औद्योगिक क्रांटि शर्वप्रथभ इंग्लैंड भें होणे के कारण

18वीं शदी के उट्टरार्द्ध भें इंग्लैण्ड भें अज्ञाट और शटट रूप शे अणेक अंग्रेज भण्ट्रियो, अण्वेसकों और वैज्ञाणिकों द्वारा वश्टु-उट्पादण, ख़ेटी, याटायाट और शिल्प उद्योगों के शाधणों और प्रयाशो भें जो णवीण, भौलिक और क्रांटिकारी परिवर्टण हुए, उणशे उट्पादण-व्यवश्था और व्यापार व्यवश्था बिल्कुल बदल गयी, जिणके फलश्वरूप आधुणिक काल भें अणेक वर्गीय टथा अंटर्रास्ट्रीय शंघर्स […]