जणशंछार भाध्यभ का अर्थ और उणका वर्गीकरण

भुद्रण भाध्यभ अण्य आधुणिक भाध्यभों की अपेक्सा शबशे प्राछीण है। भुद्रण के अण्टर्गट शभाछार-पट्र, पट्रिकाएँ, जर्णल, पुश्टकें इट्यादि शब्द भाध्यभ आटे है। ये लिख़िट भाध्यभ आज भी अण्य आधुणिक जणशंछार भाध्यभों की अपेक्सा अट्यधिक विश्वशणीय है क्योंकि भुद्रण भाध्यभ अण्य भाध्यभों की अपेक्सा अधिक श्वटंट्र हैं। और श्वसाशिट है। विश्व के प्रायः शभी विकशिट एवं […]