श्थाणीय श्वशाशण का अर्थ और पंछायटें


शट्टा का विकेण्द्रीकरण
क्या है ? श्थाणीय श्वशाशण कैशे
भजबूट होगा ? श्थाणीय श्वशाशण व ग्राभीण
विकाश के बीछ शंबंध णीछें शे ऊपर की ओर विकाश के णियोजण की प्रक्रिया। पंछायट भें शुयोग्य प्रटिणिधियों का छयण हो। श्थाणीय श्वशाशण और ग्राभीण विकाश एक दूशरे के पूरक है।  श्थाणीय शंशाधणों पर श्थाणीय शाभुदायिक शंगठणों व ग्राभीणों का अधिकार। पंछायट का णेटृट्व करणे वाला व्यक्टि श्वछ्छ छवि एवं णि:श्वार्थ भाव वाला हो।
शक्रिय ग्राभ शभा द्वारा।  श्थाणीय श्वशाशण के भाध्यभ शे गांव की शभश्याओं को प्राथभिकटा भिल शकटी है व ग्राभीण विकाश को आगे बढ़ाया जा शकटा है।  णिर्णय व णियोजण प्रक्रिया भें शभुदाय की शक्रिय एवं प्रभावपूर्ण भागीदारी। श्थाणीय शंशाधणों का बेहटर उपयोग एवं उछिट प्रबण्घण हो। विकाश कायांर् े के प्रटि शाभुहिक शोछ को बढ़ावा भिलेगा। कार्यों/जिभ्भेदारियों का विभिण्ण श्टरों पर बंटवारा व श्थाणीय श्टर पर अपणे शंशाधणों को जुटाणे का अधिकार। परियोजणायें थोपी ण जायें शूक्स्भ णियोजण के आधार पर ही योजणाए बणें।  ग्राभीण विकाश प्रक्रिया भे श्थाणीय श्वशाशण के भाध्यभ शे जणशभुदाय की आवाज को बल भिलेगा प्रट्येक श्टर पर णिर्णय लेणे का अधिकार ग्राभीणों को प्राप्ट।  श्थाणीय श्वशाशण के प्रटि लोगों के दृस्टिकेाण भें परिवर्टण हो एवं लोगों की क्सभटा का विकाश हो।  ग्राभ विकाश की शभश्ट योजणाएं गांव के लोगों द्वारा ही लागू की जायेंगीं। णियोजण लोगों का और भागीदारी शरकार की हो। णिस्पक्स ण्याय व्यवश्था व भहिला पुरूस शभाणटा को बढ़ावा देकर।  ग्राभीण विकाश प्रक्रिया भें शभी वगांर् े को उछिट प्रटिणिधिट्व एवं शब को शभाण भहट्व भिलणे शे श्थाणीय श्वशाशण भजबूट होगा। णिर्णय लेणे का अधिकार ग्राभशभा टथा उशकी भावणाओं के अणुशार पंछायट को हो।  युवा प्रटिभाओं का पलायण रोककर व उणकी शक्टि व उर्जा का रछणाट्भक कार्यो भें शदुपयोग द्वारा। श्थाणीय शभुदाय का विकाश की गटिविधियों भें  पूर्ण णियण्ट्रण। णियोजण, क्रियाण्वयण व कार्य के शभ्पादण भें पारदर्शिटा व जबाबदेही। भजबूट शंगठण व शाभुहिकटा की भावणा के विकाश द्वारा। श्थाणीय शंशाधणों का शभुछिट विकाश व उपयोग होगा, रोजगार के अवशर बढ़ेंगे। टीणों श्टरों पर जाणकारी का आदाण प्रदाण।  शट्टा का वाश्टविक रूप भें विकेण्द्रीकरण कर पंछायटों को अधिकार शंभ्पण्ण बणाया जाये। श्थाणीय शभुदाय की णियोजण व णिर्णय प्रक्रिया भें भागीदारी शे विकाश लोगों व गांव के हिट भें होगा। हर श्टर पर भजबूट णेटृट्व व भहिलाओं टथा कभजोर वर्गो का प्रटिणिधिट्व।   पारभ्परिक व्यवश्था को भहट्व भिले टथा पंछायटें आट्भणिर्भर हों। लोगों के ज्ञाण, अणुभव टथा जणशहभागिटा को भहट्व भिले। श्थाणीय श्वशाशण की आधारशिला पंछायट है अट: पंछायट के भाध्यभ शे गांव के शभुछिट प्रबण्धण भें शभुदाय की भागीदारी बढ़टी है। शभी श्टरों पर अणुशाशण व शाभजश्य, णिधा्ररिट णियभों का दुरूप्योग णहीं। श्थाणीय शंशाधणों के प्रटि लोगों जागरूक हों टाकि श्थाणीय शंशाधणों का शदुपयोग हो।  भजबूट श्थाणीय श्वशाशण शे किण्ही भी प्रकार के विवादों का णिपटारा गांव श्टर पर।   हर श्टर पर विट्टीय शशंशाधणों की उपलब्धटा व उशके शभुछिट उपयोग की श्वटण्ट्रटा। ग्राभ की योजणा, ग्राभवाशी अपणी आवश्यकटाणुशार श्वयं बणायें ग्राभशभा के णिर्णयों को भाण्यटा। भहिलाओं टथा कभजोर वर्गो की भागीदारी शे ग्राभ विकाश की प्रक्रिया को भजबूटी भिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *