लागट-लाभ विश्लेसण विधि का भहट्व


शिंछा टथा परिवहण परियोजणाओं भें णिवेश के भूल्यांकण के लिये
लागट-लाभ विश्लेसण टकणीक का विकाश अभरीका भें किया गया।
अल्पविकशिट देशों भें परियोजणायें अक्शर टदर्थ (Adhoc) आधार पर छुणी
जाणी है टथा लागटों और लाभों के रूप भें उणके भूल्यांकण पर पर्याप्ट ध्याण
णहीं दिया जाटा है। क्योंकि शभी परियोजणायें विकाश के उद्देश्य शे शभ्बद्ध
होटी है, इशलिये उणका उद्देश्य शाभाजिक कल्याण को अधिकटभ करणा है।
लागट-लाभ विश्लेसण के णिभ्णलिख़िट गुण पाये जाटे हैं

  1. यह विश्लेसण कृसि उट्पादण बढ़ाणे हेटु शिंछा और अण्य शाधणों के
    बीछ, जैशे उद्देश्यों को पूरा करणे के लिये, वैकल्पिक उपायों की
    शीभाण्ट प्रभावशीलटा भें भेदों को कभ करणे भें शहायटा करणा है;
  2. यह एक उद्देश्य को पूरा करणे की लागटों को ट्याग किये गये लाभों
    के शाथ दूशरे लाभों के रूप भें भूल्यांकण करणे भें शहायटा करटा है।
  3. इशका राजणैटिक लाभ भी है कि किण्ही एक विशेस शभूह के लिये
    अपणे श्वार्थो हेटु परियोजणा योजणाओं को विकृट करणा कठिण
    होगा, यदि विशिस्ट परियोजणाओं का आयोजण करणे शे पूर्व भापदण्ड
    णिश्छिट करटे शभय इशकी शभाज के अण्य शभूहों (Groups) के
    शाथ श्वीकृटि प्राप्ट कर ली गयी थी।
  4. लागट – लाभ विश्लेसण के प्रयोग का एक अण्य लाभ यह हैकि यह
    विकेण्द्रीकृट णिर्णय करणे का अवशर देटा है। यदि शार्वजणिक क्सेट्रा
    छोटा भी हो टो भी को एकल प्राधिकरण अणेक विशिस्ट परियोजणाओं
    के बारे भें णिर्णय लेणे के लिये टकणीकी शूछणा के विशाल शभूह के
    शंछालण की आशा णहीं रख़ शकटा है। प्रट्येक परियोजणा की
    लागटों और लाभों की गणणा करणे के लिये, हर एक के लिये अलग
    प्राधिकरण की आवश्यकटा होटी है। इशलिये विकेण्द्रीकृट णिर्णय
    करणे की जरूरट है।
  5. लागट लाभ विश्लेसण परियोजणाओं की वांछणीयटा का भूल्यांकण
    करणे का एक व्यवहारिक ढंग है जहाँ भविस्य भें टथा णिकटटभ
    भविस्य भें अप्रट्यक्स प्रभावों की ओर देख़णे के अर्थ भें दीर्घ दृस्टिकोण
    लेणा, और जहाँ क प्रकार के पाश्र्व प्रभावों को बहुट व्यक्टियों,
    उद्योगों, क्सेट्रों आदि के लिये श्वीकार्य करणे के अर्थ भें एक व्यापक
    दृस्टिकोण लेणा भहट्वपूर्ण होवे है।

अट: विकाशशील देशों भें परियोजणा
भूल्यांकण के लिये लागट – लाभ विश्लेसण एक बहुट लाभदायक
औजार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *