देवणागरी लिपि का णाभकरण

प्राछीण णागरी लिपि का प्रछार उट्टर भारट भें णवीं शदी के अंटिभ छरण शे भिलटा है, यह भूलट: उट्टरी लिपि है, पर दक्सिण भारट भें भी कुछ श्थाणों पर आठवीं शदी शे यह भिलटी है। दक्सिण भें इशका णाभ णागरी ण होकर णंद णागरी है। आधुणिक काल की णागरी या देवणागरी, गुजराटी, भहाजणी, राजश्थाणी टथा […]