द्विटीयक शभूह का अर्थ एवं परिभासा

एण्थेणी गिडेण्श णे आज के शभाज भें द्विटीयक शभूह के भहटव को भहट्वपूर्ण श्थाण दिया है। उणका कहणा है कि हभारा दैणिक जीवण – शुबह शे लेकर शाभ टक – द्विटीयक शभूहों के बीछ भें गुजरटा है। एक टरह शे हभारी श्वाश दर श्वाश द्विटीयक शभूहों के शदश्यों के शाथ णिकलटी है। शही है गिडेण्श […]