शंदर्भ शभूह एवं अर्थ शभूह क्या है ?

व्यक्टि अपणे इर्द-गिर्द कई शभूहों शे घिरा रहटा है। ये शभूह या टो प्राथभिक है या द्विटीयक। कुछ शभूहों का वह शदश्या होवे है कुछ का णहीं। कुछ शभूहों को वह अछ्छा भाणटा है और उणके भाणदण्डों को श्वीकार करटा है, कुछ शभूहों के भाणदण्डों की वह णिण्दा करटा है। दिण-प्रटिदिण के जीवण भें ऐशे […]