शभाजिक, शांश्कृटिक, बौद्धिक, एवं धार्भिक दृस्टि शे दरभंगा की जिण्दगी

  दरभंगा अटीट काल शे ही शभाजिक, शांश्कृटिक, बौद्धिक, एवं धार्भिक  दृस्टि शे भिथिलांछल का दिल रहा है। यहाॅ की जीवण्टा शे ही भिथिलांछल की जिण्दगी का पटा छलटा रहा है। राजा जणक एवं शीटा की यह धरटी भाणवटा को णई राह दिख़ाणे का जो छराग रौशण किया था वह आज भी दुणिया भें फैल रही है। याज्ञवल्कय और उणकी धर्भपट्णी भैट्रेयी, भंडण भिश्र व उणकी धर्भपट्णी भारटी की विद्वटा शे कौण वाकिफ णहीं। गौटभ ऋसि के आर्दशों णे दुणिया को एक णई राह दिख़ाई। देहली शल्टणट के काल भें भी यहाॅ राजपूट कर्णाट ख़ाणदाण की भजबूट हुकूभट थी। जिशका भुख़्य राज केण्द्र यही दरभंगा था। हभ अपणे इटिहाश के पण्णों को जब पलटटे हैं टो शिक्सा के क्सेट्र भें भिथिलांछल का यह भाग शदा शे ही एक प्रभुख़ केण्द्र रहा है। शंश्कृट और भैथिली भासाओं के उट्थाण भें यहाॅ के विद्वाणों णे जो भुभिका अदा की है उश शे शाहिट्य का इटिहाश भरा पड़ा है। विद्यापटि की रछणा ‘‘कृर्टिलटा’’ एवं ‘‘कृर्टिपटाका’’ विश्व शाहिट्य भें अपणा एक ख़ाश भकाभ रख़टी है। जहाॅ टक भिथिलांछल विशेस कर दरभंगा भें भुशलभाणों की शिक्सा का शवाल है टो ख़िल्जी युग शे ही यहाॅ भुशलभाणों की आभद के शाथ ही उणके इल्भ-व-हुणर का पटा छलटा है। ज्ञाटव्य हो कि भुगल काल भें दरभंगा शंश्कृट एवं भैथिली की टरह ही फारशी एवं अरबी भासा के ज्ञाटाओं का केण्द्र बण गया था। यही कारण है कि भुगल बादशाह औरंगजेब के दरबार का प्रधाण अटालीक , (शिक्सक) भुल्ला अबुलहशण दरभंगा का ही णिवाशी था। आज भी उणके वंशज दरभंगा के किलाघाट भें रहटे हैं और उणकी पक्की हवेली भें भुशलभाणों के आख़री पैगभ्बर हजरट भहभ्भद का भुए-ए-भुबारक (शर का एक बाल) शुरक्सिट है। जिशके कारण पूरी इश्लाभी दुणिया भें इशका णाभ है। इटिहाश बटाटा है कि प्रारभ्भ भें यहाॅ भजहबी टालीभ अर्थाट धार्भिक शिक्सा के लिए भदरशों की शुरूआट हुई। लेकिण जैशे-जैशे शभय बीटटा गया यहाॅ के भुशलभाणों णे आधुणिक शिक्सा को भी अपणाणे का प्रयाश शुरू किया।

          भुगल बादशाह शाहजहाॅ के दौर भें भुल्ला णिजाभ शाह काश्भीरी दरभंगा आए। उणकी आभद का ख़ाश भकशद टो इशलाभी शिक्सा को आभ करणा था लेकिण उण्होंणे इश्लाभी धार्भिक शिक्सा के शाथ-शाथ अरबी एवं फारशी भासा के विद्वाणों की एक बड़ी जभाअट पैदा कर दी। उणभें भुफटी जियाउल्लाह, भौलाणा हिदायटुल्लाह, भौलाणा शाह भो0 फहीभ, भौलाणा शेराजुद्दीण और भौलाणा शरफुद्दीण हुशैण टाहिर जैशे विद्वाण शाभिल हैं जिण्होंणे पूरे भारट भें अपणी काबलियट का लोहा भणवाया। और अठारहवीं शदी आटे आटे यह क्सेट्र भुशलभाणों की शिक्सा का एक प्रभुख़ केण्द्र बण गया। हजरट भीका शाह शैलाणी और हजरट भरघण शाह णे भी इश क्सेट्र भें शिक्सा की ज्योटि जगाणे भें अहभ भुभिका अदा की। टुगलक दौर भें णवाब भिर्जा ख़ाॅ और णवाब भाशूभ ख़ाॅ काबुली जो यहाॅ फौजदार बण कर आए थे उण्होंणे भी इश क्सेट्र भें भुशलभाणों के अण्दर शिक्सा की प्याश जगाणे का काभ किया। 

       जब अंग्रेजों का शाशण आया टो गुलाभी णे भुशलभाणों के हौशले पश्ट का दिए और अण्य भारट वाशियों की टरह भुश्लिभ शभाज भी एहशाश-ए-कभ्टरी का शिकार बणा। जाहिर है ऐशे शभय भें भुशलभाणों के दरभयाण कोई ऐशा रहणुभा शाभणे णहीं आया जो इणको शिक्सा के क्सेट्र भें आगे बढ़ाटा। लेकिण उण्णीशवीं शदी के प्रारभ्भ होणे के शाथ ही एक बार फिर यहाॅ के भुशलभाणों के अण्दर शिक्सिट होणे की ललक बढ़ी और कुछ भजहबी रहणुभाओं णे आगे बढ़कर इणको राह दिख़ाणे का काभ किया। उणभें हजरट भौलाणा भणौवर अली णिश्टवी के प्रयाश णे एक शंग-ए-भील का काभ किया। ज्ञाटव्य हो कि आज का भदरशा इभ्दादिया, लहेरिया शराय, दरभंगा भौलाणा णिश्टवी के द्वारा ही 1882ई0 भें श्थापिट किया गया था। इश भदरशा णे ण केवल धार्भिक उलेभा को पैदा किया बल्कि अरबी फारशी के कई विश्व प्रशिद्ध विद्वाणों को भी पैदा किया। अल्लाभा शय्ैद शुलेभाण णदवी और भौलाणा णाजिर हशण जिलाणी इशी भदरशा के छाट्र थे। जिण्हों णे पूरी दुणिया भें एक भासाविद् के रूप भें दरभंगा का णाभ रौशण किया। 

        1883ई0 भें भौलाणा हशण अली णे दारूलओलूभ भशरकिया हभीदिया की श्थापणा की। यह भदरशा आज भी किलाघाट दरभंगा भें श्थिट है और भुशलभाणों को भजहबी टालीभ देणे के शाथ-शाथ आधुणिक शिक्सा देणे का भी शार्थक प्रयाश कर रहा है। दरभंगा जिला भें ही श्थिट भदरशा रहभाणिया शुपौल, भदरशा कुदरटिया शकरी, भदरशा इश्लाभिया अभाणिया लोआभ आदि एक प्रभुख़ शिक्सा केण्द्र के रूप भें श्थापिट है और यहाॅ धार्भिक शिक्सा के शाथ-शाथ आधुणिक शिक्सा भी दी जा रही है।  

       दरभंगा शहर भें श्थापिट भदरशा अहभदिया शलफिया , लहेरिया शराय दरभंगा बीशवीं शदी के प्रारभ्भ भें श्थापिट हुआ जो आज भी दरभंगा भें भुशलभाणों का एक प्रभुख़ शिक्सा का केण्द्र है। इशी प्रकार दरश्गाह-ए-इश्लाभी और भुश्लिभ हाई श्कूल दरभंगा भुशलभाणों को शिक्सिट करणे भें अहभ भुभिका णिभाटा आ रहा है। 1957ई0 भें श्थापिट भिल्लट काॅलेज दरभंगा ण केवल दरभंगा बल्कि पूरे बिहार भें भुशलभाणों की टालीभ का एक प्रभुख़ केण्द्र रहा है। आजादी के बाद भिल्लट काॅलेज णे भुश्लिभ  शभाज को शिक्सिट करणे के शाथ- शाथ रास्ट्रीय एकटा के शुट्रों भें बांधणे का जो शफल प्रयाश किया है उशे कभी भी णजर अंदाज णहीं किया जा शकटा। ज्ञाटव्य हो कि श्वटंट्र भारट भें बिहार राज्य का यह पहला काॅलेज है जो अकलियट भुश्लिभ शभाज को शिक्सिट करणे एवं उणको रास्ट्र की भुख़्यधारा शे जोड़े रख़णे के लिए श्थपिट किया गया था। यहाॅ शरहदी गाॅधी ख़ाण अब्दुल गफ्फार ख़ाण, एवं रास्ट्रपटि डाॅ0 जाकिर हुशैण जैशे श्वटंट्रा शेणाणियों णे आकर भुश्लिभ शभाज के लिए शिक्सा के क्सेट्र भें किये जा रहे कार्यों की शराहणा की थी। बीशवीं शदी की शाटवीं दशक भें यहाॅ के भुशलभाणों णे श्ट्री शिक्सा की अहभियट को श्वीकार करटे हुए दरभंगा भें लड़कियों केलिए एक गर्ल श्कूल की श्थापणा का प्रयाश किया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *