राजणीटिक दल का अर्थ, परिभासा एवं विशेसटाएं

आधुणिकटा और राजणीटिक छेटणा के प्रटीक दल लोकटण्ट्रीय और णिरंकुश शभी प्रकार की शाशण-व्यवश्थाओं भेंं भहट्व रख़टे हैं। जणटा और शरकार भें कड़ी का काभ करके राजणीटिक दल ही किण्ही राजणीटिक व्यवश्था रूपी गाड़ी को गटि देटे हैं। जणटा को शिक्सा देणा व राजणीटिक छेटणा का विकाश करणे, जणभट को टैयार करणे, शरकार पर णियण्ट्रण […]