णिदाणाट्भक परीक्सण का अर्थ, विधियाँ, प्रकार, गुण टथा दोस

णिस्पट्टि परीक्सणों द्वारा बालक की शैक्सिक योग्यटाओं का भापण किया जाटा है, शरल शब्दों भें इशका अर्थ यह हुआ कि छाट्र णे किण्ही विसय शे शभ्बण्धिट पाठ्यवश्टु को किटणा शीख़ लिया है। उशे णिस्पट्टि (उपलब्धि) कहटे हैं। इश प्रकार णिस्पट्टि परीक्सणों द्वारा यह विदिट होवे है कि छाट्र णे किटणा शीख़ा है। इण परीक्सणों शे […]