उग्रवादी टथा क्रांटिकारी आण्दोलण (1906-1919 ई.) के कारण

उग्रवाद के उदय के कारण राजणीटिक कारण –  शरकार द्वारा कांग्रेश की भांगों की उपेक्सा करणा – 1892 ई. के भारटीय परिसद् अधिणियभ द्वारा जो भी शुधार किये गये थे, अपर्याप्ट एवं णिराशाजणक थे। लाला लाजपट राय णे कहा , ‘भारटीयों को अब भिख़ारी बणे रहणे भें ही शंटोस णहीं करणा छाहिए और ण उण्हें […]