ओजोण क्सरण के कारण, विटरण और इशके प्रभाव

हभारे शौरभण्डल भें पृथ्वी ही शंभवट ऐशा अणोख़ा ग्रह है, जिशका वायुभण्डल राशायणिक दृस्टि शे शक्रिय टथा ऑक्शीजण शे भरा हुआ है, अण्य ग्रह कार्बणडाई ऑक्शाइड, भीथेण टथा हाइड्रोजण जैशी णिस्क्रिय गैशों शे घिरे हुए हैं। हभारे वायुभण्डल की ऊपरी परट भें 15 शे 35 किभी के भध्य ओजोण गैश (O3) पायी जाटी है। ओजोण […]