Category Archives: चिकित्सा

प्राण चिकित्सा का अर्थ, प्राण चिकित्सा की विधि

प्राण चिकित्सा के अन्तर्गत उपचारक अपने हाथों के माध्यम से ब्रह्माण्डीय प्राणऊर्जा को ग्रहण करके हाथों द्वारा ही रोगी व्यक्ति में प्रक्षेपित करता हैं। इस प्रकार इस चिकित्सा पद्धति में चिकित्सक रोगी की प्राणशक्ति को प्रभावित करके उसे स्वास्थ्यलाभ प्रदान करता है। प्राण चिकित्सा के द्वारा न केवल दूसरों का वरन् स्वयं का भी उपचार… Read More »

सर्प विष चिकित्सा

सर्प विष चिकित्सा में 18 प्रकार के सर्पो की जातियों का उल्लेख किया गया है। 1-कैरात (जहाँ भील रहते हैं, उन जंगलों में रहने वाले सर्प) 2-पृष्नि (धब्बों वाला चितकबरा सर्प), 3-उपतृण्य (घास में रहने वाला), वाले), 5-अलीक (निर्विश साँप), 6-तैमात (जलीय स्थान में रहने वाले), 7-अपोदक (मरुस्थल में होने वाले), 8-सत्रासाह (आक्रमणकारी 4-बभ्रु (भुरे… Read More »