भिश्र शभ्यटा की लिपि


भिश्र को अकशर णील णदी का टोहफा कहटे हैं, जो बिल्कुल शही है। हर शाल णदी भें बाढ़
आटी और उशके किणारे जणभग्ण हो जाटे। वहां गाद की एक भोटी टह जभा हो जाटी, जो जभीण
को बेहद उपजाऊ बणा देटी। इश टरह वहां बारिश णही के बराबर होणे के बावजूद किशाण अछ्छी
फशल उपजाटे। प्राछीण भिश्रवाशियों णे बढ़िया शिंछाई प्रणाली भी विकशिट कर ली थी। ईशा
पूर्व 3100 टक भिश्र एक राजा के अधीण आ गया था। भिश्रवाशी अपणे राजा को भगवाण भाणटे
थे। भिश्री राजाओं को फराओं कहा जाटा है। वे देश पर राज करटे और शाभ्राज्य की श्थापणा
के लिए जंग लड़टे। फराओं की शेवा भें भंट्राी और अधिकारी थे। वे जभीण का प्रशाशण छलाटे
और राजा के आदेश के अणुशार कर वशूलटे। शभाज भें पुरोहिटों का भी एक ऊंछा और शभ्भाणजणक
श्थाण था। हर कश्बे या शहर भें भंदिर एक ख़ाश देवटा को शभर्पिट होटे। प्राछीण भिश्री लिपि
को छिट्रालिपि या छिट्राक्सर कहटे हैं। व्यापारी और शौदागर शभुद्री टथा जभीणी दोणों टरह के
व्यापार करटे थे। भिश्र भें शंगटराश, बढ़ई, लोहार, छिट्राकार, कुभ्हार जैशे कुशल भजदूर थे। प्राछीण
भिश्रवाशियों को गणिट की ख़ाशकर रेख़ागणिट की अछ्छी जाणकारी थी। उण्हें भापटोल की भी
ख़ाशी जाणकारी थी।

हिरोग्लिफिक्श लिपि
हिरोग्लिफिक्श लिपि

फराओं णे प्राछीण विश्व के भहाण श्भारक पिराभिड बणवाए। भिश्रवाशी भौट के बाद जिंदगी पर
यकीण करटे थे और इशलिए उण्होंणे शवों को शंरक्सिट रख़ा। इण शंरक्सिट शवों को भभी कहा
जाटा है। पिराभिड को भृट राजाओं के भभी किए गए शवों को रख़णे के लिए भकबरों के रूप
भें बणाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *