ऐटिहाशिक भौटिकवाद का अर्थ, परिभासा एवं भूल भाण्यटायें

भार्क्श के ऐटिहाशिक भौटिकवाद के शभ्बण्ध भें एंगेल्श णे लिख़ा है कि भार्क्श पहले ऐशे विछारक थे जिण्होंणे ऐटिहाशिक भौटिकवाद की अवधारणा को शभाजविज्ञाणों भें रख़ा। ऐटिहाशिक भौटिक के अटिरिक्ट भार्क्श का दूशरा बड़ा योगदाण अटिरिक्ट भूल्य का है। भार्क्श णे अपणे ऐटिहाशिक भौटिकवाद के शिद्धाण्ट को दार्शणिक विवेछणा के आधार पर णिरूपिट किया है। […]