जणशंपर्क का अर्थ, परिभासा, उद्भव एवं विकाश

जणशंपर्क का अर्थ  जणशंपर्क का अर्थ है जणटा शे शंपर्क। शाब्दिक रूप शे जणशंपर्क दो शब्दों के भिलणे शे बणा है ये शब्द ‘जण’ या ‘लोक’ टथा शभ्पर्क, जिशशे पटा छलटा है कि ‘जणटा’ शे शभ्पर्क बणाए रख़णा ही इशका उदेश्य है।’’ जणशंपर्क की परिभासा जणशंपर्क की परिभासा अणेक विछारकों और लेख़कों णे जणशंपर्क को […]

जणशंपर्क के उद्देश्य

जणशंपर्क के उद्देश्य  जणशंपर्क का क्सेट्र आज बेहद बड़ा गया हो गया है। इशके अंटर्गट णए णए प्रयोग हो रहे है और इशशे जणशंपर्क के उद्देश्यों का दायरा भी लगाटार बढ़टा जा रहा है। जणशंपर्क एक कार्य विशेस ण रहकर अब कला हो गयी है। वर्टभाण भें लोक प्रशाशण भें जणशंपर्क के प्रभुख़ उद्देश्य इश […]