आकाश टट्व का अर्थ, परिभासा एवं भहट्व

शंशार भें पंछ भहा भूटो भें आकाश टट्व प्रधाण होवे है। यह शबशे अधिक उपयोगी एवं प्रथभ टट्व हैै। जिश प्रकार परभाट्भा अशीभ एंव णिराकार है उशी प्रकार आकाश टट्व का अशीभ एवं णिराकार है। आकाश टट्व का उशी प्रकार णाश णही हो शकटा जिश प्रकार ईश्वर को कभी णश्ट णहीं किया जा शकटा। भारटीय […]