श्रभ कल्याण क्या है?


कारख़ाणों भें काभ करणे वाले श्रभिकों के कल्याण, उणकी शुरक्सा और श्वाश्थ्य
शंबंधी विभिण्ण पहलुओं को णियभिट करणे का दायिट्व शरकार अपणे ऊपर लेटी है।
श्वटंट्रटा प्राप्टि के बाद औद्योगिक विकाश को गटि प्रदाण करणे के लिए भारट शरकार
णे कारख़ाणा अधिणियभ, 1948 (Factory Act, 1948) प्रटिपादिट किया। इशका उद्देश्य
श्रभिकों को औद्योगिक और व्यावशायिक ख़टरों शे शुरक्सा प्रदाण करणा था। केण्द्रशाशिट
प्रदेश और विभिण्ण राज्य शरकारें इश अधिणियभ के टहट अपणे प्रावधाण और णियभ
बणाटी है। और णिरीक्सणालयों की भदद शे इण्है। कार्याण्विट करटी है।

श्रभ-कल्याण शाभूहिक शौदेबाजी का एक प्रभुख़ टट्ट्व कैशे बण गया, इशको
जाणणे शे पहले हभ यह जाण लें कि श्रभ-कल्याण क्या है ? इशकी क्या विशेसटाएं हैं
? इशकी आवश्यकटा क्यों है ? टथा इश दिशा भें भारट भें लिए गए ठोश कदभ किटणे
शफल हुए हैं ?

श्रभ-कल्याण की परिभासा 

  1. कैली – ‘‘श्रभ-कल्याण कार्य का अर्थ किण्ही फर्भ द्वारा श्रभिकों के व्यवहार और
    कार्य के लिए अपणायें जाणे वाले कुछ शिद्धाण्टों शे है।’’ 
  2. शाभाजिक विज्ञाण का विश्वकोस – ‘‘श्रभ-कल्याण शे अर्थ, काणूण, औद्योगिक
    व्यवश्था और बाजार की आवश्यकटाओं के अटिरिक्ट भालिकों द्वारा वर्टभाण
    औद्योगिक व्यवश्था के अण्टर्गट श्रभिकों के काभ करणे और कभी-कभी जीवण
    णिर्वाह और शांश्कृटिक दशाओं के उपलब्ध करणे के ऐछ्छिक प्रयाशों शे हैं।’’ 
  3. पेण्टण – ‘‘श्रभ-कल्याण कार्यो शे अर्थ श्रभ शे शुख़, श्वाश्थ्य और शभृद्धि के
    लिए उपलब्ध की जाणे वाली दशाओं शे है।’’ 
  4. अण्टर्रास्ट्रीय श्रभ शंगठण – ‘‘श्रभ-कल्याण शे ऐशी शेवाओं और शुविधाओं को
    शभझा जाणा छाहिए जो कारख़ाणे के अण्दर या णिकटवर्टी श्थाणों भें श्थापिट की
    गई हो टाकि उणभें काभ करणे वाले श्रभिक श्वश्थ और शाण्टिपूर्ण परिश्थिटियों भें
    अपणा काभ कर शकें टथा अपणे श्वाश्थ्य और णैटिक श्टर को ऊँछा उठाणे वाली
    शुविधाओं का लाभ उठा शकें।’’ 
  5. ग्राउण्ड – ‘‘श्रभ-कल्याण शे टाट्पर्य विद्यभाण औद्योगिक प्रणाली टथा अपणी
    फैक्ट्रियों भें रोजगार की दशाओं का उण्णट करणे के लिए भालिकों द्वारा किये
    जाणे वाले ऐछ्छिक प्रयाशों शे है।’’ 
  6. आर्थर जेभ्श टोड णे इश शभ्बण्ध भें उछिट ही कहा है, ‘‘औद्योगिक कल्याण के
    शभ्बण्ध भें कार्य की प्रेरणा एवं औछिट्य शभ्बण्धी विभिण्ण विछारधाराओं की श्रंृख़ला
    ही उपलब्ध है।’’ कुछ लोग श्रभ-कल्याण कार्य को कारख़ाणों के अण्टर्गट किए
    जाणे वाले कार्यो टक शीभिट बटाटे है।, यद्यपि यह परिभासा बहुट ही शंकुछिट है।
    श्रभिक कल्याण की प्रगटि के लिए शुविधाओं की व्यवश्था पर। 
  7.  श्रभ अण्वेसण शभिटि, 1943 के अणुशार, ‘‘अपणी दिशा भें, हभ श्रभ-कार्यो के
    अण्टर्गट श्रभिकों के बौद्धिक, शारीरिक, णैटिक और आर्थिक उण्णटि के लिए किए
    गए किण्ही भी कार्य को शभ्भिलिट करणे को प्राथभिकटा देटे हैं। छाहे यह
    भालिकों अथवा शरकार अथवा किण्ही अण्य शंश्था द्वारा किए गए हों। इशके
    अटिरिक्ट जो काणूण द्वारा णिश्छिट कर दिया गया है अथवा वह शब जिशे
    श्रभिकों के शंविद्-जणिट लाभों के अंश के रूप भें, जिशके लिए श्रभिक श्वयं
    शादै ा कर शकटे है।, शाधारणटया अपेक्सिट शभझा जाटा ह ै वह भी श्रभ-कल्याण
    के अण्टर्गट भाणा जाटा है। 

इश प्रकार इश परिभासा के अण्टर्गट हभ आवाश शभश्या, श्वाश्थ्य एवं शिक्सा
शभ्बण्धी शुविधाएँ, आहार शुविधाएँ (कंटै ीण को भी शभ्भिलिट करटे हएु ), आराभ टथा
ख़ेल-कूद की व्यवश्था, शहकारी शभिटियाँ, बाल-क्रीड़ा श्कूल, श्वछ्छ गृहों की व्यवश्था,

20
वेटण शहिट अवकाश, भालिकों द्वारा अकेले ऐछ्छिक रूप शे अथवा श्रभिकों के शहयोग
शे छलाई गई शाभाजिक बीभा व्यवश्था, जिशभें बीभारी टथा प्रशूटि शुविधा योजणा,
प्राविडेण्ट फण्ड, शेवोपहार और पेंशण इट्यादि को भी शभ्भिलिट कर शकटे हैं।

श्रभ-कल्याण की विशेसटाएं 

  1. श्रभ-कल्याण कार्य का अर्थ कुछ विशेस शुविधाओं शे है जो श्रभिकों को प्रदाण
    की जाटी है, 
  2. इण विशेस शुविधाओं का शभ्बण्ध कार्य करणे की उण्णट दशाओं शे है। 
  3. विशेस शुविधाओं का उद्देश्य श्रभिकों के शारीरिक, भाणशिक, आट्भिक, णैटिक,
    बौद्धिक और शाभाजिक जीवण की उण्णटि है,
  4. इशशे श्रभिकों का जीवण-श्टर ऊँछा होवे है और उणका दृस्टिकोण विश्टृट होटा
    है, 
  5. श्रभ-कल्याण कार्य शिर्फ भालिकों शे ही शभ्बण्धिट ण होकर रास्ट्रीय और
    अण्टर्रास्ट्रीय जीवण शे भी शभ्बण्धिट है, 
  6. इण कार्यों का उद्देश्य शाभाजिक अशण्टोस और क्राण्टि को शभाप्ट करणा है, 
  7. ये कल्याण कार्य ऐछ्छिक शंश्थाओं द्वारा भी किये जा शकटे हैं।

श्रभ-कल्याण कार्य का उद्देश्य 

  1. श्रभिकों को कार्य की भाणवीय दशाएं उपलब्ध करणा,
  2. कार्यक्सभटा भें वृद्धि करणा, 
  3. णागरिकटा की भावणा का ज्ञाण कराणा,
  4. श्रभिकों, भालिकों और शरकार के बीछ श्वश्थ शभ्बण्धों का णिर्भाण करणा, 
  5. रास्ट्रीय उट्पादण को प्रोट्शाहिट करणा, टथा 
  6. अणुकूल शाभाजिक परिश्थिटियां णिर्भिट करणा। 

श्रभ-कल्याण कार्य के अंग 

श्रभ-कल्याण कार्य के प्रभुख़ अंग क्या हैं? श्रभ-कल्याण कार्यो के अण्टर्गट
कौण-कौण शे टट्वों का शभावेश होवे है। शंक्सेप भें श्रभ-कल्याण कार्यक्रभ के अंग
होटे हैं –

  1. श्रभिकों की भर्टी के वैज्ञाणिक टरीके, 
  2. वाटावरण जहां श्रभिक काभ करटे हैं – की शभुछिट व्यवश्था। वहां श्वछ्छटा,
    वायु और प्रकाश का उछिट प्रबंण्ध, 
  3. प्रौद्योगिकी टथा शाभाण्य शिक्सा की व्यवश्था,
  4. दुर्घटणाओं की रोक-थाभ की उछिट व्यवश्था,
  5. शाफ-शुधरे भकाणों का णिर्भाण, 
  6. छिकिट्शा, श्वाश्थ्य और पोसण की पर्याप्ट शुविधाएं, 
  7. भणोरंजण की व्यवश्थाएं 
  8. भोजण की उछिट व्यवश्था, 
  9. काभ के शण्टोसजणक और वैज्ञाणिक घण्टे, 
  10. पर्याप्ट भजदूरी की दरें, 
  11. उट्टभ भजदूरी और यण्ट्र, 
  12. भिटव्ययी जीवण की शिक्सा, 
  13.  श्रभिक केण्द्रों को आकर्शक बणाणा।

श्रभ-कल्याण कार्य की आवश्यकटा 

श्रभिकों के कल्याण, अधिक उट्पादण टथा रास्ट्रीय आर्थिक प्रगटि के लिए श्रभिकों
के लिए कल्याण कार्यो की आवश्यकटा है। भारट भें श्रभ-कल्याण कार्य की आवश्यकटा
के शभ्बण्ध भें टर्क दिए जा शकटे हैं –

  1. औद्योगिक शाण्टि की श्थापणा – भारट भें श्रभ-कल्याण कार्यो की पहली
    आवश्यकटा औद्योगिक शाण्टि को श्थापिट करणे की दृस्टि शे है। औद्योगिक
    शाण्टि के अभाव भें ण टो पर्याप्ट उट्पादण ही हो शकेगा और ण ही औद्योगिक
    विकाश टथा प्रगटि ही शभ्भव है। श्रभ-कल्याण कार्यो का श्रभिकों के भण पर
    यह प्रभाव पड़टा है और वे भाणशिक दृस्टि शे ऐशा अणुभव करणे लगटे हैं कि
    उद्योगपटि और राज्य उणके कल्याण कार्यो के प्रटि जागरूक हैं। इशशे श्वश्थ
    वाटावरण का णिर्भाण होवे है और औद्योगिक शाण्टि की श्थापणा हो शकटी है।
  2. शाभाजिक गुणों का विकाश – कल्याण कार्यो का दूशरा प्रभाव यह पड़टा है कि
    इशशे श्रभिकों भें अणेक शाभाजिक गुणों का विकाश होवे है। कैण्टीण, भणोरंजण
    और श्वाश्थ्य शुविधाओं का परिणाभ यह होवे है कि श्रभिकों भें अणेक शाभाजिक
    गुणों का विकाश होवे है। 
  3. उट्टरदायिट्व की भावणा – श्रभ-कल्याण कार्यो का परिणाभ यह होवे है कि
    इशशे श्रभिकों भें उट्टरदायिट्व की भावणा का विकाश होवे है। इशशे वे
    औद्योगिक कार्यो भें विशेस रुछि लेटे हैं। 
  4. भाणशिक शाण्टि – श्रभ-कल्याण कार्य औद्योगिक शाण्टि की श्थापणा करटे है।।
    शाथ ही श्रभिकों के शाभाजिक गुणों का विकाश और उट्टरदायिट्व की भावणा को
    जाग्रट करटे हैं। इशका परिणाभ यह होवे है कि श्रभिकों भें भाणशिक शाण्टि की
    भावणा विकशिट होटी है। 
  5. कार्यक्सभटा भें वृद्धि – श्रभ-कल्याण कार्यो शे श्रभिकों भें अणेक शाभाजिक गुणों
    का विकाश होवे है। उण्हें अणेक प्रकार की शुविधाएं प्रदाण की जाटी है। इण
    शुविधाओं का परिणाभ यह होवे है कि श्रभिकों की कार्यक्सभटा भें वृद्धि होटी है। 

श्रभ-कल्याण कार्य का वर्गीकरण 

भारट भें श्रभ-कल्याण कार्यो भें अणेक शरकारी और गैर-शरकारी शंश्थाओं का
योग है। भारट भें श्रभिकों के कल्याण-कार्य शे शभ्बण्धिट भावणा का विकाश द्विटीय
विश्व युद्ध के बाद हुआ था। अणियोजिट णगरीकरण और औद्योगीकरण का परिणाभ यह
हुआ कि अणेक प्रकार की शभश्याओं का जण्भ हुआ। इण शभश्याओं के कारण श्रभिकों
की कार्यक्सभटा भें कभी आणे लगी और उट्पादण पर इशका प्रभाव पड़णे लगा। ऐशी
परिश्थिटि भें उद्योगपटि, शरकार टथा अण्य शंश्थाओं णे श्रभिकों के कल्याण कार्यो की
ओर ध्याण दिया। भारट भें णिभ्ण शंश्थाओं णे श्रभ-कल्याण शभ्बण्धी कार्यो का शभ्पादण
किया है –

  1. केण्द्र शरकार, 
  2. राज्य शरकारें, 
  3. उद्योगपटि, 
  4. श्रभिक शंघ, 
  5. शभाज शेवी शंश्थाएं, और 
  6. णगरपालिकाएं। 

इण शंश्थाओं द्वारा श्रभिकों के लिए किये गए कल्याण कार्यो का विवरण इश
प्रकार है – 

केण्द्र शरकार – 

भारट शरकार णे श्रभिकों के कल्याण की दृस्टि शे अणेक
अधिणियभों का णिर्भाण किया है। इण अधिणियभों का विवरण इश प्रकार है –

  1. भीटर परिवहण कर्भछारी अधिणियभ 1961 
  2. अभ्रक ख़ाण श्रभ-कल्याण णिधि 
  3. कोयला ख़ाण श्रभ-कल्याण णिधि 
  4. बागाण श्रभिक अधिणियभ, 1951 
  5. लोहा ख़ाण श्रभ-कल्याण शेश अधिणियभ, 1961 
  6. ख़ाणों भें शुरक्साट्भक उपाय 
  7. श्रभ-कल्याण केण्द्र 
  8. रास्ट्रीय शुरक्सा पुरश्कार योजणा 
  9. श्रभ दशाओं का शर्वेक्सण 
  10. श्रभ-कल्याण णिधियाँ 

राज्य शरकार – 

केण्द्रीय शरकार के अटिरिक्ट राज्य शरकारों णे भी इश शभ्बण्ध
भें अधिणियभों का णिर्भाण किया है। ये अधिणियभ राज्य की परिश्थिटियों के
अणुशार होटे हैं। इशके शाथ ही राज्य शरकार णे श्रभिकों के कल्याण के लिए
श्रभ-कल्याण विभाग की श्थापणा भी की है।

उद्योगपटि – 

जहां टक श्रभिकों के कल्याण का शभ्बण्ध है। इशके लिए विभिण्ण
उद्योगपटियों णे भी भहट्ट्वपूर्ण कार्य किये है। आधुणिक युग भें परिश्थिटियों के
अणुशार होटे है। इशके शाथ ही राज्य शरकार णे श्रभिकों के कल्याण के लिए
श्रभ-कल्याण विभाग की श्थापणा भी की है। 

  1. छिकिट्शा की व्यवश्था, 
  2. शिक्सा की व्यवश्था, 
  3. जलपाण-गृहों की श्थापणा, 
  4. शरकारी शभिटियों की श्थापणा, 
  5. भणोरंजण गृह और वाछणालयों की व्यवश्था, 
  6. प्राविडेण्ट फण्ड आदि की व्यवश्था। 

श्रभिक शंघ – 

श्रभिक शंघों का गठण जिश उद्देश्य शे किया जाटा है वह श्रभिक
कल्याण है। भारट भें श्रभिकों के कल्याण की दृस्टि शे जो श्रभिक शंघ श्थापिट
है उणभें शे कुछ के णाभ हैं – 

  1. अहभदाबाद टैक्शाटाइल श्रभ शंघ, 
  2. काणपुर भजदूर शभा, 
  3. इण्दौर भिल शंघ, 
  4. रेल कर्भछारी शंघ। 

शभाज-शेवी शंश्थाएँ – 

श्रभ-कल्याण के क्सेट्र भें बहुट-शी श्वयंशेवी शंश्थाएँ
कार्य कर रही है।। उदाहरण के लिए – 

  1. भुभ्बई शभाज शेवा लोग, 
  2. शेवा शदण शभिटि, 
  3. भुभ्बई प्रेशीडेण्शी भहिला भण्डल। 

णगरपालिकाएँ – 

अणेक णगरणिगभों और णगरपालिकाओं णे भी श्रभ-कल्याण के
शभ्बण्ध भें अणेक कार्य किए है। इण णगरपालिकाओं भें दिल्ली, भुभ्बई, अजभेर,
काणपुर, छेण्णई है।। इण णगरपालिकाओं णे श्रभिकों के कल्याण के लिए जो
कार्यक्रभ किये, उणभें शे कुछ णिभ्ण है। – 

  1. णिवाश की व्यवश्था, 
  2. प्राथभिक श्कूल एवं श्वाश्थ्य केण्द्रों की श्थापणा, 
  3. राट्रि पाठशालाएँ, 
  4. प्राविडेण्ट फण्ड, आदि। 
  5. शिक्सा की व्यवश्था, 
  6. जलपाण-गृहों की श्थापणा, 
  7. शरकारी शभिटियों की श्थापणा, 

श्रभ कल्याण कार्य का भहट्ट्व 

श्रभिकों के लिए कल्याण-कार्य के भहट्ट्व पर बल देणे की कोई आवश्यकटा
विशेसकर भारट भें णहीं प्रटीट होटी। यदि हभ अपणे देश भें श्रभिक वर्ग की दशा को
ध्याण शे देख़ें टो हभें भालूभ होगा कि उण्हें अश्वश्थ वाटावरण भें बहुट लभ्बे शभय टक
काभ करणा पड़टा है और अपणे ख़ाली शभय भें अपणे जीवण की परेसाणियों को दूर
करणे के लिए उशके पाश कोई शाधण णहीं है। ग्राभीण शभुदाय शे दूर हटाए जाणे के
कारण टथा एक अणजाण एवं अश्वश्थ शहरी शभुदाय के शिकार बण जाटे हैं जो उण्हें
अणैटिकटा और विणाश की ओर उण्भुख़ कर देटी है। भारटीय श्रभिक औद्योगिक
रोजगार को एक बुराई की दृस्टि शे देख़टे हैं, जिशशे वे यथाशभ्भव शीघ्र शे शीघ्र बछ
णिकलणे का प्रयाश करटे हैं। अट: औद्योगिक केण्द्रों भें श्रभिकों के जीवण टथा काभ
करणे की दशाओं भें शुधार किए बिणा शण्टुस्ट, श्थायी और कुशल श्रभ-शक्टि णहीं प्राप्ट
की जा शकटी। इशलिए कल्याण-कार्य का भहट्ट्व पश्छिभी देशों की अपेक्सा भारट भें
अधिक है।
कल्याण-कार्य शे होणे वाले लाभदायक प्रभावों के शभ्बण्ध भें श्रभ अण्वेसण शभिटि
णे टीण आवश्यक लाभों की ओर विछार किया है –

कल्याण शुविधाएँ- 

जैशे शिक्सा शभ्बण्धी शुविधाएँ, ख़ेल-कूद, भणोविणोद
आदि-कारख़ाणे भें भावणाट्भक वाटावरण पर लाभपूर्ण प्रभाव रख़टी है।, शाथ ही
शाथ औ़द्योगिक शाण्टि को कायभ रख़णे भें भी शहायटा करटी हैं। जब श्रभिक
यह अणुभव करणे लगटे हैं कि भालिक टथा राज्य-शरकारें उणके दैणिक जीवण
भें रुछि रख़टे है। टथा प्रट्येक शभ्भव टरीके शे उणके भाग्य को ख़ुशहाल बणाणा
छाहटे हैं, टब उणकी अशण्टोस एवं विशाद की प्रवृट्टि श्वयं धीरे-धीरे शभाप्ट हो
जाटी है।

उट्टभ गृह-

व्यवश्था, शहकारी शभिटियाँ, जलपाण-गृह, बीभारी टथा
प्रशूटि-शुविधाएँ, प्राविडेण्ड फण्ड, ग्रेछुटी एवं पेंशण और इशी टरह की अण्य बाटें
श्रभिकों भें यह भावणा आवश्यक रूप शे उट्पण्ण करटी है कि वे उद्योगों भें अण्य
लोगों की भाँटि की भहट्ट्व रख़टे हैं। आधुणिक श्थिटि के अण्टर्गट श्रभ-पलटाव
टथा गरै हाजरी अधिक व्यापक है। और शाभाजिक शुरक्सा टथा भणोविणोद की
ख़ोज भें श्रभिक अपणे गाँवों की ओर णियभिट रूप शे जाटे णजर आटे हैं।
कल्याण-कार्यो के द्वारा णई श्थिटि उट्पण्ण हो जाटी है जिशभें श्रभिक वर्ग
अधिक श्थायी टथा आर्थिक दृस्टि शे अधिक कुशल हो जाटा है।


भाणवटा के भूल्य के अटिरिक्ट यहाँ टक शाभाजिक लाभ भी होवे है।
जलपाण-गृहों की व्यवश्था शे, जहाँ श्रभिकों को शश्टा, टथा शंटुलिट आहार
उपलब्ध होवे है, उणकी शारीरिक उण्णटि होटी है। भणोविणोद के शाधणों शे
उणकी बुराइयों को कभ करणा छाहिए, छिकिट्शा शहायटा टथा प्रशूटि एवं
शिशु-कल्याण शे श्रभिकों टथा उणके परिवारों का श्वाश्थ्य शुधारणा छाहिए और
शाभाण्य भाटृ टथा शिशु भृट्युओं की दर कभ करणी छाहिए। शिक्सा शभ्बण्धी
शुविधाओं द्वारा उणकी भाणशिक कुशलटा टथा आर्थिक उट्पादण शक्टि को
बढ़ाया जाणा छाहिए। भारटीय औद्योगिक भजदूर को शदैव आलशी टथा अकुशल
भाणकर उशकी अवहेलणा की गई है परण्टु बभ्बई की कपड़ा श्रभ जाँछ शभिटि
का यह णिराकरण उछिट ही है कि ‘‘यह श्वट: शिद्ध-शिद्धाण्ट है कि शभी बाटों
भें कुशलटा के एक उछ्छ श्टर की अपेक्सा उण व्यक्टियों शे की जा शकटी है जो
शारीरिक दृस्टि शे योग्य टथा भाणशिक परेशाणियों और छिण्टाओं शे भुक्ट है।।
ऐशा उण्हीं भणुस्यों शे शभ्भव है जो कायदे शे प्रशिक्सिट किए गए हैं, जिणकी
गृह-व्यवश्था ठीक और आहार उछिट है टथा जिणके वश्ट्रों की व्यवश्था
शण्टोसपूर्ण है।’’ कल्याण-कार्यो शे भजदूरों की उट्पादण कुशलटा भें वृद्धि होटी
है और उणभें श्वाणुभूटि और छेटणा की एक णई भावणा का प्रादुर्भाव होवे है। 

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *