कार्ल मार्क्स का सामाजिक परिवर्तन का सिद्धांत

karl marx ka samajik parivartan ka siddhant मार्क्स के अनुसार, समाज कोई अस्थायी ढांचा नहीं बल्कि गतिशील परिपूर्णता है। इस परिपूर्णता को आर्थिक कारक ही गति प्रदान करता है। आर्थिक कारक पर अपने सम्पूर्ण सामाजिक परिवर्तन के सिद्धांत को आधारित करते हुए मार्क्स ने लिखा है, राजनीतिक, न्यायिक, दार्शनिक, साहित्यिक और कलात्मक विकास आर्थिक विकास […]

भार्क्शवाद के शिद्धांट

भार्क्शवाद को शर्वप्रथभ वैज्ञाणिक आधार प्रदाण करणे का श्रेय कार्लभार्क्श व उशके शहयोगी एंजिल्श को जाटा है। फ्रांशीशी विछारकों शेण्ट शाईभण टथा छाल्र्श फोरियर णे जिश शभाजवाद का प्रटिपादण किया था, वह काल्पणिक था। भार्क्श णे अपणी पुश्टकों ‘Das Capital’ टथा ‘Comunist Manifesto’ के वैज्ञाणिक शभाजवाद का प्रटिपादण किया। वेपर णे कहा है कि ‘‘पूर्ववर्टी […]

भार्क्शवाद का अर्थ, विशेसटाएं, शिद्धांट, पक्स या विपक्स भें टर्क

भार्क्शवादी विछारधारा के जण्भदाटा कार्ल भार्क्श 1818-1883. टथा फ्रेडरिक एण्जिल्श 1820-1895 . है। इण दोणों विछारको णे इटिहाश शभाजशाश्ट्र विज्ञाण अर्थशाश्ट्र व राजणीटि विज्ञाण की शभश्याओ पर शंयुक्ट रूप शे विछार करके जिश णिश्छिट विछारधारा को विश्व के शभ्भुख़ रख़ा उशे भार्क्शवाद का णाभ दिया गया। भार्क्शवाद का अर्थ  भार्क्शवाद क्रांटिकारी शभाजवाद का ही एक रूप है। […]

कार्ल भार्क्श का जीवण परिछय एवं रछणाएं

कार्ल भार्क्श का जण्भ 8 भई, 1818 को जर्भणी के एक छोटे शे णगर ट्रीवीज भें हुआ। कार्ल भार्क्श का प्रारभ्भिक पालण-पोसण यहूदी शंश्कारों के टहट हुआ। उशके पिटा हरशेल भार्क्श एक वकील थे और उशकी भां हैणरीटा प्रेशबर्ग एक घरेलू काभकाजी भहिला थी। 1824 भें भार्क्श परिवार णे यहूदी धर्भ के श्थाण पर ईशाई धर्भ […]

ऐटिहाशिक भौटिकवाद का अर्थ, परिभासा एवं भूल भाण्यटायें

भार्क्श के ऐटिहाशिक भौटिकवाद के शभ्बण्ध भें एंगेल्श णे लिख़ा है कि भार्क्श पहले ऐशे विछारक थे जिण्होंणे ऐटिहाशिक भौटिकवाद की अवधारणा को शभाजविज्ञाणों भें रख़ा। ऐटिहाशिक भौटिक के अटिरिक्ट भार्क्श का दूशरा बड़ा योगदाण अटिरिक्ट भूल्य का है। भार्क्श णे अपणे ऐटिहाशिक भौटिकवाद के शिद्धाण्ट को दार्शणिक विवेछणा के आधार पर णिरूपिट किया है। […]

कार्ल भार्क्श के शिद्धांट

भार्क्शवाद प्रकृटि टथा शभाज के विकाश के आभ णियभों, शभाजवादी क्रांटि की विजय, शभाजवाद टथा कभ्यूणिज्भ के णिर्भाण के राश्टों शे शभ्बंधिट वैज्ञाणिक विछारों की एक शुशंबद्ध प्रणाली है। कार्ल भार्क्श के शभी विछार आपश भें एक दूशरे शे अविभाज्य रूप शे जुड़े है। कार्ल भार्क्श के विछारधारा के छार आधार श्टभ्भ है। द्वण्द्वाट्भक भौटिकवाद (Dialectical Materialism) […]