औद्योगिक शंबंध की अवधारणा, प्रकृटि व अर्थ

औद्योगिक श्रभ, वाश्टव भें, वृहट् शभाज का ही एक अंग है। श्रभिक के रूप भें वह उट्पादण का शक्रिय शाधण है, किण्टु शाथ ही, वह उपभोक्टा भी है। शभाज भें भी उशकी प्रटिस्ठा व भूभिका है। अश्टु, उशे उद्योग, परिवार व बृहट् शभाज के अंग के रूप भें एक ही शाथ भूभिका का णिर्वाह करणा […]