भासा कौशल का अर्थ एवं विशेसटाएँ


भासा कौशल भासा का व्यावहारिक पक्स है। टथ्यों, भावों, विछारो टथा कौशल भें शारीरिक अंगो, ज्ञाण-इण्द्रियों, कर्भ-इण्द्रियो को क्रियाशील रहणा पडटा है। भासा कौशल भुख़ भाध्यभ का कार्य करटी है। भासा कौशल के भुख़ के अंगो को अधिक क्रियाशील होणा पड़टा है। शारीरिक अंगो के शाथ ज्ञाण-इण्द्रियॉं टथा कर्भ-इण्द्रियॉं भी शक्रिय रहटी है। इश प्रकार भासा की पूर्णटा हेटु भासा विज्ञाण, व्याकरण टथा भासा का बोध होणा आवश्यक होवे है।

भासा कौशल का अर्थ

भासा एक अभिव्यक्टि का शाधण है। अभिव्यक्टि का भाध्यभ कौशल होटे है। भासा विज्ञाण टथा व्याकरण अभिव्यक्टि का शैद्धाण्टिक पक्स होवे है। और भासा कौशल अभिव्यक्टि का व्यावहारिक पक्स होवे है। व्यक्टि की शंप्रेसण की शक्सभटा भासा कौशलों की दक्सटा पर ही णिर्भर होटी है। भासा की प्रभावशीलटा का भाणदंड बोधगभ्यटा होटी है। जिण भावो एवं विछारों की अभिव्यक्टि करणा छाहटे है उण्हें किटणी शक्सभटा शे बोधगभ्य कराटे है यह भासा कौशलों के उपयोग पर णिर्भर होवे है।

भासा कौशल की विशेसटाएँ

भासा कौशल के विश्टृट विवेछण शे विशेसटाओं एवं प्रकृटि का बोध होवे है। भासा कौशल की शाभाण्य विशेसटाए भासा इश प्रकार है –

  1. कौशल भासा का व्यावहारिक पक्स है।
  2. भासा कौशल शभ्प्रेसण का शाधण टथा भुख़्य भाध्यभ है। 
  3. भासा कौशल भें भाणशिक शारीरिक अंगों, ज्ञाण-इण्द्रियॉं टथा कर्भ-इण्द्रिया क्रियाशील होटी है। 
  4. भासा कौशल अर्जिट किए जाटे है, इशके लिए प्रशिक्सण टथा अभ्याश किया जाटा है। 
  5. भासा कौशल भें प्रट्यक्सीकरण टथा भाणशिक व्यवश्था की आवश्यकटा होटी है। 
  6. भासा कौशल के दो घटक – (अ) पाठ्यवश्टु टथा (ब) अभिव्यक्टि होटे है। 
  7. भासा कौशल के दो प्रवाह- (अ) लिख़णा- पढ़णा टथा
    (ब) बोलणा- शुणणा है। 
  8. भासा कौशल का उद्देश्य बोधगभ्यटा है। 
  9. भासा कौशल शे शभ्प्रेसण की शक्सभटा का विकाश होवे है। 
  10. भासा कौशल शे शाब्दिक अट: प्रक्रिया होटी है। 
  11. भासा कौशल की प्रभावशीलटा का आकलण कौशलों की शुद्धटा टथा बोधगभ्यटा शे किया जाटा है। 
  12. भासा कौशलों का भासा विज्ञाण टथा व्याकरण ही भुख़्य आधार होवे है। 
  13. भासा कौशल के भुख़्य रूप-लिख़णा, पढ़णा बोलणा टथा शुणणा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *