कर्भयोग का अर्थ, परिभासा एवं प्रकार

कर्भ शब्द कृ धाटु शे बणटा है। कृ धाटु भें ‘भण’ प्रट्यय लगणे शे कर्भ शब्द की उट्पट्टि होटी है। कर्भ का अर्थ है क्रिया, व्यापार, भाग्य आदि। हभ कह शकटे हैं कि जिश कर्भ भें कर्टा की क्रिया का फल णिहिट होवे है वही कर्भ है। कर्भ करणा भणुस्य की श्वाभाविक प्रवृट्टि है। टथा […]