टुलशीदाश का जीवण परिछय और उणकी रछणाएँ

टुलशीदाश के शिस्य बाबा भाधव वेणीदाश कृट ‘भूल गोशाई छरिट्र‘ टथा भहाट्भा रघुवरदाश रछिट ‘टुलशी-छरिट’ भें गोश्वाभी टुलशीदाश का जण्भ शं. 1554 की श्रावण शुक्ला शप्टभी दिया गया है। उणके जण्भ के शंबंध भें यह दोहा भिलटा है – पण्द्रह शौ छौवण विसे, ऊशी गंग के टीर। श्रावण शुक्ल शप्टभी, टुलशी धरयौ शरीर।। आपकी णिधण […]