सामाजिक अधिकार किसे कहते हैं?

सामाजिक अधिकार किसे कहते हैं?सभ्य राज्यों में नागरिकों को प्राय: निम्नलिखित सामाजिक अधिकार प्राप्त होते हैं- 1. जीवन का अधिकार: सामाजिक अधिकारों में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण अधिकार जीवन का अधिकार है। प्रत्येक राज्य अपने नागरिकों को जीवन का अधिकार देता है। अरस्तु के मतानुसार, राज्य जीवन की रक्षा के लिए बना और वह अच्छे जीवन के […]

मूल अधिकार के नाम और उनका संक्षिप्त वर्णन

संविधान में 7  मूल अधिकार थे। लेकिन 44वें संशोधन के बाद 1978 में इन्हें 6 मूल अधिकार कर दिया गया। इस संशोधन ने 7वें मूल अधिकार सम्पति का अधिकार को समाप्त कर दिया था। यह अधिकार अनुच्छेद 31 के अंतर्गत था। भारत संविधान में अब कुल 6 मूल अधिकार है। 6 मूल अधिकार कौन कौन से हैं? निम्नलिखित है […]

अधिकार का अर्थ, परिभासा एवं भहट्व

अधिकार को शक्टि शे भी शभ्बोधिट किया जाटा है आदेशों का पालण णिवेदण करके, अणुणय द्वारा , प्रार्थणा द्वारा, श्वीकृटि या भंजूरी द्वारा, शक्टि द्वारा, उट्पीड़ण द्वारा, प्रटिबण्धों द्वारा, उट्पीड़ण द्वारा, आर्थिक व अणार्थिक दण्ड द्वारा आदि विधियों शे किया जा शकटा है। वर्टभाण शभय भें आदेशों का पालण कराणे के लिए णिवेदण या प्रार्थणा […]