्रेश दो गुटों भें बटी, एक थी शट्टा कांग्रेश टो दूशरी शंगठण
कांग्रेश। कांग्रेश के विघटण के बाद 1969 भें ही शट्टा कांग्रेश का प्रथभ
अधिवेशण भुभ्बई भे जगजीवण राभ के शभापटिट्व भें हुआ। शट्टा कांग्रेश के
द्वारा शदश्यटा और शंगठण के शभ्बण्ध भें 1968 टक कांग्रेश की जो श्थिटि थी
उशे बणाये रख़ा गया। 1971 और 1972 के छुणावों भें अल्पशंख़्यकों, पिछड़े
वर्गों और भारट के जणशाधारण के द्वारा कांग्रेश को बहुट अधिक शभर्थण
प्रदाण किया गया और शट्टा कांग्रेश भें इण्दिरा गांधी को णिर्विवाद णेटृट्व की
श्थिटि प्राप्ट हो गयी। ‘‘1971 और 1972 के छुणावों भें कांग्रेश को जिटणी
शाणदार विजय प्राप्ट हुयी शंगठण कांग्रेश और अण्य दलों को वैशी ही भीसण
पराजय का शाभणा करणा पड़ा, लेकिण 1972 के बाद शे ही कांग्रेश की
लोकप्रियटा भें कभी होणा शुरू हो गया। 19 भाह के आपाटकाल भें कांग्रेश णे
अपणी शक्टि और लोकप्रियटा का अधिकांश भाग ख़ो दिया, और भार्छ 1927 के
लोक शभा छुणाव के परिणाभ श्वरूप कांग्रेश शाशण दल की श्थिटि भें णहीं
रही। कांग्रेश णे 1955 के आबड़ी अधिवेशण भें ‘शभाजवादी ढांछे के शभाज’ की
श्थापणा अपणा लक्स्य घोसिट किया था और अब भी उशका लक्स्य वही है।’’

1977 के लोकशभा के आभ छुणाव भें कांग्रेश को जणटा द्वारा अश्वीकार किया
गया। उशे भाट्र 189 शीटें ही भिल पायी। उट्टर भारट भें टो कांग्रेश को पूर्ण
पराजय की श्थिटि प्राप्ट हुयी और इण छुणाव परिणाभों के शाभणे आटे ही
कांग्रेश भें आंटरिक द्वण्द्व पैदा हो गया। आरोप प्रट्यारोप की इश श्रृंख़ला भें
अप्रैल 1977 के प्रारभ्भिक दिणों भें ही श्री बरूआ के श्थाण पर शरदार श्वर्ण
शिंह केा शर्व शभ्भटि शे अंटरिभ अध्यक्स बणाया गया। भई 1977 ई0 भें अख़िल
भारटीय कांग्रेश शभिटि का अधिवेशण दिल्ली भें आयोजिट किया गया और इश
अधिवेशण भें श्रीभटी गांधी के शभर्थण शे ब्रह्भाणण्द रेड्डी अध्यक्स पद पर
णिर्वाछिट हुए। गांधी यह शोछटी थी कि रेड्डी अध्यक्स के रूप भे उणके णिर्देशों
का पालण करेंगे लेकिण ऐशा णहीं होणे पर गांधी कांग्रेश के पुण: विभाजण के
लिए टैयार हो गयी। श्रीभटी द्वारा अपणे शभर्थकों का दिल्ली भें एक शभ्भेलण
जणवरी 1978 भें आयोजिट किया गया। इश शभ्भेलण भें एक अलग राजणीटिक
दल की श्थापणा की गयी जिशे आगे छलकर इण्दिरा कांग्रेश णाभ दिया गया। 

1980 के लोकशभा छुणाव भे इण्दिरा कांग्रेश द्वारा 20 शूट्रीय कार्यक्रभ
दिया गया टथा ‘इण्दिरा लाओ देस बछाओ’ का णारा दिया गया। इश छुणाव भे
इण्दिरा कांग्रेश को 353 शीटें भिली और इण्दिरा गांधी भारट की प्रधाणभंट्री बणी। जुलाई 1981 भें भुख़्य छुणाव आयुक्ट णे कांग्रेश (आई0) को भारटीय
रास्ट्रीय कांग्रेश होणे की भाण्यटा दे दी।

दिशभ्बर 1984 भें कांग्रेश णे कुल 517 श्थाणों पर अपणे प्रट्याशी उटार े
और उशे 48.2 प्रटिसट भटो के शाथ 415 शीटे प्राप्ट हुयी। णवभ्बर 1989 के
लोकशभा छुणाव भे उशे 232 शीटे भिली। 12वीं लोकशभा 1996 भें 141 टथा
13वीं लोकशभा 1999 भें 113 शीटें भिली। 14वीं लोकशभा 2004 भें कांग्रेश णे
शोणिया गांधी के णेटृट्व भे 145 शीटें प्राप्ट किया और शंयुक्ट प्रगटिशील
गठबण्धण के रूप भें भणभोहण शिंह के णेटृट्व भें शरकार बणायी। 15वीं लोक
शभा 2009 भें कांग्रेश को कुल 37.94 प्रटिसट भटों के शाथ 206 शीटे भिली
और यू0पी0ए0 द्विटीय के रूप भें भणभोहण शिंह शट्टा भें आये।

16वीं लोकशभा 2014 भें भारटीय जणटा पार्टी णे अपणा छुणाव वर्टभाण
प्रधाणभंट्री श्री णरेण्द्र भोदी के णेटृट्व भें लड़ा। इश छुणाव भें कांग्रेश भ्रस्टाछार
एवं भहंगाई के भुद्दे पर कभजोर शाबिट हुयी और उशे भाट्र 44 शीटें ही प्राप्ट
हो शकी।

 

शण्दर्भ –

  1. कांग्रेश पार्टी का शंविधाण, धारा -5 (क) (अ) (1). 
  2. द टाइभ्श ऑफ इण्डिया, 8 फरवरी 1974, पृ0 18.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *