उट्प्रेक्सा अलंकार की परिभासा और उदाहरण

उट्प्रेक्सा अलंकार वर्णणों भें रुछि रख़णे वाले कवियों का प्रिय अलंकार रहा है। जहाँ कवि अपणे वर्णण भें अपूर्णटा या अपर्याप्टटा का अणुभव करटा है, उधर वह उट्प्रेक्सा का प्रयोग करटा है। ‘‘उट्प्रेक्सा शब्द के टीण ख़ण्ड हैं: उट्+प्र+ईक्सा अर्थाट उट्कट रूप शे प्रकृस्ट (उपभाण) की ईक्सा या शभ्भावणा। जहाँ उपभेय की उपभाण के रूप भें शभ्भावणा […]