Category Archives: कर्नाटक का युद्ध

प्रथम, द्वितीय, तृतीय का महत्व और परिणाम कर्नाटक का द्वितीय

कर्नाटक अपनी धन सम्पदा के लिये प्रसिद्ध था। दिल्ली के सैय्द बन्धुओं के प्रभाव से मुगल सम्राट ने मराठों को कर्नाटक से चौथ वसूल करने का अधिकार दे दिया था। जब मराठों ने कर्नाटक के नवाब दोस्त अली से चौथ की धनराषि मांगी और उसने यह धनराषि नहीं दी तो मराठों ने 1740 ई. में… Read More »