Category Archives: ऋग्वेद

ऋग्वेद का समय

ऋग्वैद धार्मिक स्तोत्रों की एक अत्यंत विशाल राशि है, जिसमें नाना देवाताओं की भिन्न-भिन्न ऋषियों ने बड़े ही सुंदर तथा भवाभिव्यंजक शब्दों में स्तुतियों एवं अपने अभीष्ट की सिद्धि के निर्मित पार्थनायें की है। द्वितीय मंडल से लेकर सप्तम मंडल तक एक ही विशिष्ट कुल के ऋषियों की प्रार्थनायें संगृहीत हैं। अष्टम मंडल में अधिकतर… Read More »

ऋग्वेद संहिता का सामान्य परिचय

भारत के प्राचीनतम ग्रन्थ वेद हैं। जीवन, जगत और ईश्वर का यर्थाथ ज्ञान वेद ही है। वेद शब्द ‘विद्-धात’ु से निष्पन्न होकर बना है, जो ज्ञान रूपी महान लाभ को देता है। जिसका अर्थ-ज्ञान का समूह है। डॉ0राधाकृश्णन् के अनुसार-वेद वस्तुत: मानव मस्तिष्क के प्राचीनतम अभिलेख हैं। वेदों का अध्ययन केवल धर्म-कर्म की दृष्टि से… Read More »