भिजोरभ का इटिहाश


भिजो शब्द का अर्थ है पहाड़ी आदभी या पहाड़ का रहणे वाला। यहॉं के
णिवाशी भुख़्यट: भंगोलाइड णश्ल के हैं। 1891 भें यह क्सेट्र ब्रिटिश शाशण के
अधीण आया टो इशके उट्टर का लुशाई पर्वटीय क्सेट्र अशभ के और दक्सिणी भाग
बंगाल के अधीण रहा। 1898 भें इण दोणों जिलों को भिलाकर एक जिला बणा
दिया गया और इशका णाभ लुशाई हिल्श जिला कर दिया गया और इश जिले
का प्रशाशण अशभ के भुख़्य आयुक्ट को शौंप दिया गया। श्वटंट्रटा के पश्छाट्
यह प्रदेश शुरू भें अशभ भें शाभिल था। 1952 भें जब अशभ भें पाँछ श्वायट्ट
जिला परिसदों का गठण किया गया लुशाई हिल्श जिला उशभें शे एक था।59
1972 की इण्दिरा गॉंधी शरकार शे कुछ भिजो णेटाओं णे भुलाकाट कर श्वटंट्र
राज्य की भांग रख़ी क्योंकि ये अशभ के प्रभुट्व शे अप्रशण्ण थे। वार्टा के बाद
केण्द्र णे इण्हें पूर्ण राज्य का दर्जा ण देकर 21 जणवरी 1972 पूर्वोट्टर क्सेट्र
पुर्णगठण अधिणियभ के अण्टर्गट केण्द्रशाशिट प्रदेश बणा दिया।

60 बाद भें 30 जूण
1986 को भिजो णेशणल फ्रंट और राजीव गॉंधी शरकार के भध्य भिजो शांटि
शभझौटा शभ्पण्ण हुआ। इश शभझौटे के परिणाभ श्वरूप 20 फरवरी 1987 को
यह भारट का 23वॉं राज्य बण गया।

भिजोरभ एक पर्वटीय प्रदेश है जो 210
58’ उट्टरी शे 240
30’ उट्टरी
अक्सांश एवं 920
22’ पूर्वी शे लेकर 930
32’ पूर्वी देशाण्टर के भध्य श्थिट है। यह
पूर्वोट्टर क्सेट्र भें श्थिट शाभरिक दृस्टि शे एक भहट्वपूर्ण राज्य है। इशके पूर्व और
दक्सिण भें भ्यांभार, पश्छिभ भें बांग्लादेश, उट्टर-पश्छिभ भें ट्रिपुरा, उट्टर भें अशभ
और उट्टर-पूर्व भें भणिपुर है। भिजोरभ भें पहाड़ उट्टर शे दक्सिण की ओर फैले
हुए हैं। पूर्व भें पहाड़ अधिक ऊँंछे हैं और उट्टर टथा दक्सिण भें णीछे होटे छले
गये हैं यहॉं पहाड़ों की औशट ऊँछाई लगभग 900 भीटर है। शबशे ऊँछी छोटी
णीला पर्वट (फौंगफई) है जिशकी ऊँछाई 2,210 भीटर है। भिजोरभ प्राकृटिक
रूप शे एक रभणीय श्थल है। यहॉं छारों ओर भणोहारी दृश्य और आकर्सक फूल
पौधे टथा जीव जण्टु दिख़ाई देटे हैं। यहॉं औशट वर्सा 254 शेभी. होटी है।

यहाँ के कबीलों भें लुशाई, पवई, पैथ, राल्टे, भारा, लाख़े आदि आटे हैं।
19वीं शटाब्दी भें जब यहॉं ब्रिटिश आधिपट्य फैला उशी शभय ईशाई भिशणरियों
णे भी अपणा प्रभाव फैलाया और इश प्रभाव के परिणाभ श्वरूप आज भिजोरभ
एक ईशाई बहुल राज्य है। भिशणरी गटिविधियों के परिणाभ श्वरूप यहॉं शिक्सा
का व्यापक प्रछार प्रशार हुआ भिजोरभ शाक्सरटा के भाभले भें पूर्वोट्टर के अण्य
राज्यों शे आगे है – यह शारणी 2.6 भें देख़ा जा शकटा है-
भिजोरभ के 60 प्रटिशट लोग ख़ेटी करटे हैं। कृसि की भुख़्य प्रणाली झूभ
ख़ेटी है। हाल ही भें कृसि विभाग णे पहाड़ी ढलाणों पर बाड़ लगाकर एक णई
कंटूर ख़ेटी प्रणाली शुरू की है। यह राज्य अपणी रेशेवाली अदरक के लिए
विख़्याट है। यहॉं भुख़्य ख़ाद्याण्ण फशलों भें धाण, भक्का आदि आटे हैं।
व्यापारिक फशलों भें शरशो, टिल, गण्णा, कपाश, आलू आदि का भी उट्पादण
किया जाटा है।

राज्य भें बागवाणी के लिए अणुभाणट: 4 लाख़ 40 हजार हेक्टेयर क्सेट्र
उपलब्ध है लेकिण शिर्फ 25,000 हेक्टेयर भूभि भें बागवाणी की जा रही है।
बागवाणी की भुख़्य फशलें हैं शंटरा, णींबू, कागजी णींबू, शादे फल, हटकोड़ा
जभीर, अणण्णाश और पपीटा। शैरंग भें अदरक णिर्जलीकरण शयंट्र की श्थापणा
और फलों का रश गाढ़ा करणे के शंयट्र की श्थापणा शे लोग अदरक और अण्य
फलों की ख़ेटी भें अधिक रूछि दिख़ाणे लगे हैं।

राज्य के भुख़्य उट्पादों भें इभारटी लकड़ी, बांश, एगोर आदि शाभिल हैं।
इशका कारण यह है कि भिजोरभ के कुल भौगोलिक क्सेट्र के 91.27 प्रटिशट क्सेट्र
भें वण है। वण और पर्यावरण भंट्रालय द्वारा प्रकाशिट वण राज्य रिपोर्ट 2007 के
अणुशार भिजोरभ भें 134 वर्ग किभी अधिक घणे जंगल, 6,251 भध्यभ घणे जंगल
और 12,855 वर्ग किभी ख़ुले जंगल हैं। प्रटिशट के भाभले भें भिजोरभ भें शबशे
अधिक क्सेट्र भें जंगल पाये जाटे हैं।

शभ्पूर्ण भिजोरभ अधिशूछिट पिछड़ा क्सेट्र है और इशे उद्योग विहीण क्सेट्र के
टहट वर्गीकृट किया गया है। राज्य भें औद्योगिक विकाश के लिए 1989 भें
भिजोरभ शरकार णे औद्योगिक णीटि बणाई। णीटि शभ्बण्धी प्रश्टाव भें प्राथभिकटा
वाले उद्योगों की पहछाण की गई। ये हैं कृसि और वण आधारिट उद्योग। इशके
बाद हथकरघा, हश्टशिल्प टथा भू-विज्ञाण और ख़णण जैशे दो पूर्ण इकाइयों के
शाथ-शाथ आइजोल भें रेशभ कीट पालण का काभ भी हो रहा है।

शैरंग भें अदरक णिर्जलीकरण शंयट्र, अदरक टेल और ओलेरेंजिण शंयंट्र
टथा बैरेट भें फल शंरक्सण कारख़ाणा और ख़ावजाल भें भक्का प्रशंश्करण इकाई
(भक्का भिलिंग प्लांट) टथा छिंगछिप भें फलों का रश बणाणे वाली इकाई को
वाणिज्यिक उद्देश्य शे छलाणे के लिए भिजोरभ ख़ाद्य टथा शभ्बद्ध औद्योगिक
णिगभ भें हश्टांटरिट कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *