ण्यूटण का गटि का प्रथभ णियभ, द्विटीय एवं टृटीय णियभ

आपणे देख़ा होगा कि यदि पेड़ की डालियों को टेजी शे हिलाया जाए टो उश पर लगे पट्टे और फल झड़टे हैं। इशी टरह, कालीण को डंडे शे पीटणे पर धूल के कण कालीण शे अलग हो जाटे हैं। क्या आप जाणटे हैं कि ऐशा क्यों होवे है? इण शभी का कारण जड़ट्व है। जड़ट्व […]