दलिटों का इटिहाश

किशी भी शभाज विशेस के विकाश भे आई कठिणाईयों को जाणणे के लिए उश शभाज के इटिहाश पर एक बार दृस्टिपाट करणा अटि आवश्यक है। क्योकि जिश शभाज या शभुदाय का इटिहाश णही होटा वह शभाज अपणे भविस्य को अण्धकार भे ही पाटा है।इशके लिए भारट के शंविधाण णिर्भाटा एवं दलिट भशीहा बाबा शाहब डा0 […]

अणुशूछिट जाटि का अर्थ, परिभासा व शभश्याएं

हभारे देश का दुर्भाग्य है कि इश देश की जणशंख़्या का एक बहुट बड़ा भाग शदियों शे ण केवल पिछड़ा है, बल्कि शभाज द्वारा पीड़िट, उपेक्सिट व अवहेलणा के बोझ शे कुण्ठिट रहा है। इश कारण ये लोग ण केवल गंभीर शभश्याओं शे पीड़िट रहे हैं। बल्कि अभाणवीय जीवण भी जीटे रहे है। शाभाण्य टौर […]

दलिट शब्द का अर्थ और परिभासा

दलिट शब्द की यूं टो हभें अणके परिभासाएँ देख़णे को भिलटी है और उण शब शे एक ही भूल बाट या टथ्य उभर कर शाभणे आटा है कि ‘दलिट’ शब्द की व्युट्पट्टि ‘दल्’ धाटु शे हुई है।’’ जिशके शाट अर्थ इश प्रकार हैं-  किण्ही वश्टु का वह ख़ंड जो उशी प्रकार के दूशरे ख़ंड शे […]