Category Archives: त्रिपिटक

त्रिपिटक क्या है?

बौद्ध धर्म के मूल व पवित्र-ग्रन्थों में पालि ‘त्रिपिटक’ प्रमुख है जो बौद्ध धर्म का मूल आधार है। ‘त्रिपिटक’ दो शब्दों के योग से बना है-त्रि+पिटक। ‘त्रि‘ का अर्थ ‘तीन’ और ‘पिटक’ का अर्थ ‘पिटारी’ या ‘मंजूषा’ है। इस प्रकार त्रिपिटक का शाब्दिक अर्थ होगा ‘तीन पिटारियाँ’। वे तीन पिटारियाँ है-सुत्त-पिटक, विनय-पिटक, अभिधम्म-पिटक। त्रिपिटक एक… Read More »