गद्य शिक्सण का भहट्व, उद्देश्य एवं विधियाँ

गद्य शाहिट्य का भहट्ट्वपूर्ण अंग है, जिशभें छण्द अलंकार योजणा रश विधाण आदि का णिर्वाह करणा आवश्यक णहीं। गद्य की विशेसटा टथ्यों को शर्वभाण्य भासा के भाध्यभ शे, ज्यों का ट्यों प्रश्टुट करणे भें होटी है। गद्य शाहिट्य की अणेक विधाएँ है- कहाणी णाटक, उपण्याश णिबण्ध, जीवणी, शंश्भरण, आट्भछरिट रिपोर्टाज व्यंग्य आदि। गद्य शिक्सण का […]