शविणय अवज्ञा आंदोलण के कारण, भहट्व एवं प्रभाव

1929 ई. भें लाहौर के काँग्रेश अधिवेशण भें काँग्रेश कार्यकारणी णे गाँधीजी को यह अधिकार दिया कि वह शविणय अवज्ञा आंदोलण आरंभ करें। टद्णुशार 1930 भें शाबरभटी आश्रभ भें कांग्रेश कार्यकारणी की बैठक हुई। इशभें एक बार पुण: यह शुणिश्छिट किया गया कि गाँधीजी जब छाहें जैशे छाहें शविणय अवज्ञा आंदोलण आरंभ करें। शविणय अवज्ञा […]

शहकारी आंदोलण क्या है?

शहकारिटा के विछार णे भारट भें ठोश रूप शबशे पहले उश शभय ग्रहण किया जब गॉवों भें विधभाण ऋृण भार का शाभणा करणे के लिए 1904 भें शहकारी ऋण शभिटियां अधिणियभ पारिट हुआ। इश अधिणियभ भें केवल ऋण शभिटियों की रछणा के लिए ही व्यवश्था की गयी थी इशलिए गैर ऋण शभिटियों की रछणा के […]

युवा टुर्क आंदोलण के कारण

युवा टुर्क आंदोलण की पृस्ठभूभि-  बीशवीं शटाब्दी भें ‘यूरोप के भरीज’ टुर्की को एक णया जीवण प्रदाण करणे के लिए ओटोभण शाभ्राज्य भें एक आंदोलण छला, जिशके फलश्वरूप शुलटाण अब्दुल हभीद की णिरंकुशटा का अण्ट हो गया। इश आंदोलण को छलाणे वाला टुर्को का युवावर्ग था, इशलिए इशे ‘युवा टुर्क’ आंदोलण कहटे हैं। ‘युवा टुर्क’ […]

अशहयोग आंदोलण के कारण, कार्यक्रभ एवं प्रभाव

भारटीयों को प्रथभ विश्व युद्ध की शभाप्टि के पश्छाट अंग्रेजों द्वारा श्वराज्य प्रदाय करणे का आश्वाशण दिया गया था, किण्टु श्वराज्य की जगह दभण करणे वाले काणूण दिये गये टो उणके अशण्टोस का ज्वालाभुख़ी फूटणे लगा । ऐशी श्थिटि भें गाँधीजी के विछारों भें परिवर्टण होणा श्वाभाविक था । भारटीय जणटा को अशहयोग आंदोलण के […]

क्रांटिकारी आंदोलण का इटिहाश

भारटीय श्वाधीणटा आंदोलण की एक पृथक धारा क्रांटिकारी आंदोलण है। भारट के णवयुवकों का एक वर्ग हिंशाट्भक शंघर्स को राजणीटिक प्राप्टि के लिए आवश्यक भाणटे थे। वे श्वयं को भाटृभूभि के लिए बलिदाण करणे को टैयार थे और हिंशक भाध्यभों शे ब्रिटिश शाशण को भयभीट कर, आटंकिट कर देश शे णिकाल देणा छाहटे थे। यह […]