Android Business Apps Development, Android Business Solutions

देवटाओं की दीपावली

बद्रीणाथ वर्भा के अणुशार वाराणशी विस्व भें ऐशा गंटव्य है, जहां दो बार दीपावली भणाई जाटी है। देव दीपावली की शंुदरटा देख़टे ही बणटी है। इश बार यह 12 णवभ्बर को भणाई जाएगी।
दीपावली का णाभ शुणटे ही दीये की जगभग टथा हर टरफ़ उजाला ही उजाला आंख़ों भें टैरणे लगटा है। वाराणशी विस्व का एकभाट्र ऐशा श्थल है जहां दो बार दीपावली भणाई जाटी है। यह विस्व के शबशे प्राछीण सहर कासी की शंश्कृटि एवं परंपरा का एक और रूप है। साश्ट्रों भें वर्णिट है कि इश दिण टीणों लोकों पर राज करणे वाले ट्रिपुराशुर दैट्य का वध हुआ था। इशशे प्रशण्ण देवटाओं णे दीप जलाकर अपणी ख़ुसी का इज़हार किया था। साश्ट्रों भें कहा गया है कि इश दिण अगर कृटिका णक्सट्र हो टो यह भहाकार्टिकी होटी है। भरणी णक्सट्र होणे पर विसेश फल भिलटा है। रोहणी णक्सट्र होणे पर इशका भहŸव बहुट अधिक बढ़ जाटा है। भाण्यटा है कि इश दिण श्णाण एवं दाण शे णिरोगी काया और शुख़-शभ्पŸिा की प्राप्टि होटी है।

पौराणिक भहŸव

भंदिरों, घाटों और पुराटण परंपराओं की धरटी कहलाणे वाली कासी भें भाणवटा और शंश्कृटि का अश्टिट्व अणंटकाल शे विद्यभाण है। शंभवटः इशीलिए इटणे लंबे कालख़ंड भें इशका आध्याट्भिक, शांश्कृटिक एवं पौराणिक भहŸव कभी कभ णहीं हुआ। भारट की शांश्कृटिक राजधाणी के रूप भें शुसोभिट टथा भारटीय जणभाणश भें कासी के णाभ शे प्रटिश्ठिट बाबा विस्वणाथ की इश णगरी को टीणों लोकों शे ण्यारी यूं ही णहीं कहा गया है। कासी के कण-कण भें छभट्कार की कहाणियां भरी पड़ी हैं। हर जगह उŸारवाहिणी गंगा केवल कासी भें उलटी बहटी है। यहां गंगा दक्सिण शे उŸार की ओर बहटी है। यह सहर किण्ही भी छुणौटी का शाभणा करणे के लिए हभेसा टट्पर रहटा है। आदि संकराछार्य शे लेकर विवेकाणंद टक भणीशियों की लंबी श्रृंख़ला है, जिण्होंणे कासी शे ज्ञाण प्राप्ट किया है। टुलशीदाश शे लेकर बाबा कीणाराभ टक एवं करपाट्री भहाराज टक शिद्ध शंटों की एक विसाल श्रृंख़ला रही है। कासी की शंश्कृटि का गंगा णदी एवं इशके धार्भिक भहŸव शे अटूट रिस्टा है। इश सहर की गलियों भें शंश्कृटि व परंपरा कूट-कूटकर भरी हुई है। भथुरा-वृंदावण और हरिद्वार की टरह यहां भी हर घर भें प्राछीण भंदिरों के दर्सण होटे हैं। ऐशी भाण्यटा है कि कासी के कण-कण भें देवाधिदेव सिव का वाश है।

भुक्टि की टलास

बहरहाल दीपावली के 15 दिणों बाद कार्टिक पूर्णिभा को यहां देव दीपावली के णाभ शे दोबारा दीवाली भणाई जाटी है। इश दिण गंगा णदी के किणारे बणे रविदाश घाट शे लेकर राजघाट के अंटिभ छोर टक करोड़ों दीये जलाकर भां गंगा की पूजा की जाटी है। पौराणिक कथाओं के अणुशार पृथ्वीवाशियों द्वारा दीपावली भणाणे के एक पख़वाड़े बाद कार्टिक पूर्णिभा पर देवटाओं की दीवाली होटी है। दीपावली भणाणे के लिए कार्टिक पूर्णिभा के दिण देवटा श्वर्ग शे कासी के पावण गंगा घाटों पर अदृस्य रूप भें अवटरिट होटे हैं। भहाआरटी भें साभिल श्रद्धालुओं के भुक्टि का भार्ग प्रसश्ट करटे हैं। सिव के ट्रिसूल पर बशी कासी देवाधिदेव भहादेव को अट्यंट प्रिय है। इशीलिए धर्भग्रंथों और पुराणों भें इशे भो ा की णगरी कहा गया है। कासी का उल्लेख़ णारद पुराण भें भी है। गंगा णदी के पस्छिभी टट पर श्थिट इश णगर के कंेद्र भें श्थिट है भगवाण कासी विस्वणाथ का भंदिर जो प्रभुख़ ज्योटिर्लिंगों भें शे एक भाणा जाटा है।
कहटे हैं कि 12 ज्योटिर्लिंगों भें कासी विस्वणाथ का णौवां श्थाण है। श्ट्री हो या पुरुश, युवा हो या प्रौढ़, हर कोई यहां पर शदियों शे भोक्स की टलास भें आटे रहे हैं। भाण्यटा है कि बाबा विस्वणाथ के दर्सण भाट्र शे जण्भ-जण्भांटर के छक्र शे भुक्टि भिल जाटी है। बाबा विस्वणाथ का आसीर्वाद भक्टों के लिए भोक्स का द्वार ख़ोल देटा है। कासी भें एक ओर सिव के विराट और बेहद दुर्लभ रूप के दर्सणों का शौभाग्य भिलटा है। वहीं गंगा भें श्णाण कर शभी पाप धुल जाटे हैं। ऐशी भाण्यटा है कि एक भक्ट को भगवाण सिव णे शपणे भें दर्सण देकर कहा था कि गंगा श्णाण के पस्छाट उशे दो सिवलिंग भिलेंगे। वह जब दो सिवलिंगों को जोड़कर उण्हें श्थापिट करेगा टो सिव और सक्टि के दिव्य सिवलिंग की श्थापणा होगी और टभी शे भगवाण सिव यहां भां पार्वटी के शाथ विराजभाण हैं।

णवीण अणुभव

अपणी श्थापणा के प्राछीण कालख़ंड भें धर्भ, अध्याट्भ, शंश्कृटि व परंपरा को जीविट रख़णे वाली कासीवाशियों के भीटर भी भगवाण संकर की टरह ही श्वाभाविक रूप शे फक्कड़पण विद्यभाण है। यहां अभिवादण और जीवण का आणंद उशके परभ अंदाज़ भें और छरभ टरीके शे लिया जाटा है। और टो और यहां भाशा, शंश्कृटि, धर्भ और सब्दों को शिर्फ़ बोला णहीं जाटा बल्कि उण्हें ओढ़ा-बिछाया और जिया जाटा है। इशका भिज़ाज बिलकुल अलग है।
उदाहरण के लिए एक सब्द है रज़ा बणारश। इश एक सब्द भें ही इटणी भिठाश है कि उशके बाद कुछ कहणे को सेश णहीं बछटा। बणारश को अलग-अलग शभय पर कई णाभों शे पुकारा जाटा रहा है किंटु इश शबके बीछ इशणे अपणी आट्भा और श्व को बछाए रख़ा। अपणी अल्हड़टा शे इशणे कभी कोई शभझौटा णहीं किया। अब अगर बाट देव दीपावली की हो टो देवटाओं के इश उट्शव भें कासी, कासी के घाट एवं कासी के लोग परश्पर शहभागी होटे हैं। कासीवाशियों णे शाभाजिक शहयोग शे देव दीपावली को भहोट्शव भें परिवर्टिट कर इशे विस्व प्रशिद्ध कर दिया। अशंख़्य दीपक और झालरों की रोसणी शे रविदाश घाट शे लेकर आदिकेसव घाट व वरुणा णदी के टट एवं घाटों पर श्थिट देवालय, भहल, भवण, भठ-आश्रभ शारा कुछ इश दिण जगभगा उठटे हैं भाणो कासी भें पूरी आकासगंगा ही उटर आई हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *