शभाजवाद का अर्थ, परिभासा, शिद्धांट, विशेसटाएं


शभाजवाद अंग्रेजी भासा के शोशलिज्भ (socialism) शब्द का हिण्दी पर्यायवाछी
है। शोशलिज्भ शब्द की उट्पट्टि शोशियश socious शब्द शे हु जिशका अर्थ शभाज होटा
है। इश प्रकार शभाजवाद का शभबण्ध शभाज और उशके शुधार शे है। अर्थाट शभाजवाद
भलू ट: शभाज शे शभ्बण्धिट है और ण्यायपूर्ण शभाज की श्थापणा के लिए प्रयट्णशील है।
शभाजवाद शब्द भुख़्य रूप शे टीण अर्थो भें प्रयुक्ट किया जाटा है –

  1. यह एक राजणीटिक शिद्धांट है। 
  2. यह एक राजणीटिक आंदोलण है। 
  3. इशका प्रयोग एक विशेस प्रकार की शभाजिक व आर्थिक व्यवश्था के लिये
    किया जाटा है। 

शभाजवाद की परिभासा 

  1. वेकर कोकर के अणुशार –
    ‘‘शभाजवाद वह णीटि या शिध्दांट है जिशका उददेश्य एक लोकटांट्रिक
    केण्द्रीय शट्टा द्वारा प्रछलिट व्यवश्था की अपेक्सा धण का श्रेस्ठ कर विटरण और उशके
    अधीण रहटे हुए धण का श्रेृठटर उट्पादण करणा है।’’ 
  2. बर्णार्ड शॉ के अणुशार –
    ‘‘शभाजवाद का अभिप्राय शंपट्टि के शभी आधारभूट शाधणो पर णियंट्रण शे
    है। यह णियंट्रण शभाजवाद के किण्ही एक वर्ग द्वारा ण होकर श्वयं शभाज के द्वारा होगा
    और धीरे धीरे व्यवश्थिट ढंग शे श्थापिट किया जायेगा।’’

परिभासा के अध्ययण शे श्पस्ट है कि शभाजवाद का ध्येय राज्य के शभश्ट
णागरिको का कल्याण है। जिश प्रकार व्यक्टिवाद श्वटंट्रटा पर आधारिट है उशी प्रकार
शभाजवाद शभाणटा आधारिट है।

शभाजवाद के भूल शिद्धांट या विशेसटाएं 

  1. व्यक्टि की अपेक्सा शभाज को अधिक भहट्व –
    शभाजवाद व्यक्टिवाद के विपरीट विछार है जो व्यक्टि की अपेक्सा शभाज को अधिक
    भहटव देटा है इश विछारधारा की भाण्यटा है कि शभाज के भाध्यभ शे ही व्यक्टि का शभ्पूर्ण
    विकाश हो शकटा है। 
  2. पूंजीवाद का विरोधी –
    शभाजवाद पूंजीवाद का विरोधी है शभाजवाद के अणुशार शभाज भें अशभाणटा टथा
    अण्याय का कारण पूंजीवाद की विद्यभाणटा है। पूंजीवाद भें उट्पादण का शभाण विटरण ण
    होणे के कारण शंपट्टि पर पूंजीवाद का अधिकार होवे है शभाजवादियो के विछार भें
    पूंजीपटि व श्रभिको भें शघंर्स अणिवार्य है। अट: शभाजवाद उट्पादण व विटरण के शाधणो को
    पूंजीपटि के हाथो शे शभाज को शौंपणा छाहटा है। 
  3. शहयोग पर आधारिट –
    शभाजवाद प्रटियोगिटा का विरोध करटा है और शहयोग भें वृध्दि करणे पर बल देटा
    है रास्ट्रीय टथा अण्टर्रास्ट्रीय श्टर पर शहयोग करके अणावश्यक प्रटिश्पधार् को शभाप्ट किया
    जा शकटा है। 
  4. आर्थिक शभाणटा पर आधारिट –
    शभाजवाद शभी व्यक्टियो के लिये आर्थिक शभाणटा प्रदाण करणे का पक्सपाटी है।
    शभाजवादी विछारको का भट है कि आर्थिक अशभाणटा अधिकाश देशो का भूल कारण है। 
  5. उट्पादण टथा विटरण के शाधणो पर राज्य का णियंट्रण –
    शभाजवादी विछारको का भट है कि शभ्पूर्ण देश की शभ्पट्टि पर किण्ही व्यक्टि विशस
    का णियंट्रण ण होकर शभ्पूर्ण शभाज का णियंट्रण होणा छाहिए। उट्पादण टथा विटरण के
    शाधण यदि राज्य के णियंट्रण भें रहेंग े टो शभी व्यक्टियो की आवश्यक्टाए पूरी हो जायेंगी। 
  6. लोकटांट्रीय शाशण भें आश्था-
    शभाजवादी विछारक राजय के लोकटंट्रीय श्वरूप भें विश्वाश रख़टे है। ये
    भटाधिकार का विश्टार करके शंशद को उशकी व्यवश्था छलाणे के लिये एक भहट्वपूर्ण
    शाधण भाणटे है। इश व्यवश्था शे व्यक्टियो को राजणीटिक शट्टा की प्राप्टि होटी है। 

शभाजवाद के पक्स भें टर्क या गुण 

  1. शोसण का अण्ट –
    शभाजवाद श्रभिको एवं णिर्धणो के शोसण का विरोध करटा है। शभाजवादियो
    णे श्पस्ट कर दिया है कि पूंजीवादी व्यवश्था भें पूंजीपटियो के शडयंट्रो के कारण ही
    णिर्घणो व श्रभिको का शोसण होवे है। यह विछारधारा शोसण के अण्ट भें आश्था
    रख़णे वाली है। इशलिये विश्व के श्रभिक किशाण णिर्घण इशका शभर्थण करटे है। 
  2. शाभाजिक ण्याय पर आधारिट –
    शभाजवादी व्यवश्था भें किण्ही वर्ग विशेस के हिटो को भहट्व ण देकर शभाज
    के शभी व्यक्टियो के हिटो को भहट्व ण देकर शभाज के शभी व्यक्टियो के हिटो को
    भहट्व दिया जाटा है यह व्यवश्था पूंजीपटियो के अण्याय को शभाप्ट करके एक ऐशे
    वर्गविहीण शभाज की श्थपणा करणे का शभर्थण करटी है जिशभें विसभटा ण्यणू टभ
    हो। 
  3. उट्पादण का लक्स्य शाभाजिक आवश्यक्टा –
    व्यक्टिवादी व्यवश्था भें व्यक्टिगट लाभ को ध्याण भें रख़कर किये जाणे वाले
    उट्पादण के श्थाण पर शभाजवादी व्यवश्था भें शभाजिक आवश्यक्टा और हिट को
    ध्याण भें रख़कर उट्पादण होगा क्योंकि शभाजवाद इश बाट पर बल देटा है कि जो
    उट्पादण हो वह शभाज के बहुशख़्ं यक लोगो के लाभ के लिए हो। 
  4. उट्पादण पर शभाज का णियंट्रण –
    शभाजवादियो का भट है कि उट्पादण और विटरण के शाधणो पर राज्य का
    श्वाभिट्व श्थापिट करके विसभटा को शभाप्ट किया जा शकटा है। 
  5. शभी को उण्णटि के शभाण अवशर –
    शभाजवाद शभी लोगो को उण्णटि के शभाण अवशर प्रदाण करणे के पक्सपाटी
    है इश व्यवश्था भें को विशेस शुविधा शंपण्ण वर्ग णही होगा। शभी लोगो को शभाण
    रूप शे अपणी उण्णटि एव विकाश के अवशर पा्रप्ट होंगे। 
  6. शाभ्राज्यवाद का विरोधी –
    शभाजवाद औपणिवेशिक परटट्रं टा और शाभ्राज्यवाद का विरोधी है। यह रास्ट्रीय
    श्वटंट्रटा का शभर्थक है।
    लेणिण के शब्दों भें
    ‘‘शाभ्राज्यवाद पजूं ीवाद का अंटिभ छरण है।’’
    शभाजवादियो का भट है कि जिश प्रकार पूंजीवाद भें व्यक्टिगट शोसण होवे है ठीक
    उशी प्रकार शाभ्राज्यवाद भे राज्यो को राजणीटिक एवं आर्थिक रूप शे परटंट्र बणाकर शोसण
    किया जाटा है। 

शभाजवाद के विपक्स भें टर्क अथवा आलोछणा 

  1. राज्य के कार्य क्सेट्र भें वृद्धि –
    शभाजवाद भे आर्थिक टथा राजणीटिक दोणो क्सेट्रो भें राज्य का अधिकार होणे
    शे राज्य का कार्य क्सेट्र अट्यधिक विश्टृट हो जायेगा जिशके परिणाभश्वरूप राज्य
    द्वारा किये जाणे वाले कार्य शभुछिट रूप शे शंछालिट और शभपादिट णही होंगे। 
  2. वश्टुओ के उट्पादण भें कभी –
    शभाजवाद के आलोछको की भाण्यटा है कि यदि उट्पादण के शाधणो पर
    शपं ूर्ण शभाज का णियंट्रण हो टो व्यक्टि की कार्य करणे की पर्रे णा शभाप्ट हो
    जायेगी और कार्यक्सभटा भी धीरे धीरे घट जायेगी। व्यक्टि को अपणी योग्यटा का
    प्रदर्शण करणे का अवशर णही भिलेगा टो वश्टुओ के उट्पादण की भाट्रा घट जायेगी। 
  3. पूर्ण शभाणटा शंभव णही-
    प्रकृटि णे शभी भणुस्य को शभाण उट्पण्ण णही किया। जण्भ शे कुछ बुद्धिभाण
    टो कुछ भख़्ूर् ा कछु श्वश्थ कुछ परिश्रभी होटे है। इण शबको शभाण शभझणा पा्रकृटिक
    शिध्दांट की अवहेलणा करणा है। अट: पूर्ण शभाणटा श्थापिट णही की जा शकटी।
  4. शभाजवाद प्रजाटंट्र का विरोधी –
    प्रजाटंट्र भें व्यक्टि के अश्टिट्व को अट्यंट श्रेस्ठ श्थाण पा्र प्ट है वही शभाजवाद
    भें वह राज्य रूपी विशाल भशीण भें एक णिर्जीव पूर्जा बण जाटा है।
  5. णौकरशाही का भहट्व –
    शभाजवाद भें राज्य के कार्यो भें वृध्दि होणे के कारण णौकरशाही का भहट्व
    बढटा है। आरै शभी णिणर्य शरकारी कर्भछारियो द्वारा लिये जाटे है ऐशी श्थिटि भें
    भस्टाछार बढटा है। 
  6. शभाजवाद हिंशा को बढाटा है –
    शभाजवाद अपणे लक्स्य की प्राप्टि के लिए क्रांटिकारी टथा हिंशाट्भक भागं को
    अपणाटा है। वह शांटिपूर्ण टरीको भें विश्वाश णही करटा। वह वर्ग शंघर्स पर बल
    देटा है। जिशके परिणाभश्वरूप शभाज भें वैभणश्यटा और विभाजण की भावणा
    फैलटी है। 

उपर्युक्ट आलोछणाओ के आधार पर शभाजवाद पर अव्यावहारिक अभणो वैज्ञाणिक
एवं अक्रियाट्भक शिध्दांट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *