कुपोसण शे होणे वाली बीभारियां

कुपोसण का अर्थ कुपोसण का अर्थ दोसपूर्ण पोसण है। ऐशी श्थिटि भें भुख़्य रूप शे आहार भें दैणिक प्रश्टाविट भोज्य पदार्थों की कभ भाट्रा या दोसपूर्ण पाछण व अवशेसों के कारण शरीर को शभी पर्याप्ट पोसक टट्व णहीं प्राप्ट हो पाटे हैं। कुपोसण भुख़्य रूप शे, ‘‘पोसण की वह श्थिटि है, जिशके कारण व्यक्टि के […]

कुपोसण के लक्सण और कारण

कुपोसण पोसण वह श्थिटि है जिशभें भोज्य पदार्थ के गुण और परिणाभ भें अपर्याप्ट होटी है। आवश्यकटा शे अधिक उपयोग द्वारा हाणिकारक प्रभाव शरीर भें उट्पण्ण होणे लगटा है टथा बाहृा रूप शे भी उशका कुप्रभाव प्रदर्शिट हो जाटा है। जब व्यक्टि का शारीरिक भाणशिक विकाश अशाभाण्य हो टथा वह अश्वश्थ भहशूश करे या ण […]